ताज़ा खबर
 

Sai Baba Vrat Katha: साईं बाबा व्रत की महिमा बताती है उनकी ये व्रत कथा

Thursday Fast for Sai Baba: कोई भी व्रत बिना व्रत कथा को पढ़े पूरा नहीं माना जाता है। अगर आपने साईं बाबा का व्रत रखा है तो आपके लिए इस कथा को पढ़ना बेहद जरूरी है।

sai baba vrat katha, sai baba fast katha, thursday fast story, sai baba vrat importance, sai baba vrat story in hindi, sai baba kathaबिना इस कथा को पढ़ें साईं बाबा व्रत माना जाता है अधूरा।

Sai Baba Fast Story: गुरुवार के दिन साईं बाबा के व्रत किये जाते हैं। माना जाता है कि इस व्रत को करने से व्यक्ति की सभी इच्छाओं की पूर्ति होती है। लेकिन कोई भी व्रत बिना व्रत कथा को पढ़े पूरा नहीं माना जाता है। अगर आपने साईं बाबा का व्रत रखा है तो आपके लिए इस कथा को पढ़ना बेहद जरूरी है। व्रत कथा कुछ इस प्रकार है, कोकिला बहन और उनके पति महेशभाई शहर में रहते थे। दोनों में एक-दूसरे के प्रति प्रेम-भाव था, परन्तु महेशभाई का स्वभाव झगड़ालू था। दूसरी तरफ कोकिला बहन बहुत ही धार्मिक स्त्री थी, भगवान पर विश्वास रखती। धीरे-धीरे उनके पति का धंधा-रोजगार ठप हो गया. कुछ भी कमाई नहीं होती थी। महेशभाई अब दिन-भर घर पर ही रहते और अब उन्होंने गलत राह पकड़ ली। अब उनका स्वभाव पहले से भी अधिक चिड़चिड़ा हो गया।

एक दिन दोपहर को एक वृद्ध महाराज दरवाजे पर आकार खड़े हो गए। चेहरे पर गजब का तेज था और आकर उन्होंने दाल-चावल की मांग की। कोकिला बहन ने दल-चावल दिए और दोनों हाथों से उस वृद्ध बाबा को नमस्कार किया। वृद्ध ने कहा साईं सुखी रखे। कोकिला बहन ने कहा महाराज सुख मेरी किस्मत में नहीं है और अपने दुखी जीवन का वर्णन किया। महाराज ने श्री साईं के व्रत के बारें में बताया 9 गुरुवार फलाहार या एक समय भोजन करना, हो सके तो बेटा साईं मंदिर जाना, घर पर साईं बाबा की 9 गुरुवार पूजा करना। साईं व्रत करना और विधि से उद्यापन करना भूखे को भोजन देना, साईं बाबा तेरी सभी मनोकामना पूर्ण करेंगे, साईं बाबा पर अटूट श्रद्धा रखना जरूरी है।

कोकिला बहन ने भी गुरुवार का व्रत लिया। 9 वें गुरुवार को गरीबों को भोजन कराया। उनके घर से कलह दूर हुए। घर में बहुत ही सुख-शांति हो गई। महेशभाई का स्वभाव ही बदल गया। उनका रोजगार फिर से चालू हो गया। थोड़े समय में ही सुख-समृधि बढ़ गई। दोनों पति-पत्नी सुखी जीवन बिताने लगे। एक दिन कोकिला बहन के जेठ-जेठानी सूरत से आए। बातों-बातों में उन्होंने बताया कि उनके बच्चे पढ़ाई नहीं करते, इसलिए परीक्षा में फेल हो गए हैं। कोकिला बहन ने 9 गुरुवार की महिमा बताई और कहा कि साईं बाबा की भक्ति से बच्चे अच्छी तरह अभ्यास कर पाएंगे। लेकिन इसके लिए साईं बाबा पर विश्वास रखना जरूरी है. साईं सबकी सहायता करते हैं। उनकी जेठानी ने व्रत की विधि बताने के लिए कहा। कोकिला बहन ने कहा उन्हें वह सारी बातें बताईं, जो खुद उन्हें वृद्ध महाराज ने बताई थी।

सूरत से उनकी जेठानी का थोड़े दिनों में पत्र आया कि उनके बच्चे साईं व्रत करने लगे हैं और बहुत अच्छे तरह से पढ़ते हैं। उन्होंने भी व्रत किया था। इस बारे में उन्होंने लिखा कि उनकी सहेली की बेटी शादी साईं व्रत करने से बहुत ही अच्छी जगह तय हो गई। उनके पड़ोसी का गहनों का डिब्बा गुम हो गया था, जो अब वापस मिल गया है। ऐसे कई अद्भुत चमत्कार हुए था। कोकिला बहन ने समझा कि साईं बाबा की महिमा अपार है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Janmashtami Iskcon 2019: इस्कॉन मंदिरों में 24 अगस्त को मनाया जायेगा कृष्ण जन्मोत्सव, जानें दुनिया का सबसे बड़ा इस्कॉन मंदिर
2 Janmashtami Date 2019: भगवान कृष्ण ने एक साथ क्यों रचाईं थीं 16000 शादियां? जानें इसके पीछे की रोचक कहानी
3 चाणक्य से जानें भरोसेमंद व्यक्ति को परखने का सही तरीका
IPL 2020 LIVE
X