ताज़ा खबर
 

शादीशुदा महिलाएं क्यों लगाती हैं मांग में सिंदूर, जानें क्या है महत्व

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार माना जाता है कि लाल रंग के माध्यम से सती और पार्वती की ऊर्जा को व्यक्त किया गया है।
हिंदू मान्यता है कि माता लक्ष्मी धरती पर पांच स्थानों पर रहती हैं।

शादीशुदा महिलाओं की जिंदगी में सिंदूर का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। हिंदू धर्म में इसे सुहाग की निशानी माना जाता है। अपने घर में कितनी बार माता और बहन सभी को सिंदूर लगाते हुए देखा है। माना जाता है कि सिंदूर के बिना सुहागन का श्रृंगार अधूरा होता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार सिंदूर को अध्यात्म से जोड़कर देखा जाता है। आज हम जानने का प्रयास करेंगे कि इसे केवल शादी और सुहाग की निशानी से ही लगाया जाता है या इसके पीछे कोई वैज्ञानिक कारण हैं। हिंदू मान्यताओं के अनुसार माना जाता है कि पति की लंबी उम्र के लिए मांग में सिंदूर भरा जाता है। इसके लिए रामायण में भी कथा प्रचलित है। इसके साथ ही माना जाता है कि विधवा महिलाएं मांग में सिंदूर नहीं भरती हैं।

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार माना जाता है कि लाल रंग के माध्यम से सती और पार्वती की ऊर्जा को व्यक्त किया गया है। सती को एक आदर्श पत्नी के रुप में हमारे समाज में मान्यता प्राप्त है। माना जाता है कि देवी पार्वती सिंदूर लगाने से अखंड सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद देती हैं। सिंदूर लगाने के कई वैज्ञानिक कारण भी बताए जाते हैं कि माना जाता है कि सिंदूर के माध्यम से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। ये मन को शांत रखता है जिससे स्वास्थ भी अच्छा रहता है। दिमाग शांत रखने में ये महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

हिंदू मान्यता है कि माता लक्ष्मी धरती पर पांच स्थानों पर रहती हैं। इसी के साथ माता लक्ष्मी को सिर पर स्थान दिया जाता है। माता को सम्मान देने के लिए ही माथे पर कुमकुम लगाया जाता है। देवी लक्ष्मी धन-धान्य से हमें भरपूर करती हैं। माना जाता है कि महिलाओं के सिंदूर लगाने की परंपरा सिर्फ उत्तर भारत में ही है। दक्षिण भारत में सिंदूर लगाने की किसी भी तरह की परंपरा नहीं है। इसी के साथ सिंदूर लगाने के लिए परंपरा है कि पति के हाथों ही मांग में सिंदूर लगाना चाहिए। ये पति-पत्नी के रिश्ते का प्रतीक माना जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.