अगर इन चीजों का इस्तेमाल नहीं किया तो रह जाएगी आपकी पूजा अधूरी

पूजा-पाठ करते समय दूध,दही, शहद, घी और मिश्री(या चीनी) का प्रयोग जरुर करना चाहिए।

pooja, pooja path, pooja at home, pooja procedure, procedure for pooja, important things for pooja , पूजा पाठ, पूजा पाठ की विधि
(सांकेतिक फोटो)

भागवान को खुश करने के लिए हम घर में पूजा-पाठ करते हैं लेकिन हमने देखा है कि पूजा-पाठ करने के बाद भी हमें इसका फल नहीं मिल पाता। इसके बारे में ज्योतिषियों का कहना है कि अगर आप पूजा करते हैं तो आपको पूजा-पाठ करते समय दूध,दही, शहद, घी और मिश्री(या चीनी) का प्रयोग जरुर करना चाहिए। अगर पूजा-पाठ करते समय हम इन पांच चीजों का प्रयोग नहीं करते हैं तो हमारी पूजा अधूरी मानी जाती है। इसकी मुख्य वजह है कि पूजा-पाठ करते समय हमने दूध,दही, शहद, घी और मिश्री(या चीनी) के मिश्रण का इस्तेमाल नहीं किया। इन पांचों चीजों के मिश्रण को पंचामृत कहा गया है।

पंचामृत  को शास्त्रों में अमृत के समान माना है। कहा जाता है कि शास्त्रों में गाय को माता के समान सम्मान दिया गया है। गाय माता में देवी देवताओं का वास बताया गया है। कहा जाता है कि गाय से मिलने वाले दूध को अमृत के समान माना गया है। गाय से ही हमें दही, घी और दूध मिलता है। इसलिए इन चीजों को भी अमृत के समान माना गया है। वहीं शहद को पूर्ण पवित्र रस माना गया है। शहद भगवान को चढ़ाने वाले सुंगंधित फूलों के रस से ही बनता है। इसलिए इसे पवित्र और अमृत के समान माना गया है।

जब ये पांचों मिल जाते हैं तो अमृत बनता है। कुछ ज्योतिषी पूजा में गन्ने के रस का भी इस्तेमाल करने की सलाह भी देते हैं। पूजा-पाठ के पाठ प्रसाद बांटा जाता है। शास्त्रों में कहा जाता है कि जब ये सारी चीजें मिल जाती हैं तो इनके खाने से सभी प्रकार के रोगों का नाश होता है। इन पांचों सामग्री को खाने से किसी ना किसी रुप में हमारा शरीर स्वस्थ रहता है। पूजा के बाद प्रसाद बांटना शुभ माना जाता है।

पूजा-पाठ में इन पांचों चीजों का इस्तेमाल करना चाहिए। जब इन पांचों चीजों का इस्तेमाल नहीं होता तो पूजा को सफल नहीं माना जाता है। पूजा करते हमें दूध,दही, शहद, घी और मिश्री(या चीनी) का प्रयोग जरुर करना चाहिए। इन चीजों का इस्तेमाल करना शुभ माना जाता है।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।