scorecardresearch

24 नवंबर तक इन 3 राशि वालों पर गुरु बृहस्पति की रहेगी असीम कृपा, दे सकते हैं अपार पैसा और पद- प्रतिष्ठा

ज्योतिष शास्त्र अनुसार गुरु ग्रह मीन राशि में वक्री हुए हैं। गुरु ग्रह का वक्री होना 3 राशि वालों को अच्छा धनलाभ हो सकता है।

24 नवंबर तक इन 3 राशि वालों पर गुरु बृहस्पति की रहेगी असीम कृपा, दे सकते हैं अपार पैसा और पद- प्रतिष्ठा
देवताओं के गुरु बृहस्पति- (जनसत्ता)

Guru Planet Vakri 2022 : ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक हर ग्रह- नक्षत्र एक निश्चित समय अवधि पर एक राशि से दूसरी राशि में राशि परिवर्तन और वक्री होता है और वक्री होने का सीधेतौर पर प्रभाव मानव जीवन और पृथ्वी पर देखने को मिलता है। आपको बता दें कि ज्ञान और वृद्धि के कारक देवगुरु 29 जुलाई को अपनी स्वराशि मीन में वक्री हुए हैं। जहां वो 108 दिन तक वक्री अवस्था में विराजमान रहेंगे। गुरु ग्रह के वक्री होने का प्रभाव सभी राशियों पर देखने को मिलेगा। लेकिन 3 राशियां ऐसीं हैं जिनको इस दौरान विशेष धनलाभ हो सकता है। आइए जानते हैं ये राशियां कौन सीं हैं…

वृष राशि: गुरु ग्रह के वक्री होते ही आप लोगों के करियर और व्यापार में ग्रोथ होने की प्रबल संभावना है। क्योंकि देवगुरु बृहस्पति आपकी गोचर कुंडली के 11वें भाव में वक्री हुए हैं। जिसे वैदिक ज्योतिष में आय और लाभ का भाव माना गया है। इसलिए इस समय आपकी इनकम में अच्छी बढ़ोतरी हो सकती है। साथ इस दौरान आय के नए- नए माध्यम से आप धन कमाने में कामयाब हो सकते हैं। कारोबार में अच्छा धनलाभ हो सकता है। साथ ही कोई व्यावसायिक डील भी फाइनल होने से अच्छा मुनाफा हो सकता है। आप लोग इस दौरान वाहन और प्रापर्टी खरीदने की सोच सकते हैं या जमीन- जायदाद में निवेश कर सकते हैं। साथ ही गुरु बृहस्पति आपके 8वें भाव के स्वामी हैं। इसलिए इस दौरान जो लोग रिसर्च की फील्ड से जुड़े हुए हैं उनको ये समय शानदान साबित हो सकता है। साथ ही इस समय आपको कोई कोई पुरानी बीमारी से छुटकारा मिल सकता है।

मिथुन राशि: गुरु ग्रह के वक्री चाल चलते ही आप लोगों के अच्छे दिन शुरू हो सकते हैं । क्योंकि गुरु बृहस्पति आपके दशम स्थान में वक्री हुए हैं। जिसे जॉब, कारोबार और कार्यक्षेत्र का स्थान कहा जाता है। इसलिए इस दौरान आपको नई नौकरी का प्रस्ताव आ सकता है। साथ ही इस समय आपका इंक्रीमेंट भी होने के भी प्रबल योग हैं। इस समय आपको कारोबार में अच्छा धनलाभ हो सकता है। साथ ही इस दौरान आपके नए व्यावसायिक संबंध बन सकते हैं और व्यापार का विस्तार होने से अच्छा धनलाभ हो सकता है। आप लोग एक पन्ना और पुखराज पहन सकते हैं, जो आपके लिए भाग्यशाली रत्न साबित हो सकता है।

कर्क राशि: आपकी राशि से गुरु ग्रह नवम स्थान में वक्री हुए हैं। जिसे भाग्य और विदेश यात्रा का भाव माना गया है। इसलिए इस दौरान आपको किस्मत का पूरा साथ मिल सकता है। साथ ही गुरु ग्रह के वक्री होते ही आपके अटके हुए काम बनेंगे। जिससे आपको मानसिक चिंता से मुक्ति मिलेगी। वहीं इस दौरान आप व्यापार के संबंध से छोटी या बड़ी यात्रा भी कर सकते हैं, जो आपके लिए लाभप्रद साबित हो सकती है। वहीं जिन लोगों का कारोबार विदेश से जुड़ा हुआ है उन लोगों को अच्छा धनलाभ हो सकता है।

वहीं गुरु बृहस्पति आपके छठे स्थान के स्वामी हैं, जिसे रोग, कोर्ट- कचहरी और शत्रु का स्थान माना जाता है। इसलिए इस दौरान आपको शत्रुओं पर विजय हासिल हो सकती है और गुप्त शत्रुओं का नाश होगा। आपके साहस- पराक्रम में वृद्धि होगी।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट