ताज़ा खबर
 

सावन के महीने में मंगलवार को ये उपाय करके हनुमान जी को कर सकते हैं खुश

शिवपुराण के मुताबिक सावन के महीने में शिवजी और उनके अवतारों की पूजा करने को शुभ माना गया है।
हनुमान जी की मूर्ति की एक तस्वीर। ( Photo Source: Indian Express Archives)

भगवान शिव का सावन महीना अभी चल रहा है। सावन के महीने में हर एक दिन का विशेष महत्व है। मंगलवार का दिन हनुमान जी का माना जाता है, लेकिन सावन के महीने में इस दिन का महत्व कुछ विशेष हो जाता है। मान्यताओं के मुताबिक हनुमान जी, शिवजी के अवतार माने गए हैं। ऐसे में सावन के महीने में मंगलवार का विशेष महत्व है। सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा होती है, लेकिन हम आपको बता रहे हैं, इस महीने में हनुमान जी को खुश करने के तरीके। शिवपुराण के मुताबिक शिवजी और उनके अवतारों की पूजा करने से कार्यों में आ रही बाधा और धन संबंधी समस्याएं दूर हो जाती हैं। ‘वास्तु उपाय’ नाम के यूट्यूब चैनल द्वारा अपलोड की गई एक वीडियो में सावन के महीने में हनुमान जी की पूजा के खास तरीके बताए गए हैं।

-सुख समृद्धि के लिए मंगलवार की रात को सोने से पहले घर के मंदिर में हनुमान जी का ध्यान करते हुए सरसों के तेल का दीपक जलाएं और हनुमान चालिसा का पाठ करें। ऐसा करने से हनुमान जी की कृपा मिलती है और आपकी धन संबंधी समस्याएं खत्म हो जाती हैं।

-एक नारियल पर सिंदूर लगाकर मौली धागा बांधे। इसके बाद उस पर चावल चढ़ाकर पूजा करें और हनुमान जी को अर्पित कर दें। सावन के महीने में ऐसा करने से भाग्य संबंधी सारी दिक्कतें दूर हो जाएंगी। पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का एक दीपक जलाएं। इससे भी राहत मिलती है। ऐसा करने से शनि दोष भी दूर होता है।

-चमेली के तेल का दीपक हनुमान जी के सामने जलाकर सिंदूर और लाल लंगोट अर्पित करें। इस उपाय से छात्रों को एग्जाम में सफलता मिलती है।

-सावन के महीने में हनुमान जी के मंदिर में ध्वज दान करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। इसके अलावा बंदरों को चना भी खिला सकते हैं। हनुमानजी की तस्वीर घर में इस तरह से लगाएं कि उनका मुख दक्षिण दिशा की ओर हो। इस उपाय से आप अपने दुश्मनों पर विजय प्राप्त कर सकते हैं।

-पीपल के 11 पत्ते साफ जल से धो लें, इन पत्तों पर चंदन या कुमकुम से श्रीराम का नाम लिखें और हनुमान जी को चढ़ा दें। यह उपाय आपको कई मुसिबतों से छुटकारा दिला सकता है।

यहां देखें वीडियो-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App