ताज़ा खबर
 

नाखून के बार-बार टूटने और इसे चबाने की आदत का आपके बुरे दिनों से क्या है कनेक्शन, जानिए

ऐसा माना जाता है कि हाथ की मध्यमा अंगुली व्यक्ति की मानसिक स्थिति को दर्शाती है। इससे पता चलता है कि व्यक्ति की परेशानियों से जुझने की क्षमता कितनी है।

Author नई दिल्ली | July 30, 2018 6:20 PM
सांकेतिक तस्वीर।

आपने ऐसे लोगों को देखा होगा, जिन्हें नाखून चबाने की आदत होती है। इसके साथ ही कुछ लोगों के नाखून बार-बार टूटते रहते हैं। क्या आप जानते हैं कि ऐसा होना आपके बुरे दिनों का संकेत है। जी हां, ज्योतिष शास्त्र में इस बारे में विस्तार से वर्णन किया गया है। ज्योतिष में नाखून का शनि ग्रह से कनेक्शन बताया गया है। इसलिए कहते हैं कि शनि ग्रह को मजबूत रखना हो तो अपने नाखूनों की साफ-सफाई पर ध्यान दें। कहते हैं कि तर्जनी अंगुली का नाखून टूटना बुरा माना गया है। माना जाता है कि तर्जनी अंगुली का नाखून टूटने पर व्यक्ति को अपने जीवन में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसके साथ ही ऐसा होने से पुरानी समस्याओं के खत्म ना होने की बात कही गई है।

ऐसा माना जाता है कि हाथ की मध्यमा अंगुली व्यक्ति की मानसिक स्थिति को दर्शाती है। इससे पता चलता है कि व्यक्ति की परेशानियों से जुझने की क्षमता कितनी है। कहते हैं मध्यमा अंगुली के नाखून का टूटना व्यक्ति की मानसिक कमजोरी को दर्शाता है। मालूम हो कि अनामिका अंगुली का संबंध व्यक्ति की भावनाओं से बताया गया है। कहा जाता है कि अनामिका अंगुली के नाखून का टूटना व्यक्ति के अकेलेपन का संकेत होता है। यह व्यक्ति के कमजोर आत्मविश्वास को भी दर्शाता है।

माना जाता है कि कनिष्का अंगुली के नाखून का टूटना व्यक्ति के दांपत्य जीवन की कमजोरी को दर्शाता है। वहीं, अंगूठे के नाखून के टूटने को व्यक्ति की कमजोर इच्छाशक्ति का प्रतीक माना गया है। बता दें कि हाथ के नाखून को बार-बार चबाना अच्छा नहीं माना जाता है। कहते हैं कि ऐसा व्यक्ति मानसिक तनाव की स्थिति में करता है। मान्यता है कि नाखून के बार-बार चबाने से व्यक्ति के तनाव में होने का संकेत मिलता है। इसलिए ऐसा करने से बचने की सलाह दी जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App