शनि ढैय्या से पीड़ित जातकों पर भगवान गणेश की रहेगी विशेष कृपा, धन लाभ होने की प्रबल संभावना

ज्योतिष शास्त्र अनुसार शनि ढैय्या (Shani Dhaiya) से पीड़ित राशियों के लिए गणेश पूजन के ये 10 दिन बेहद ही शानदार रहने वाले हैं। इस दौरान शनि पीड़ा से राहत मिलने के साथ धन लाभ होने के भी आसार रहेंगे।

shani dhaiya, shani dhaiya on tula rashi, shani dhaiya on mithun rashi, ganesh chaturthi, ganesh chaturthi 2021, ganesh chaturthi shani dhaiya, ganesh chaturthi upay,
मिथुन: आपके ऊपर शनि की ढैय्या चल रही है। गणेश चतुर्थी के इन 10 दिन आपके ऊपर भगवान गणपति की विशेष कृपा रहने वाली है।

Ganesh Chaturthi Special For Shani Dhaiya Zodiac Sign People: देश में गणेश उत्सव का आगाज 10 सितंबर से हो चुका है। इस दौरान गणपति की प्रतिमा को लोग अपने घर में स्थापित करते हैं और उनकी विधि विधान पूजा करते हैं। कहते हैं इस पर्व के दौरान गणेश जी की सच्चे मन से अराधना करने से ग्रह दोषों से भी मुक्ति मिल जाती है। ज्योतिष शास्त्र अनुसार शनि ढैय्या से पीड़ित राशियों के लिए गणेश पूजन के ये 10 दिन बेहद ही शानदार रहने वाले हैं। इस दौरान शनि पीड़ा से राहत मिलने के साथ धन लाभ होने के भी आसार रहेंगे।

मिथुन: आपके ऊपर शनि की ढैय्या चल रही है। गणेश चतुर्थी के इन 10 दिन आपके ऊपर भगवान गणपति की विशेष कृपा रहने वाली है। आपको कार्यक्षेत्र में सफलता मिलेगी। नौकरी और व्यापार में तरक्की होगी। ये समय निरंतर और गंभीर प्रयासों से अपने काम-धंधे का विस्तार करने का है। मिथुन राशि वाले जातकों की आमदनी में सुधार होगा। वेतन या भत्तों में वृद्धि भी हो सकती है।

तुला: करियर और कामकाज के दृष्टिकोण से आपके लिए अच्छा समय है। मेहनत करेंगे तो अच्छी सफलता हासिल हो सकेगी। नौकरीपेशा जातकों को इस दौरान अच्छी सफलता हासिल हो सकती है। आपके ऊपर भगवान गणेश की विशेष कृपा रहने से आपके मान-सम्मान में बढ़ोतरी होगी। कारोबार-व्यापार करने वालों के लिए आय के स्रोत बने रहेंगे। आमदनी में वृद्धि होगी। शासन-सत्ता का सहयोग मिलेगा। (यह भी पढ़ें- इन दो राशियों पर भगवान गणेश रहते हैं मेहरबान, जानिए गणेश चतुर्थी पर किन उपायों से मिलेगा लाभ)

इन दोनों राशियों को कब मिलेगी शनि ढैय्या से मुक्ति? 24 जनवरी 2020 से ही मिथुन और तुला जातकों पर शनि ढैय्या चल रही है। 29 अप्रैल 2022 में शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही इन्हें शनि ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी। लेकिन 12 जुलाई 2022 में शनि के वक्री अवस्था में एक बार फिर से गोचर करने से ये दोनों राशियां दोबारा शनि ढैय्या की चपेट में आ जायेंगी और 17 जनवरी 2023 तक यही स्थिति रहेगी। इसके बाद शनि ढैय्या से पूरी तरह से मुक्ति मिल जाएगी। (यह भी पढ़ें- गणेश चतुर्थी उत्सव के दस दिन इन 3 राशियों के लिए बेहद शुभ, करियर में जबरदस्त लाभ मिलने के आसार)

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।