ताज़ा खबर
 

दिवाली वाले दिन मां लक्ष्मी की इस कथा का जरूर करें पाठ

ऐसी मान्यता है कि इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी धरती पर विचरण करने आती हैं। और जो कोई उनकी इस दिन सच्चे मन से अराधना करता है। वह उस पर अपनी कृपा बरसाती हैं।

diwali, diwali 2019, diwali vrat katha, diwali vrat vidhi, deepavali puja, deepavali 2019, diwali puja mantra, diwali laxmi puja vidhi, diwali laxmi puja muhurat, diwali laxmi puja mantra, diwali laxmi puja samagri, diwali lakshmi puja, diwali lakshmi puja vidhi, diwali lakshmi puja mantra, diwali lakshmi puja samagri, diwali lakshmi puja muhurat, diwali lakshmi puja time, laxmi puja vidhi, deepavali puja muhurat, deepavali puja mantraDiwali 2019 Vrat Vidhi, Katha, Story, Procedure: ऐसी मान्यता है कि इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी धरती पर विचरण करने आती हैं।

दिवाली के प्रदोष काल में माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी धरती पर विचरण करने आती हैं। और जो कोई उनकी इस दिन सच्चे मन से अराधना करता है। वह उस पर अपनी कृपा बरसाती हैं। दिवाली वाले दिन कई लोग व्रत भी रखते हैं और फिर शाम के समय विधि विधान पूजा करने के बाद व्रत खोलते हैं। जानिए दिवाली की पावन कथा…

दिवाली व्रत विधि और मुहूर्त (Diwali Puja Vidhi (Vrat Vidhi) And Shubh Muhurat)

दिवाली की पौराणिक कथा (Diwali Katha/Story) :

एक गांव में एक साहूकार था, उसकी बेटी प्रतिदिन पीपल पर जल चढ़ाने जाती थी। जिस पीपल के पेड़ पर वह जल चढ़ाती थी, उस पेड़ पर लक्ष्मी जी का वास था। एक दिन लक्ष्मी जी ने साहूकार की बेटी से कहा ‘मैं तुम्हारी मित्र बनना चाहती हूँ’। लड़की ने कहा की ‘मैं अपने पिता से पूछ कर आऊंगी’। यह बात उसने अपने पिता को बताई, तो पिता ने ‘हां’ कर दी। दूसरे दिन से साहूकार की बेटी ने सहेली बनना स्वीकार कर लिया।

दोनों अच्छे मित्रों की तरह आपस में बातचीत करने लगीं। एक दिन लक्ष्मीजी साहूकार की बेटी को अपने घर ले गई। अपने घर में लक्ष्मी जी ने उसका दिल खोल कर स्वागत किया। उसकी खूब खातिर की। उसे अनेक प्रकार के भोजन परोसे। मेहमान नवाजी के बाद जब साहूकार की बेटी लौटने लगी तो, लक्ष्मी जी ने प्रश्न किया कि अब तुम मुझे कब अपने घर बुलाओगी। साहूकार की बेटी ने लक्ष्मी जी को अपने घर बुला तो लिया, परन्तु अपने घर की आर्थिक स्थिति देख कर वह उदास हो गई। उसे डर लग रहा था कि क्या वह, लक्ष्मी जी का अच्छे से स्वागत कर पायेगी।

साहूकार ने अपनी बेटी को उदास देखा तो वह समझ गया, उसने अपनी बेटी को समझाया, कि तू फौरन मिट्टी से चौका लगा कर साफ-सफाई कर। चार बत्ती के मुख वाला दिया जला और लक्ष्मी जी का नाम लेकर बैठ जा। उसी समय एक चील द्वारा किसी रानी का नौलखा हार उसके पास आ गया। साहूकार की बेटी ने उस हार को बेचकर भोजन की तैयारी की। थोड़ी देर में श्री गणेश के साथ लक्ष्मी जी उसके घर आ गई। साहूकार की बेटी ने दोनों की खूब सेवा की, उसकी खातिर से लक्ष्मी जी बहुत प्रसन्न हुई और साहूकार बहुत अमीर बन गया।

Next Stories
1 दीपावली पर लक्ष्मी पूजा कैसे करें? जानिए पूजन सामग्री से लेकर विधि, मंत्र और मुहूर्त
2 दिवाली पर कितने बजे है लक्ष्मी पूजा का उत्तम समय, जानिए पूजा विधि, आरती और मंत्र
3 कन्या राशि वाले कर सकते हैं व्यापार में बकाया पैसों की वसूली, जानिए दिवाली पर क्या है आपके लिए खास
ये पढ़ा क्या?
X