ताज़ा खबर
 

Hanuman Jayanti 2020 Date: 08 अप्रैल को मनाई जायेगी हनुमान जयंती, जानिए इस दिन कैसे करें भगवान हनुमान की पूजा और क्या है मुहूर्त

Hanuman Jayanti 2020 Date in India (हनुमान जयंती कब है): इस दिन बजरंगबली हनुमान की विधि विधान के साथ पूजा की जाती है। हनुमान जी को संकट मोचन, अंजनी सुत, पवन पुत्र आदि नामों से भी जाना जाता है।

Hanuman Jayanti 2020 Date: मान्यता है कि इस दिन भगवान हनुमान की विधि विधान पूजा करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है और धन वृद्धि भी होती है।

Hanuman Jayanti 2020 Date in India: मान्यताओं अनुसार चैत्र शुक्ल पूर्णिमा के दिन भगवान हनुमान का जन्म हुआ था। साल 2020 में ये शुभ दिन 8 अप्रैल को है। जिसे हनुमान जयंती के नाम से जाना जाता है। इस दिन बजरंगबली हनुमान की विधि विधान के साथ पूजा की जाती है। हनुमान जी को संकट मोचन, अंजनी सुत, पवन पुत्र आदि नामों से भी जाना जाता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान हनुमान की विधि विधान पूजा करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है और धन वृद्धि भी होती है।

हनुमान जयंती मुहूर्त (Hanuman Jayanti Muhurat):

हनुमान जयन्ती बुधवार, अप्रैल 8, 2020 को
पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ – अप्रैल 07, 2020 को 12:01 पी एम बजे
पूर्णिमा तिथि समाप्त – अप्रैल 08, 2020 को 08:04 ए एम बजे

हनुमान जी की जन्म कथा: समुद्रमंथन के बाद भगवान शिव ने भगवान विष्णु का मोहिनी रूप देखने की इच्छा प्रकट की थी। जो उन्होनें समुद्र मंथन के दौरान देवताओं और असुरों को दिखाया था। उनकी इच्छा का पालन करते हुए भगवान बिष्णु ने मोहिनी रूप धारण कर लिया। भगवान बिष्णु का आकर्षक रूप देखकर शिवजी कामातुर हो गए और उन्होंने अपना वीर्यपात कर दिया। पवनदेव ने शिवजी के वीर्य को वानर राजा केसरी की पत्नी अंजना के गर्भ में प्रविष्ट कर दिया। इस तरह अंजना के गर्भ से वानर रूप हनुमान का जन्म हुआ। उन्हें शिव का 11वां रूद्र अवतार माना जाता है।

ऐसे मनाई जाती है हनुमान जयंती: हनुमान जयंती के दिन कई लोग उपवास रखते हैं। साथ ही कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। इस दिन भक्तजन हनुमान मंदिरों में दर्शन करने के लिए जाते हैं। लेकिन इस बार कोरोना लॉक डाउन के चलते घर पर ही भगवान हनुमान की विधिवत पूजा करनी होगी। इस दिन घर पर ही भगवान हनुमान की मूर्ति पर जनेऊ पहनाया जाता है और इनकी मूर्तियों पर सिंदूर और चांदी का व्रक भी चढ़ाते हैं। संध्या के समय दक्षिण मुखी हनुमान मूर्ति के सामने हनुमानजी के चमत्कारी मंत्रों का जाप करना फलदायी माना गया है। इस दिन हनुमान चालिसा और रामचरितमानस के सुंदरकाण्ड पाठ को भी पढ़ा जाता है। अंत में हनुमान जी की आरती को उतारकर पूजा संपन्न करें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कार्यक्षेत्र में विवादों से बचें मिथुन राशि के जातक, कन्या वालों पर ऑफिस के काम का रहेगा बोझ
2 सिंह और धनु राशि वालों को धन लाभ के आसार, जानें अन्य राशियों की कैसी रहेगी किस्मत
3 वृषभ राशि वालों को कड़ी मेहनत का मिलेगा लाभ, कुंभ राशि वालों की प्रिय मित्र से होगी मुलाकात