28 अक्टूबर को दिवाली से ठीक पहले बन रहा है खरीदारी का खास संयोग, ज्वेलरी से लेकर बाइक में निवेश शुभ

गुरु पुष्य नक्षत्र में सोने की चीजें और वाहन खरीदने से शुभ परिणाम मिलते हैं। आप चाहें तो प्रॉपर्टी आदि में भी निवेश कर सकते हैं।

Diwali 2021, Dhanteras, Happy Diwali
दिवाली से पहले बन रहा गुरु पुष्य योग (फोटो क्रेडिट- Indian Express)

हिंदू धर्म में त्योहारों का काफी महत्व है। अब त्योहारों की शुरुआत हो चुकी है, नवरात्रि, दशहरा और अब दिवाली को लेकर लोग काफी उत्साहित हैं। दिवाली के मौके पर बाजार में खूब रौनक देखने को मिलती है। क्योंकि इस दौरान लोग दिल खोलकर खरीददारी करते हैं। डिजिटल मार्केटिंग फर्म InMobi की एक रिपोर्ट के अनुसार त्योहार के इस सीजन में एक भारतीय औसतन 21 हजार रुपये शॉपिंग पर खर्च करने वाला है। ऐसे में दिवाली से पहले एक ऐसा योग बन रहा है, जिसमें खरीददारी करना बेहद ही शुभ माना जाता है।

इस साल दिवाली 4 नवंबर की पड़ रही है, उससे पहले 28 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र पड़ेगा। इस नक्षत्र को खरीदारी और निवेश का महामुहूर्त भी कहा जाता है। हालांकि खास बात तो यह है कि इस साल जिस ग्रह दिशा में ये योग बन रहा है, वो करीब 677 साल बाद बन रहा है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार 28 अक्टूबर को गुरुवार पड़ने से दिन गुरु-पुष्य नक्षत्र रहेगा। इसके अलावा इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग भी बन रहा है।

गुरु-पुष्य नक्षत्र में करें इन चीजों में निवेश: गुरु पुष्य नक्षत्र में वैसे तो किसी भी चीज को खरीदा जा सकता है। लेकिन इस नक्षत्र में सोने की चीजें और वाहन खरीदने से शुभ परिणाम मिलते हैं। दरअसल, गुरु ग्रह पीली वस्तुओं के कारक हैं, तो वहीं शनि ग्रह लोहे के कारक हैं। इस दिन इन चीजों को खरीदने से लंबे समय तक लाभ मिलता है।

इसके अलावा आप चाहें तो प्रॉपर्टी आदि में भी निवेश कर सकते हैं। इस दिन मकान, प्लॉट, फ्लैट या फिर दुकान की बुकिंग करना शुभ माना जाता है। आप चाहें तो बर्तन, श्रृंगार का सामान, गहने और स्टेशनरी की चीजें भी खरीद सकते हैं।

677 साल पहले बना था ये योग: बता दें कि इससे पहले 5 नवंबर 1344 में यह योग बना था। इस दौरान गुरु-शनि ने मकर राशि में रहते हुए गुरु पुष्य योग बनाया था।

सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग: 28 अक्टूबर को गुरु-पुष्य योग के साथ ही सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग भी बन रहा है। इन योग में किए गए सभी काम सिद्ध हो जाते हैं। जहां अमृत सिद्धि योग 28 अक्टूबर को सुबह 9.42 बजे से शुरू होगा वहीं सर्वार्थ सिद्धि योग पूरे दिन रहेगा।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
रावण ने अपने आखिरी पलों में लक्ष्मण को दिया था यह ज्ञान, आपकी सक्सेस के लिए भी जरूरी हैं ये बातेंravan, ram, laxman, ramayan, valuable things, srilanka, धर्म ग्रंथ रामायण, राम, रावण, लंकापति रावण, वध श्रीराम, शिवजी की पूजा, लक्ष्मण
अपडेट