ताज़ा खबर
 

जानिए, घर के पूजा स्थल पर क्यों नहीं रखनी चाहिए ये चीज

प्रत्येक व्यक्ति अपने हिसाब से पूजा स्थल को सही जगह देने की कोशिश करता है। लेकिन पूरी जानकारी न होने की वजह से कभी-कभी हम ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसे धार्मिक दृष्टिकोण से सही नहीं माना गया है।

Pooja Mandir, Home Temple, Worship Place Of home, Things not kept at Worship Place, Worship Place according to vastu, vastu shastra, pooja mandir for home, pooja mantra, lord ganesha, genesh mantra, Worship method, pooja vidhi, religion newsघर का पूजा स्थल।

घर का पूजा स्थल हर घर में अलग-अलग स्थानों और दिशाओं में होता है। प्रत्येक व्यक्ति अपने हिसाब से पूजा स्थल को सही जगह देने की कोशिश करता है। लेकिन पूरी जानकारी न होने की वजह से कभी-कभी हम ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसे धार्मिक दृष्टिकोण से सही नहीं माना गया है। कहते हैं कि इन गलतियों का हमारे भाग्य पर बुरा असर पड़ता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का पूजा स्थान ईशान कोण यानि उत्तर-पूर्व दिशा में होना शुभ होता है। इस दिशा में पूजा घर होने से घर में और उसमें रहने वाले लोगों पर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। आगे जानते हैं कि घर के पूजा स्थल पर कौन से चीज नहीं रखना चाहिए।

घर के पूजा स्थान पर सभी गणेश जी की मूर्ति रखते हैं। लेकिन पूजा स्थल पर गणेश जी की तीन मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि भगवान गणेश की तीन मूर्तियां पूजा-स्थल पर रखना अशुभ होता है। घर के पूजा मंदिर में शंख रखना शुभ माना गया है। लेकिन पूजा स्थल पर एक शंख ही रखना चाहिए। एक से अधिक शंख रखना अशुभकारक माना गया है। भगवान शिव के भक्त घर के पूजा मंदिर में शिवलिंग रखते हैं। इसे रखना शुभ माना गया है। परंतु मान्यता ऐसी है कि पूजा स्थल पर अपने अंगूठे से बड़ा शिवलिंग नहीं रखना चाहिए।

शास्त्रों के अनुसार टूटी हुई मूर्तियों की पूजा वर्जित है। माना जाता है कि जो मूर्तियां टूट जाती हैं उसे पूजा स्थल से हटा देना चाहिए। इसे किसी पवित्र बहती नदी में प्रवाहित कर देना चाहिए। पूजा के समय भगवान को चढ़ाए जाने वाले फूल या फूल माला बिना धोए नहीं चढ़ाना चाहिए। साथ ही पूजा के समय कभी खंडित दीपक नहीं जलाना चाहिए। क्योंकि धार्मिक कार्यों में खंडित सामाग्री का इस्तेमाल सही नहीं माना गया है। पूजा में घी के दीपक के लिए सफेद रुई की बत्ती इस्तेमाल करना चाहिए। जबकि तेल के दीपक के लिए लाल धागे की बत्ती श्रेष्ठ बताई गई है।

Next Stories
1 विष्णु पुराण: जानिए कौन-कौन से हैं भगवान विष्णु के दस अवतार
2 ज्योतिष के अनुसार जानिए क्यों आती है विवाह में अड़चनें?
3 जानिए, कौन थे महाभारत के पांच सबसे शक्तिशाली योद्धा
कोरोना LIVE:
X