Mahashivratri 2018, Maha Shivratri 2018, Lord Shiva Puja Aarti, Bhajan and Mantra in Hindi MP3 Video: Top bhajans devotional songs remember lord shiva maha shivratri - Maha Shivratri 2018 Aarti, Bhajan: भोले के भजनों से मचेगी धूम और होंगे भक्त चिंताओं से मुक्त - Jansatta
ताज़ा खबर
 

Maha Shivratri 2018 Aarti, Bhajan: भोले के भजनों से मचेगी धूम और होंगे भक्त चिंताओं से मुक्त

Maha Shivratri 2018, Lord Shiva Puja Aarti, Bhajan: अविवाहित महिलाएं सुवर के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करती हैं, वहीं पर विवाहित महिलाएं अपने पति और परिवार के लिए मंगलकामना करती हैं।

Lord Shiva Puja Aarti, Bhajan: शिवरात्रि के दिन शिवलिंग का अभिषेक जल और बेल पत्रों से किया जाता है।

Maha Shivratri 2018 Aarti, Bhajan: महाशिवरात्रि हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक माना जाता है। इस दिन भगवान शिव के भक्त पूरी रात जागकर शिव की आराधना में भजन करते हैं। इस दिन कुछ लोग उपवास भी करते हैं। शिवलिंग पर जल और बेलपत्र चढ़ाने के बाद ही उपवास तोड़ा जाता है। महिलाओं के लिए शिवरात्रि का विशेष महत्व होता है। अविवाहित महिलाएं सुवर के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करती हैं, वहीं पर विवाहित महिलाएं अपने पति और परिवार के लिए मंगलकामना करती हैं। पौराणिक मान्यता के अनुसार माता पार्वती ने भगवान शिव से पूछा था कि आप किस वस्तु से सबसे ज्यादा प्रसन्न होते हैं तो भगवान शिव ने कहा था कि जो भक्त उनके लिए श्रद्धाभाव से व्रत करता है उनसे वो सबसे अधिक प्रसन्न होते हैं। इस दिन श्रद्धालु अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए शिवालयों में जलाभिषेक और पूजा अर्चना करते हैं।

शिवरात्रि के प्रचलित सभी पौराणिक कथाओं में प्रचलित कथाओं में नीलकंठ की कहानी सबसे ज्यादा चर्चित मानी जाती है। मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन ही समुद्र मंथन के दौरान कालकेतु विष निकला था। भगवान ने संपूर्ण ब्रह्माण की रक्षा के लिए स्वयं ही सारा विष पी लिया था, जिस कारण उनका गला नीला पड़ गया और उन्हें नीलकंठ के नाम से जाना गया। एक अन्य मान्यता के अनुसार फाल्गुन माह का 14 वां दिन भगवान शिव का प्रिय दिन माना जाता है, इसी कारण से इस दिन महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। भगवान शिव ने इसी दिन माता पार्वती के साथ विवाह किया था।

महाशिवरात्रि के दिन हर कोई अपने तरीके से भगवान शिव और माता पार्वती की आराधना करता है लेकिन सभी का उद्देश्य भगवान शिव से आशीर्वाद पाना होता है। मान्यता है कि महाशिवरात्रि की पूजा जो भक्त सच्चे दिल से करता है उसे भोलेनाथ मनचाहा वरदान देते हैं। भक्ति-भाव में श्रद्धा होने से ही भोलेनाथ सुख-समृद्धि का वरदान देते हैं। शिव की आराधना के लिए कई महत्वपूर्ण भजन बने हैं जो शिव की पूजा, सत्संग आदि में भी प्रयोग किए जाते हैं। पहले के समय में थोड़े अलग तरह के भजन और गीत हुआ करते थे उनमें अधिक शोर गुल नहीं हुआ करता था। सरल और सीधे गीत भक्तों के मन को मोह लेते थे लेकिन जैसे समय बदला वैसे ही भजन और गीतों में भी बदलाव आना शुरु हो गया। महाशिवरात्रि के पर्व पर आज हम आपके लिए कुछ चुनिंदा शिव आराधना के भजन लेकर आए हैं जिन्हें सुनकर आप अपनी चिंताओं से मुक्त हो सकते हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App