ताज़ा खबर
 

भक्तों के बीच क्यों ज्यादा प्रचलित है वैष्णो देवी की यात्रा? जानें मंदिर की खास बातें

जिस गुफा में माता नौ माह तक छुंपी थी उसे अर्धकुंवारी गुफा के नाम से जाना जाता है।

भारत के तिरुमला वेंकटेश्वर मंदिर के बाद वैष्णों देवी दूसरा सर्वाधिक देखे जाने वाला मंदिर है।

वैष्णो देवी मंदिर शक्ति को समर्पित है। उत्तर भारत के राज्य जम्मू और कश्मीर में त्रिकूट पहाड़ी पर स्थित है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार वैष्णो देवी, शक्ति के अवतार वैष्णवी को समर्पित है। वैष्णों देवी का मंदिर कटरा नगर के पास स्थित है, मंदिर करीब 5 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है। माता का दर्शन करने जाने वाले भक्त 12 किलोमीटर की लंबी चढ़ाई करते हैं। हर वर्ष यहां लाखों श्रद्धालु आते हैं। माना जाता है कि भारत के तिरुमला वेंकटेश्वर मंदिर के बाद दूसरा सर्वाधिक देखे जाने वाला मंदिर है। इस मंदिर की देख-रेख वैष्णों देवी श्राइन बोर्ड द्वारा की जाती है। इस मंदिर के लिए मान्यता है कि यहां माता के बुलावे के बिना कोई नहीं आ पाता है।

वैष्णों देवी के मंदिर के लिए मान्यता है कि माता वैष्णों अपने भक्त श्रीधर की भक्ति से प्रसन्न होकर समाज में उसकी लाज रखी और अपने अस्तित्व का प्रमाण दिया। एक बार श्रीधर ने भण्डारा किया और ब्राह्मणों के साथ भैरवनाथ के शिष्यों को भी आमंत्रित किया। भैरवनाथ ने भण्डारे में मांस-मदिरा की मांग की, इस पर श्रीधर ने उन्हें मना कर दिया। मां वैष्णवी वहां कन्या का रुप लेकर आईं और भैरवनाथ को समझाने का प्रयत्न किया। भैरवनाथ उनकी बात नहीं समझा और उस कन्या को पकड़ने का प्रयत्न किया। कन्या रुपी माता त्रिकूट पर्वत की तरफ भागी और एक गुफा में जाकर नौ माह के लिए छुप गईं।

माता की रक्षा के लिए हनुमान ने भैरवनाथ का ध्यान बटाने का काम किया। जिस गुफा में माता नौ माह तक छुंपी थी उसे अर्धकुंवारी गुफा के नाम से जाना जाता है। माता ने नौ माह बाद उस गुफा से निकलकर भैरवनाथ का संहार किया। भैरवनाथ को उसकी गलती का पता लगा और उसने माता से क्षमा मांगी। माता ने उसे कहा कि जो भी भक्त मेरे दर्शन करने आएंगें उनकी यात्रा तुम्हारे दर्शन किए बिना पूरी नहीं होगी। आज इस मंदिर का मुख्य आकर्षण गुफा में विराजमान तीन पिंडियां है। यहां हर साल लगभग 500 करोड़ रुपए का दान आता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App