ताज़ा खबर
 

Lohri 2020: लोहड़ी पर्व की पूजा विधि, कथा, मुहूर्त, महत्व और सभी डिटेल मिलेगी यहां

मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2020) के दिन से पहले वाली रात को ये पर्व सेलिब्रेट किया जाता है। सूर्यास्त के बाद लोग अपने घरों के आस पास मिलकर लोहड़ी जलाते हैं। इस पर्व पर गोबर के उपलों की माला बनाकर मन्नत पूरी होने की खुशी में लोहड़ी की अग्नि में ये माला भेंट की जाती है।

lohri, lohri 2020, lohri 2020 date, lohri puja, lohri puja vidhi, lohri puja time, lohri puja time 2020, lohri puja timings, lohri puja muhurat, lohri puja time 2020, lohri puja shubh muhurat, lohri puja muhurat, lohri items, lohri puja items, lohri puja items 2020, lohri date in delhi, lohri date in punjab, lohri puja in hindiLohri 2020 Date, Puja Vidhi: कई जगह लोहड़ी के पर्व पर आद्यशक्ति, श्रीकृष्ण व अग्निदेव की विशेष पूजा की जाती है।

लोहड़ी का पर्व बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है। वैसे तो ये पर्व मुख्य रूप से पंजाब का पर्व है लेकिन अब इसे कई जगहों पर मनाया जाने लगा है। इस दिन शाम के समय अग्नि प्रज्वलित की जाती है जिसे लोहड़ी कहते हैं। इस लोहड़ी के पास लोग नाच गाकर जश्न मनाते हैं। नव विवाहितों के लिए ये पर्व काफी खास होता है। ये लोग लोहड़ी की पवित्र अग्नि में गुड़, रेवड़ी, गजक और फुल्ले डालकर इसकी परिक्रमा करते हुए अपने खुशहाल जीवन की कामना करते हैं। जानिए लोहड़ी की पूजा विधि और मुहूर्त…

क्या है लोहड़ी और इसका मुहूर्त: मकर संक्रांति के दिन से पहले वाली रात को ये पर्व सेलिब्रेट किया जाता है। सूर्यास्त के बाद लोग अपने घरों के आस पास मिलकर लोहड़ी जलाते हैं। इस पर्व पर गोबर के उपलों की माला बनाकर मन्नत पूरी होने की खुशी में लोहड़ी की अग्नि में ये माला भेंट की जाती है। इसे चर्ख चढ़ाना कहा जाता है। लोहड़ी का अर्थ है – ल से लकड़ी, ओह यानी सूखे उपले और ड़ी यानी रेवड़ी।

ऐसे भी मनाई जाती है लोहड़ी: कई जगह लोहड़ी के पर्व पर आद्यशक्ति, श्रीकृष्ण व अग्निदेव की विशेष पूजा की जाती है। इसके लिए घर की पश्चिम दिशा में पश्चिममुखी होकर महादेवी का चित्र स्थापित करें। उनके आगे सरसों के तेल का दीपक जलाएं, सिंदूर और बेलपत्र चढ़ाएं, रेवड़ियों का भोग लगाएं। अब सूखा नारियल लें उसमें कपूर डालकर अग्नि प्रज्वलित कर रेवड़ियां, मूंगफली व मक्का अर्पित करें और इसकी सात बार परिक्रमा करें।

Live Blog

Highlights

    10:55 (IST)13 Jan 2020
    Lohri Puja Vidhi: लोहड़ी पर ऐसे करें पूजा...

    -घर की पश्चिम दिशा में पश्चिममुखी होकर काले कपड़े पर महादेवी का चित्र स्थापित कर पूजन करें।-सरसों के तेल का दीपक जलाएं, लोहबान से धूप करें, सिंदूर चढ़ाएं, बेलपत्र चढ़ाएं, रेवड़ियों का भोग लगाएं।-सूखे नारियल के गोले में कपूर डालकर अग्नि प्रज्वलित कर रेवड़ियां, मूंगफली व मक्का अग्नि में डालें।-इसके बाद सात बार अग्नि की परिक्रमा करें।-लोहड़ी पूजा के साथ इस मंत्र का जाप करें: पूजन मंत्र: ॐ सती शाम्भवी शिवप्रिये स्वाहा॥-लोहड़ी का पर्व मूलतः आद्यशक्ति, श्रीकृष्ण व अग्निदेव के पूजन का पर्व है।

    10:33 (IST)13 Jan 2020
    इस बार दो दिन क्यों मनाया जायेगा लोहड़ी पर्व? जानिए...

    आमतौर पर हर साल लोहड़ी पर्व 13 जनवरी को मनाया जाता है। लेकिन इस बार इसकी तारीखों को लेकर मतभेद है। क्योंकि इस पर्व को मकर संक्रांति से एक दिन पहले मनाने की परंपरा है। जो कि इस बार संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जा रही है। इसलिए पंचांगों में साल 2020 में लोहड़ी 14 जनवरी को बताई गई है। वहीं कुछ लोग 13 जनवरी को भी लोहड़ी मनायेंगे। 

    09:57 (IST)13 Jan 2020
    जानिए लोहड़ी पर क्यों जलाई जाती है आग...

    ऐसा कहा जाता है कि राजा दक्ष की पुत्री सती की याद में आग को जलाया जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार, एक बार राजा दक्ष ने यज्ञ करवाया था, लेकिन इसमें अपने दामाद शिव और पुत्री सती को आमंत्रित नहीं किया। इस बात से नाराज़ होकर सती अपने पिता के पास जवाब लेने पहुंची। वहां, पति शिव की निंदा वह बर्दाश्त नहीं कर पाईं और उन्होंने खुद को उसी यज्ञ में भस्म कर दिया। सती की मृत्यु का समाचार सुन भगवान शिव ने वीरभद्र को उत्पन्न कर उसके द्वारा यज्ञ का विध्वंस करा दिया।

    09:42 (IST)13 Jan 2020
    दुल्ला भट्टी की याद में मनाया जाता है लोहड़ी पर्व...

    लोहड़ी को लेकर मान्यता है कि सुंदरी एवं मुंदरी नाम की लड़कियों को सौदागरों से बचाकर दुल्ला भट्टी ने हिंदू लड़कों से उनकी शा‍दी करवा दी थी। पौराणिक मान्यता अनुसार सती के त्याग के रूप में भी यह त्योहार मनाया जाता है। वहीं एक और मान्यता है, कहा जाता है कि संत कबीर की पत्नी लोई की याद में यह पर्व मनाया जाता है।  

    Next Stories
    1 Sakat Chuth, Ganesh Ji Ki Aarti: जय गणेश जय गणेश देवा…भगवान गणेश की इस आरती को उतार कर सकट व्रत की पूजा करें संपन्न
    2 Sakat Chauth Ki Katha: सकट चौथ व्रत की 3 पौराणिक कथाएं यहां, इन तीनों में से एक कथा को पढ़ अपना व्रत करें पूरा
    3 आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang) 13 January 2020: पंचांग से जानिए सकट चौथ व्रत पूजन का शुभ मुहूर्त और चंद्रोदय का समय
    ये पढ़ा क्या?
    X