ताज़ा खबर
 

सावन के प्रत्येक सोमवार कैसे करनी चाहिए शिव जी की पूजा, जानिए

कहा जाता है कि जलाभिषेक के जल को किसी पात्र में एकत्रित करके रख लेना चाहिए। इसके बाद इस जल का घर के सभी कोनों में छिड़काव करना चाहिए।

Author नई दिल्ली | July 31, 2018 1:37 PM
महादेव को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धालु उनकी प्रतिमा की पूजा करते हैं।

हिंदू धर्म में सोमवार का दिन भगवान शिव को समर्पित है। कहते हैं कि सोमवार को शिव की पूजा करने से वे बड़ी जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और अपने भक्त की मनोकामनाओं की पूर्ति करते हैं। इन सबके बीच सावन महीने के सोमवार का महत्व और भी ज्यादा हो जाता है। चलिए जानते हैं कि सावन के सोमवार को शिव जी की पूजा कैसे करनी चाहिए। मालूम हो कि सावन में शिवलिंग का जलाभिषेक करना बहुत ही शुभ माना जाता है। इसके लिए आपको शिवलिंग को अपने घर पर किसी बड़े से बर्तन से स्थापित करना होगा। इसके बाद आप जल से ‘नम: शिवाय’ का जाप करते हुए जलाभिषेक करें। बताते हैं कि सावन पूरा होने से पहले सवा लाख बार अभिषेक करना होता है। ऐसा करने से शिव जी की कृपा बरसने की मान्यता है।

ऐसा कहा जाता है कि जलाभिषेक के जल को किसी पात्र में एकत्रित करके रख लेना चाहिए। इसके बाद इस जल का घर के सभी कोनों में छिड़काव करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि इससे घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। इससे घर में सुख-शांति और समृद्धि आने की बात कही गई है। कहते हैं कि शरीर के जिस अंग में दर्द हो रहा हो, उस पर जलाभिषेक के जल से मालिश करनी चाहिए। माना जाता है कि इससे दर्द में राहत मिलती है।

बताते हैं कि सावन के सोमवार को सुबह स्नान करने के बाद सफेद रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए। इसके बाद पूजा स्थल को साफ-सुथरा करके और शुभासन धारण करके शिव जी की आराधना करनी चाहिए। मालूम हो कि मंदिर में पूजा सामग्री ले जाते समय उसे ढ़क देना चाहिए। इसके साथ शिव की पूजा उत्तर या पूर्व दिशा की ओर मुख करके करनी चाहिए। पूजा सामग्री के रूप में आप जल कलश, गंगा जल, कच्चा दूध, दही, घी, शहद, चीनी, केसर, वस्त्र, चंदन, रोली, मौली, चावल, फूलमाला, फूल, जनेऊ, बेलपत्र, धतूरा और भांग का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App