ताज़ा खबर
 

हनुमान जयंती 2017: जानिए इस दिन क्यों की जाती है पवनपुत्र की पूजा, क्या हैं कारण

Hanuman Jayanti Wishes: इस दिन हनुमान जी की पूजा करने वाले भक्तों पर खास तौर पर अनुकम्पा होगी।

हनुमान जयंती पर इस तरह से करें पूजा – अर्चना। (Image Source: Web)

आज (11 अप्रैल) हनुमान जयंती है। दुनिया भर में हनुमान जयंती के पर्व को उनके भक्तो द्वारा धूमधाम से मनाया जाता है। धर्म ग्रंथ रामायण के मुताबिक हनुमान जी भगवान राम के भक्त हैं। हनुमान जी को भगवान शिव के 11 वें अवतार के रुप में भी जाना जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार इस दिन हनुमान जी की पूजा करने का विशेष महत्व है। इस दिन पूजा करना व व्रत करना बहुत फलदायी माना जाता है। आज का दिन चित्रा नक्षत्र का स्वामी मंगल ग्रह है। जिस कारण से आज महा उपासना योग बन रहा है। ज्योतिषियों के अनुसार में आज का दिन एक विशेष दिन है। जिन व्यक्तियों पर साढ़ेसाती चल रही है उस व्यक्ति के लिए आज का दिन पूजा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।

ज्योतिषियों के अनुसार आज का दिन एक खास संयोग बना रहा है ऐसा संयोग करीब120 सालों के बाद बना है। इस दिन हनुमान जी की पूजा करने वाले भक्तों पर खास तौर पर अनुकम्पा होगी। कई ज्योतिषी मानते हैं कि अगर आज के दिन जिन लोगों पर साढ़ेसाती चल रही है उनके लिए पूजा के लिए सबसे शुभ माना जाता है। इस दिन देशभर के मंदिरों में कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इस दिन विशेष पूजा- पाठ किया जाता है।

अंजनीपुत्र हनुमान जी पर चोला चढ़ाने से जहां सकारात्मक ऊर्जा मिलती है। इतना ही नहीं हनुमान जी की पूजा करने से हर तरह की मुश्किलें दूर होती है। वहीं कुछ कथाओं में कहा गया है कि हनुमान जी को खुश करने के लिए शनि जी को शांत करना भी जरुरी होता है। कहावत है कि हनुमानजी ने एक बार शनिदेव का घमंड तोड़ा था इसके बाद सूर्यपुत्र शनिदेव ने हनुमानजी को वचन दिया था कि उनकी भक्ति करने वालों की राशि पर आकर भी वे कभी उन्हें परेशान नही करेगें।

पंचांग के अनुसार 11 अप्रैल को पूर्णिमा के साथ मंगलवार और चित्रा नक्षत्र का संयोग गजकेशरी योग बना रहा है। यह एक अहम दिन होता है। ऐसा ही संयोग त्रेता युग में बना। इस संयोग को शुभदायक माना जा रहा है। ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि अनूठे संयोग पर रामभक्त हनुमान का पूजन मंगलकारी और सर्वसुखकारी रहेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App