ताज़ा खबर
 

Happy Holi 2018: होलिका दहन के समय अपनी राशिनुसार आजमाएं ये उपाय, दूर हो सकता है बुरा समय

Happy Holi 2018, Holika Dahan 2018 Puja: शास्त्रों में होली की रात का बहुत महत्व माना गया है। कहा जाता है जिन लोगों की ग्रह दोष या अन्य समस्याएं हो तो वह होली की रात कुछ उपाय कर उनसे निजात पा सकते हैं।

Author Updated: March 1, 2018 6:43 PM
Holi 2018, Holika Dahan 2018 Puja: भारत में होली का त्योहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

Holi, Holika Dahan 2018 Puja: इस साल गुरुवार 1 मार्च को देशभर में होली और 2 मार्च को धुलंडी मनाई जाएगी। भारत में होली का त्योहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। गुरुवार की शाम को होलिका दहन किया जाएगा। शास्त्रों में होली की रात का बहुत महत्व माना गया है, इसमें पवित्र अग्नि जलाकर भगवान से प्रार्थना की जाती है। कहा जाता है जिन लोगों की ग्रह दोष या अन्य समस्याएं हो तो वह होली की रात कुछ उपाय कर उनसे निजात पा सकते हैं। आइए आज हम जानते हैं होलिका दहन के समय राशिनुसार क्या उपाय करने चाहिए।

1. मेष राशि – मेष राशि के जातक जीवन में सफलता पाने के लिए होली की रात से पहले कच्चा नारियल लेकर उसे मंदिर में स्थापित करें। नारियल पर सिंदूर, अक्षत से पूजा के बाद कलावा बांध दें। होलिका दहन के समय उस नारियल को अग्नि में डाल दें। इससे जीवन में खुशियां आ सकती है।

2. वृषभ राशि – स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से निजात पाने के लिए होली की एक रात पहले एक सफेद कपड़े में 11 गोमती चक्र, नागकेसर के 21 जोड़े और 11 कौडिया बांधकर कपड़े पर हरसिंगार या इत्र लगाकर अपने ऊपर से सात बार वार लें। और होलिका दहन के समय अग्नि में डाल दें।

3. मिथुन राशि – मिथुन राशि के जातक को आर्थिक समस्या से छुटकारा पाने के लिए होली की एक रात पहले चांद निकलने के बाद एक प्लेट सूखे छुहारे और थोड़े मखाने शुद्ध घी का दीपक जलाकर चन्द्रदेव की पूजा करें। पूजा करने के बाद दूध से अर्ध्य दें फिर प्रसाद को बच्चों में बांट दें। इसके अलावा थोड़े मखाने होली की अग्नि में डालें। इससे आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो सकती है।

4. कर्क राशि – कर्क राशि के जातक सुख-समृद्धि पाने के लिए शाम को आटे का एक चौमुखा दीपक बनाएं। इसके बाद उसमें तेल डालकर घर के मेन गेट पर बाहर जलाएं। इसके साथ ही होली की अग्नि में जौ अर्पित करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी जल्दी प्रसन्न हो सकती है।

5. सिंह राशि – जीवनसाथी की तरक्की पाने के लिए होली दहन के समय एक पान का पत्ता लेकर उसमें एक कपूर, थोड़ी-सी हवन सामग्री, घी में डुबोए हुए दो लौंग के जोड़े औऱ एक बताशा रखें। उस पत्ते को दूसरे पाने के पत्ते से ढंक दें और होलिका दहन के समय पान के पत्तों के साथ सभी सामग्री जला दें।

6. कन्या राशि – बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए अपने बच्चों को मूंगफली से बनी माला पहनाकर होली पूजा में ले जाएं और होली की 7 परिक्रमा करवाएं।

7. तुला राशि – जीवन में आ रही परेशानियों से निजात पाने के लिए पीपल के पेड पर जल में चावल डालकर चढ़ाएं। साथ ही अपने घर के मेन गेट पर रोली से स्वस्तिक बनाएं। इसके साथ ही होलिका दहन के समय 5 उपले होली की अग्नि में डालें।

8 .वृश्चिक राशि – नजर दोष से बचने के लिए होलिका दहन के समय एक नींबू लेकर उसके 4 टुकड़े करके होली की अग्नि के पास खड़े होकर चारों दिशाओं में एक-एक टुकड़ा फेंक दें।

9. धनु राशि- जीवन में सकारात्मकता पाने के लिए एक सूखा गोला लें। उसे ऊपर से काटकर उसमें अलसी और थोडा गुड़ भर दें और होलिका दहन के समय उसको अग्नि में डाल दें।

10. मकर राशि – जिन लोगों को गुस्सा अधिक आता है वे एक मुट्टी काले तिल लेकर अपने ऊपर से 7 बार वार लें और उनको होली की अग्नि में डाल दें।

11. कुंभ राशि- कारोबार और नौकरी में सफलता के लिए 7 गोमती चक्र लेकर होलिका दहन के समय परिक्रमा करें। इसके बाद उनको अपनी तिजोरी में रखें। इससे आपको कारोबार में लाभ मिल सकती है।

12. मीन राशि – अच्छा स्वास्थ्य पाने के लिए नीम की 10 पत्तियां, 6 लौंग और एक कपूर लेकर अपने ऊपर से वार लें और होलिका दहन के समय अग्नि में डाल दें। ऐसा करने से सेहत संबंधी परेशानी खत्म हो सकती है।

होली को प्राचीन हिंदू त्योहारों में से एक माना जाता है। ऐसे प्रमाण मिले हैं कि ईसा मसीह के जन्म से कई सदियों पहले से होली का त्योहार मनाया जा रहा है। होली का वर्णन जैमिनि के पूर्वमीमांसा सूत्र और कथक ग्रहय सूत्र में भी है। प्राचीन भारत के मंदिरों की दीवारों पर भी होली की मूर्तियां मिली हैं। विजयनगर की राजधानी हंपी में 16वीं सदी का एक मंदिर है। इस मंदिर में होली के कई दृश्य हैं जिसमें राजकुमार, राजकुमारी अपने दासों सहित एक दूसरे को रंग लगा रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 माता सीता ने दिया था श्रीराम के एक पुत्र को जन्म! जानें क्या है दो पुत्रों की कहानी
2 होली 2018: जानें भारत में क्यों मनाया जाता है रंगों का त्योहार और क्या है होलिका दहन का महत्व
3 लक्ष्मी जयंती 2018: जानें कब है माता लक्ष्मी की पूजा का दिन, किस विधि से किया जा सकता है प्रसन्न