Ganesh Chaturthi Katha: गणेश चतुर्थी पर इस कथा को पढ़ने से सारी मनोकामनाएं पूर्ण होने की है मान्यता

Ganesh Chaturthi 2021: गणपति बप्पा को शुभ मुहूर्त में घर में स्थापित करने के बाद उनकी विधि पूर्वक पूजा की जाती है साथ ही इस कथा को सुना या पढ़ा जाता है।

Ganesh Chaturthi, Ganesh Chaturthi katha, Ganesh Chaturthi puja, Ganesh Chaturthi 2021, Ganesh Chaturthi muhurat, Ganesh Chaturthi ki katha, Ganesh Chaturthi strory,
10 दिन तक चलने वाले इस पर्व का समापन अन्नत चतुर्दशी के दिन होता है।

Ganesh Chaturthi 2021: भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी मनाई जाती है। इस बार गणेश चतुर्थी 10 सितंबर को मनाई जा रही है। इस दिन बप्पा लोगों के घर विराजेंगे। 10 दिन तक चलने वाले इस पर्व का समापन अन्नत चतुर्दशी के दिन होता है। इस बार 19 सितंबर को गणेश विसर्जन किया जाएगा। गणपति बप्पा को शुभ मुहूर्त में घर में स्थापित करने के बाद उनकी विधि पूर्वक पूजा की जाती है साथ ही इस कथा को सुना या पढ़ा जाता है।

पुराणों के अनुसार एक बार सभी देवता संकट में घिर गए और परेशान होकर भगवान शिव के पास पहुंचे। उस समय भगवान शिव और माता पार्वती अपने दोनों पुत्र कार्तिकेय और गणेश जी के साथ मौजूद थे। देवताओं की समस्या सुनकर भगवान शिव ने अपने पुत्रों से कहा कि तुम दोनों में से इनकी समस्याओं का निवारण कौन कर सकता है। ऐसे में दोनों ने एक ही स्वर में खुद को योग्य बताया।

भगवान शिव असमंजस में पड़ गए कि किसे ये कार्य सौंपा जाए। तो ऐसे में भगवान शिव ने एक तरकीब निकाली और अपने पुत्रों से कहा तुम दोनों में से जो सबसे पहले इस पूरी पृथ्वी का चक्कर लगा कर आएगा, वही देवताओं की मदद करने जाएगा। शिव जी की बात सुनते ही कार्तिकेय अपने वाहन मोर पर बैठ कर निकल गए। लेकिन गणेश सोचने लगे कि मोषक पर बैठकर वह कैसे इतनी जल्दी पृथ्वी की परिक्रमा कर पाएंगे। बहुत सोच-विचार के बाद वे अपने स्थान से उठे और अपने माता-पिता की सात बार परिक्रमा करके अपने स्थान पर वापस बैठ गए और कार्तिकेय के आने का इंतजार करने लगे। (यह भी पढ़ें- 10 सितंबर से शुरू होगा गणेश चतुर्थी उत्सव, जानिए पूजा विधि, मुहूर्त और सभी जरूरी जानकारी यहां)

भगवान शिव ने गणेश जी से परिक्रमा न करने का कारण पूछा, तो उन्होंने कहा कि माता-पिता के चरणों में ही समस्त लोक है। उनके इस जवाब से भगवान शिव भी प्रसन्न हो गए और उन्हें देवता की मदद करने का कार्य सौंपा। साथ ही ये भी कहा कि हर चतुर्थी के दिन जो तुम्हारी पूजा और उपासना करेगा उसके सभी कष्टों का निवारण हो जाएगा। कहते हैं कि गणेश चतुर्थी के दिन व्रत कथा पढ़ने और सुनने से सभी कष्टों का नाश हो जाता है।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।