Happy Hariyali Teej 2018 Wishes Images, Pictures, Pic, Photos in Hindi, Hariyali Teej 2018 Puja Vidhi, Subh Muhurat, Vrat katha in Hindi, date in India: Check Here - Hariyali Teej 2018: क्यों मनाई जाती है हरियाली तीज, जानें पूजा विधि और मुहूर्त - Jansatta
ताज़ा खबर
 

Hariyali Teej 2018: क्यों मनाई जाती है हरियाली तीज, जानें पूजा विधि और मुहूर्त

Hariyali Teej 2018 Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Vrat Katha: माना जाता है इस दिन मां पार्वती ने भगवान शिव से विवाह करने के लिए कठिन तपस्या की थीं। और आज ही के दिन मां पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उनसे शादी करने का वरदान दिया था।

Hariyali Teej 2018: इस दिन महिलाएं संतान प्राप्ति के लिए व्रत करती है और कन्या मनवांछित वर प्राप्त करने के लिए यह व्रत करती हैं।

Hariyali Teej 2018 Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Vrat Katha: श्रावण मास के तीसरे सोमवार यानी शुक्ल पक्ष की तृतीया को देशभर में हरियाली तीज मनाई जा रही है। यह पर्व उत्तर भारत में मुख्य रूप से मनाया जाता है। इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं और भगवान शिव के साथ मां पार्वती की पूजा करती है। इस दिन महिलाएं बिना पानी पीए भूखे रहकर उपवास रखती है। इस व्रत को करवाचौथ से भी कठिन माना जाता है। तीज का व्रत सुहागिन महिलाओं के लिए ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण माना जाता है। इस दिन सुहागिन महिलाएं लाल रंग का जोड़ा पहन कर पूरे 16 श्रृंगार करती है। माना जाता है इस दिन शिव जी और मां पार्वती का पुर्नमिलन हुआ था। इस दिन महिलाएं संतान प्राप्ति के लिए व्रत करती है और कन्या मनवांछित वर प्राप्त करने के लिए यह व्रत करती हैं।

हरियाली तीज पूजा विधि – तीज की पूजा प्रदोष काल में की जाती है। इसलिए इस दौरान स्नान करके और स्वच्छ वस्त्र धारण कर के पूजा करें। अब भगवान शिव और मां पार्वती की काली मिट्टी से बनी मूर्ति बनाएं या बाजार से खरीदकर उनको सुहाग की चीजें अर्पित करें। भगवान शिव को वस्त्र अर्पित करें। आप सुहाग श्रृंगार की चीजें और वस्त्र किसी गरीब को दान कर सकते हैं। इसके बाद पूरी श्रद्धा के साथ हरियाली तीज की कथा सुने या पढ़ें। कथा पढ़ने के बाद भगवान गणेश की आरती करें और इसके बाद भगवान शिव और मां पार्वती की आरती करें। आरती के बाद मूर्तियों की परिक्रमा करें। रात भर भगवान शिव और मां पार्वती की स्मरण करें। अगले दिन सुबह भगवान शिव, माता पार्वती की पूजा करें और माता पार्वती को सिंदूर अर्पित करें। पूजा के बाद भगवान को खीरे, हल्वे का भोग लगाएं और अपना व्रत खोलें। इन सब के बाद किसी पवित्र नदी या तालाब में प्रवाहित इन मूर्तियों को प्रवाहित कर दें।

हरियाली तीज व्रत का मुहूर्त-
हरियाली तीज तिथि आरंभ : सुबह 8:38 बजे (13 अगस्त 2018) से
हरियाली तीज तिथि समाप्त : सुबह 5:46 बजे (14 अगस्त 2018) तक

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App