ताज़ा खबर
 

गुरु ग्रह की दिशा सही होने से सुख-शांति आने की है मान्यता, इसे मजबूत करने के लिए किए जाते हैं ये उपाय

कहा जाता है कि गुरुवार को रुद्राभिषेक जरूर करना चाहिए। मान्यता है कि इस दिन रुद्राभिषेक करने से गुरु ग्रह की दिशा में सुधार आता है।

Author नई दिल्ली | August 1, 2018 5:25 PM
सांकेतिक तस्वीर।

ज्योतिष शास्त्र में गुरु को बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह बताया है। कहते हैं कि जन्मकुंडली में गरु की दिशा सही होने पर जीवन में सुख-शांति आती है। इसके साथ ही गुरु के मजबूत होने से जीवन में आर्थिक परेशानियों का भी सामना नहीं करना पड़ता। लेकिन कहा जाता है कि गुरु के कमजोर हो जाने से व्यक्ति अपने जीवन में कई तरह की परेशानियों से घिर जाता है। कहते हैं कि ऐसी स्थिति में व्यक्ति को अपने प्रयासों में सफलता नहीं मिलती और उसके जीवन से खुशियां दूर होती चली जाती हैं। इन सबके बीच ज्योतिष शास्त्र में गुरु ग्रह को मजबूत करने के कुछ उपाय भी बताए गए हैं। चलिए जानते हैं इसके बारे में।

बता दें कि गुरुवार का दिन गुरु ग्रह का माना जाता है। कहते हैं कि गुरुवार को दान करने से कुंडली में गुरु ग्रह की दशा मजबूत होती है। आप इस दिन दान के रूप में पुखराज, सोना, कांसा, चने की दाल, खांड, घी, पीला कपड़ा, पीला फूल और हल्दी का प्रयोग कर सकते हैं। इसके साथ ही गुरुवार को व्रत रखना भी काफी शुभ माना गया है। कहा जाता है कि गुरुवार को रुद्राभिषेक जरूर करना चाहिए। मान्यता है कि इस दिन रुद्राभिषेक करने से गुरु ग्रह की दिशा में सुधार आता है।

ज्योतिष शास्त्र के जानकारों का कहना है कि खान-पान में सावधानी बरतकर भी गुरु ग्रह को मजबूत किया जा सकता है। कहते हैं कि भोजन में हरी प्याज, पुदीना और मूली का सेवन करने से गुरु की दशा सही रहती है। आप इन भोज्य पदार्थों का दान भी कर सकते हैं। इसके अलावा गरीबों को दही और चावल खिलाने के लिए भी कहा गया है। माना जाता है कि इससे गुरु का बुरा प्रभाव समाप्त हो जाता है। गुरु को मजबूत करने के लिए सबसे जरूरी अपने गुरुओं की सेवा करना बताया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App