ताज़ा खबर
 

घर में कहां लगाना चाहिए दर्पण, जानिए वास्तुशास्त्र के नियम

वास्तुशास्त्र के जानकारों का कहना है कि अगर घर का कोई हिस्सा असामान्य शेप या अंधकारयुक्त है तो गोल दर्पण लगाना चाहिए।

दर्पण (सांकेतिक फोटो)

घरों में दर्पण लगा होता है। लेकिन अक्सर देखा जाता है कि हम आपनी जरुरत के हिसाब दर्पण को कहीं भी लगा देते हैं। लेकिन वास्तुशास्त्र में घर में दर्पण को लगाने के कुछ तरीके बताए गए हैं। जानकारों का कहना है कि अगर घर में दर्पण वास्तुशास्त्र के अनुसार लगाया जाए तो इससे घर में सुख और शांति आती है। कहा जाता है कि ऐसा करने से घर के सदस्य आश्चर्यजनक उपलब्धियां अर्जित कर सकते हैं।

वास्तुशास्त्र के जानकारों का कहना है कि अगर बेडरूम में आपके बिस्तर के सामने कोई दर्पण लगा है तो इसे तुरंत हटा दें। इस जगह पर दर्पण का होना आपके लिए बहुत अशुभ है। जानकारों का मानना है कि इस जगह पर दर्पण होना आपके वैवाहिक जीवन को खत्म कर सकता है। अगर आप इस जगह से दर्पण हटा नहीं सकते हैं तो दर्पण पर सफेद कपड़ा डाल दें।

वास्तुशास्त्र के जानकारों का कहना है कि अगर घर का कोई हिस्सा असामान्य शेप या अंधकारयुक्त है तो आपको वहां गोल दर्पण लगा देना चाहिए। ऐसा करने से नकारात्नक ऊर्जा का विनाश होता है।

वास्तुशास्त्र के नियमानुसार घर में दर्पण के आगे शुभ वस्तुओं का प्रतिबिंब होना जरुरी है। जैसे की किसी देवता किस मूर्ति हो सकती है। ऐसा होने से सकारात्मक ऊर्जा निकलती है जो सुखद अहसास कराती है। वास्तुशास्त्र के जानकारों का कहना है कि घर में कभी भी दर्पण को कटवाकर नहीं लगवाना चाहिए। दर्पण को कटवाकर घर में लगवाना अशुभ माना जाता है।

अगर आपके घर के बाहर कोई बिजली का पोल, ऊंची इमारतें या फिर अवांछित पेड़ों का दबाव है तो उनकी ओर उत्तल दर्पण कर देना चाहिए। वास्तुशास्त्र के जानकारो का कहना है कि घर में कभी भी दर्पण को किसी ऐसी जगह पर नहीं लगाना चाहिए, जहां से दर्पण में खिड़की या दरवाजे दिखते हों। इसे अशुभ माना जाता है।

वास्तुशास्त्र में कहा गया है कि अगर आपने अपने ड्राइंग रूम में दर्पण लगाया है तो ध्यान रहे कि दर्पण के आगे कोई खिड़की ना हो। वहीं अगर आपका ड्राइंग रूम छोटा है तो सभी दीवारों पर टाइल्स लगा दें। इससे सकारात्मक ऊर्जा आती है। घर में कभी भी दिवारों के आमने सामने दर्पण नहीं लगाना चाहिए। वास्तुशास्त्र के जानकारों का कहना है कि ऐसा करने से घर के सदस्यों में बेचैनी और उलझन बढ़ती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App