लक्ष्मी जी को समर्पित है शुक्रवार का दिन, ऐसे करें मां को प्रसन्न

शुक्रवार के दिन शाम को घर के उत्तरी-पूर्वी कोने में पूजास्थल पर दीपक जलाना चाहिए। दीपक बनाते समय इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि वह गाय के घी से जलाया जा रहा हो।

lakshmi ji ki aarti, lakshmi, lakshmi aarti, lakshmi bhajan, lakshmi songs, lakshmi ji bhajan, jai mata lakshmi aarti, mata lakshmi aarti songs, mata lakshmi aarti in hindi, lakshmi ma, लक्ष्मी जी की आरती
मां लक्ष्मी जी।

हिंदू धर्म में सप्ताह के सभी सात दिनों का अलग-अलग महत्व है। ये सात दिन अलग-अलग देवी-देवताओं को समर्पित किए गए हैं। इसी आधार पर शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी के नाम है। इस दिन भक्त लक्ष्मी मां की पूजा-अर्चना करते हैं। ऐसी मान्यता है कि लक्ष्मी जी की कृपा से घर में धन आता है। इसीलिए लक्ष्मी मां को धन की देवी कहा जाता है। कहते हैं कि लक्ष्मी मां अपने भक्त से प्रसन्न हों तो उसके पास कभी भी धन की कमी नहीं होती और वह सदा अपने जीवन में उन्नति करता जाता है। ऐसे में शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना के लिए कुछ खास विधियां बताई गई हैं जिनका पालन करके मां लक्ष्मी को आसानी से प्रसन्न किया जा सकता है।

मान्यता है कि शुक्रवार के दिन शाम को घर के उत्तरी-पूर्वी कोने में पूजास्थल पर दीपक जलाना चाहिए। दीपक बनाते समय इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि वह गाय के घी से जलाया जा रहा हो। इसके साथ ही उसमें रुई की बाती के स्थान पर लाल रंग के सूती धागे का प्रयोग किया गया हो। इसके अलावा घी में थोड़ी सी केसर भी डालनी होती है। ऐसा प्रत्येक शुक्रवार को करने से मां लक्ष्मी काफी प्रसन्न होती हैं। और घर में आई दरिद्रता या आने वाली आर्थिक तंगी दूर होती है।

दूसरी मान्यता के अनुसार, शुक्रवार के दिन अपने घर की तिजोरी में एक पीले रंग की पोटली रखनी चाहिए। इस पोटली में पांच पीली कौड़ी, थोड़ी सी केसर और एक चांदी का सिक्का रख बांध देना चाहिए। ऐसा करने से मां लक्ष्मी की आपके ऊपर कृपा होती है और धीरे-धीरे आपके घर से धन की समस्या दूर होने लगती है। इसके अलावा शुक्रवार के दिन गरीबों को भोजन कराने से भी मां लक्ष्मी आपसे खुश रहती हैं। अगर आप शुक्रवार को गरीबों को सफेद रंग की कोई वस्तु दान करते हैं तो भी बेहतर है। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए आप शुक्रवार के दिन तीन कुवांरी लड़कियों को भी घर बुलाकर भोजन करा सकते हैं।

पढें Religion समाचार (Religion News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट