Krishna Janmashtami 2019 Date: 23 को मनी जन्माष्टमी, अब 24 की बारी, मथुरा-वृंदावन में मची धूम

Krishan Janmashtami 2019 Date in India: मामला अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के बीच फंस गया। अष्टमी तिथि 23 अगस्त को सुबह करीब 8 बजे से शुरू हो गई थी। वहीं, रोहिणी नक्षत्र 24 अगस्त को तड़के 3:46 बजे शुरू हुआ।

Krishan Janmashtami 2019 Date: जन्माष्टमी को लेकर धूम, सजने लगा मथुरा-वृंदावन pic credit- jansatta

तिथि और नक्षत्र के बीच फंसे जन्माष्टमी के त्योहार का एक दिन बीत चुका है। देश के कई हिस्सों में 23 अगस्त को कृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया। हालांकि, काफी जगह 24 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई जा रही है, जिसकी तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। दरअसल, मामला अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के बीच फंस गया। अष्टमी तिथि 23 अगस्त को सुबह करीब 8 बजे से शुरू हो गई थी। वहीं, रोहिणी नक्षत्र 24 अगस्त को तड़के 3:46 बजे शुरू हुआ। यहां तक कि मथुरा और वृंदावन में भी लोग दोनों ही दिन इस त्योहार को मना रहे हैं।

2 दिन मनाई जा रही जन्माष्टमी: गौरतलब है कि 2019 में शुभ मुहूर्त की वजह से लोग जन्माष्टमी को 2 दिन मना रहे हैं। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक, अष्टमी 23 अगस्त को सुबह 8:09 बजे शुरू हुई और 24 अगस्त को सुबह 8:23 बजे तक रही। ऐसे में कुछ लोगों ने 23 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई। वहीं, काफी लोग 24 अगस्त को यह त्योहार मना रहे हैं। 24 अगस्त को जन्माष्टमी मनाने वालों का तर्क है कि 24 अगस्त को तड़के 3:46 बजे से रोहिणी नक्षण शुरू हुआ, जो 25 अगस्त को तड़के 4:15 बजे खत्म होगा।

बृज के मंदिरों में इस दिन मनेगी जन्माष्टमी: मथुरा और वृंदावन के मंदिरों में जन्माष्टमी अलग-अलग दिन मनाई जाएगी। मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मस्थान में जन्माष्टमी 24 अगस्त को होगी। वृंदावन के इस्कॉन मंदिर, गोकुल व द्वारिकाधीश मंदिर ने भी जन्माष्टमी 24 अगस्त को ही मनाने का फैसला किया है। हालांकि, वृंदावन के बांकेबिहारी मंदिर में जन्माष्टमी का त्योहार 23 अगस्त को मनाया गया। वहीं, प्रेम मंदिर, नंदगांव व प्राचीन केशवदेव मंदिर में भी जन्माष्टमी 23 अगस्त को ही मनाई गई।

[bc_video video_id=”5830180677001″ account_id=”5798671092001″ player_id=”JZkm7IO4g3″ embed=”in-page” padding_top=”56%” autoplay=”” min_width=”0px” max_width=”640px” width=”100%” height=”100%”]

वैष्णव समुदाय 24 को ही मनाएगा जन्माष्टमी: मथुरा के ज्योतिषाचार्य कामेश्वर चतुर्वेदी का कहना है कि वैष्णव समुदाय के लोग 24 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाएंगे। उनका मानना है कि भगवान श्रीकृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में हुआ था, वह 24 अगस्त को आ रहा है। रोहिणी नक्षण 24 अगस्त को तड़के 3:46 बजे शुरू हो गया है। यह 25 अगस्त को तड़के 4:15 बजे तक रहेगा। वहीं, दृश्य गणित के पंचांगों के मुताबिक, 23 अगस्त को सुबह 8:08 बजे अष्टमी शुरू हुई थी। ऐसे में काफी लोगों ने 23 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट