ताज़ा खबर
 

इस वजह से शनिदेव को भी बनना पड़ा था स्त्री

जब शनिदेव को यह बात मालूम हुई कि हनुमानजी उन पर क्रोधित हैं और युद्ध करने के लिए उनकी ओर ही आ रहे हैं तो वे बहुत भयभीत हो गए।

Hanuman temple, Salangpur, Gujarat, Gujrat, KashtBhanjan, Sarangpur, Hanuman, Shani Dev, KashtBhanjan, Kasht Bhanjan hanuman ji, Sarangpur, Hanuman, Shani Dev, कष्टभंजन हनुमानजी, कष्टभंजन हनुमानजी सारंगपुर, KashtBhanjan hanuman, KashtBhanjan hanuman temple, KashtBhanjan hanuman mandir, hanuman chalisa, hanuman aarti, religion newsशनिदेव।

हनुमान जी को उनके भक्त अजर-अमर मानते हैं। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि हनुमान जी अपने भक्तों पर कृपा करते हैं और उनके सारे कष्‍ट दूर कर देते हैं। वह महावीर भी हैं और हर युग में अपने भक्तों की समस्याओं का समाधान करते हैं। माना जाता है कि हनुमान एक ऐसे देवता है जो थोड़ी-सी प्रार्थना और पूजा से ही शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं। इसके अलावा शनि दोष से मुक्ति पाने के लिए भी हनुमान जी की पूजा सबसे उत्तम माना गया है। परंतु क्या आप जानते हैं कि शनिदेव को स्त्री क्यों बनना पड़ा था? यदि नहीं तो आगे इसे जानिए।

गुजरात में भावनगर के सारंगपुर में हनुमान जी का एक अति प्राचीन मंदिर स्थित है जिसे कष्टभंजन हनुमान जी के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर की विशेषता यह है कि यहां हनुमान जी के पैरों में स्त्री रूप में शनि देव बैठे हैं। सभी जानते हैं कि हनुमानजी स्त्रियों के प्रति विशेष आदर और सम्मान का भाव रखते हैं। ऐसे में उनके चरणों में किसी स्त्री का होना आश्यर्च की बात है। लेकिन इसका सम्बन्ध एक पौराणिक कथा से है जिसमें बताया गया है कि आखिर क्यों शनिदेव को स्त्री का रूप धारण कर हनुमान जी के चरणों में आना पड़ा। प्राचीन मान्यताओं के अनुसार एक समय शनिदेव का प्रकोप काफी बढ़ गया था। शनि के कोप से आम जनता भयंकर कष्टों का सामना कर रही थी। ऐसे में लोगों ने हनुमानजी से प्रार्थना की कि वे शनिदेव के कोप को शांत करें।

बजरंग बली अपने भक्तों के कष्टों को दूर करने के लिए सदैव तत्पर रहते हैं और उस समय श्रद्धालुओं की प्रार्थना सुनकर वे शनि पर क्रोधित हो गए। जब शनिदेव को यह बात मालूम हुई कि हनुमानजी उन पर क्रोधित हैं और युद्ध करने के लिए उनकी ओर ही आ रहे हैं तो वे बहुत भयभीत हो गए। भयभीत शनिदेव ने हनुमानजी से बचने के लिए स्त्री रूप धारण कर लिया। शनिदेव जानते थे कि हनुमानजी बाल ब्रह्मचारी हैं और वे स्त्रियों पर हाथ नहीं उठाते हैं। हनुमानजी शनिदेव के सामने पहुंच गए, शनि स्त्री रूप में थे। तब शनि ने हनुमानजी के चरणों में गिरकर क्षमा याचना की और भक्तों पर से शनि का प्रकोप हटा लिया। तभी से हनुमानजी के भक्तों पर शनिदेव की तिरछी नजर का प्रकोप नहीं होता है। शनि दोषों से मुक्ति हेतु कष्टभंजन हनुमानजी के दर्शन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां आते हैं।

सारंगपुर में कष्टभंजन हनुमानजी के मंदिर का भवन काफी विशाल है। यह किसी किले के समान दिखाई देता है। मंदिर की सुंदरता और भव्यता देखते ही बनती है। कष्टभंजन हनुमानजी सोने के सिंहासन पर विराजमान हैं और उन्हें महाराजाधिराज के नाम से भी जाना जाता है। हनुमानजी की प्रतिमा के आसपास वानर सेना दिखाई देती है। यह मंदिर बहुत चमत्कारी है और यहां आने वाले श्रद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। यदि कुंडली में शनि दोष हो तो वह भी कष्टभंजन के दर्शन से दूर हो जाता है। इस मंदिर में हनुमानजी की प्रतिमा बहुत ही आकर्षक है।

Next Stories
1 किस मुद्रा में विराजमान हनुमान देते हैं कौन से आशीर्वाद, जानिए
2 जानिए, कब है कूर्म जयंती? और क्या है भगवान विष्णु के कच्छप अवतार की महिमा
3 Vaishakha Snana Daan Purnima 2019 Date: जानिए, वैशाख स्नान-दान पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त और विधि
ये पढ़ा क्या?
X