ताज़ा खबर
 

Diwali 2019/ Darsha Amavasya: दर्श अमावस्या पर पड़ रही इस बार दिवाली, जानिए इस खास संयोग का अर्थ

Diwali 2019/ Darsha Amavasya: चंद्र दोष से मुक्ति पाने के लिए इस दिन व्रत रखना लाभकारी माना गया है।

धर्म शास्त्रों के मुताबिक दर्श अमावस्या के संयोग पर चाँद पूरी रात दिखाई नहीं देता है।

Diwali 2019/ Darsha Amavasya: दिवाली इस साल 27 अक्तूबर दिन रविवार को पड़ रही है। हिन्दू पंचांग के मुताबिक कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को हार साल दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस दिन को कई स्थानों पर काली पूजा के तौर पर भी मनाया जाता है। इसके अलावा इस दिन लक्ष्मी पूजा का भी विधान है। लोग अपने-अपने घरों को साफ-सुथरा कर देवी लक्ष्मी के आगमन की कामना करते हैं। साथ ही शुभ मुहूर्त में विधिवत लक्ष्मी और गणेश की पूजा करते हैं। चूंकि दिवाली हर साल अमावस्या तिथि पर पड़ती हैं इसलिए इसका खास महत्त्व हो जाता है। इस बार दिवाली पर दर्श अमावस्या का संयोग बन रहा है।

क्या होता है दर्श अमावस्या

धर्म शास्त्रों के मुताबिक दर्श अमावस्या के संयोग पर चाँद पूरी रात दिखाई नहीं देता है। माना जाता है कि यह अमावस्या पूर्वजों की पूजा और पितृ दोष के निवारण के लिए शुभ है। जो लोग सच्ची श्रद्धा के साथ अपने पूर्वजों को याद करते हैं उनके ऊपर पूर्वजों की कृपा बनी रहती है। इस अमावस्या पर व्रत रखने का भी विधान है। चंद्र दोष से मुक्ति पाने के लिए इस दिन व्रत रखना लाभकारी माना गया है। आध्यात्मिक समृद्धि के लिए चंद्र देवता की पूजा खास मानी गयी है। इस दिन चंद्र देवता की पूजा से सदैव में मन में शांति और स्वभाव में शालीनता बनी रहती है।

ज्योतिष में दर्श अमावस्या का महत्त्व

ज्योतिष शास्त्र में चंद्र नवग्रहों में प्रमुख स्थान रखता है। जो मन का कारक ग्रह होता है। इसलिए दर्श अमावस्या पर व्रत रखने से मानसिक व्याधियां दूर होती है। इसलिए ज्योतिषी सलाह देते हैं कि दर्श अमावस्या पर चंद्र देव की पूजा करने से जीवन की अड़चनें दूर होती हैं और भाग्यवृद्धि और सुख-समृद्धि का आशीर्वाद मिलता है।

दर्श अमावस्या के लाभ

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अमावस्या देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु को समर्पित है। धर्म शास्त्र के जानकारों का मानना है कि जब अमावस्या दर्श अमावस्या से युक्त हो तो यह और भी लाभकारी साबित होता है। दरअसल इस अमावस्या पर लक्ष्मी-विष्णु की पूजा करने से जीवन की आर्थिक परेशानी दूर होती है। वीवाह में आ रही अड़चनें दूर होती है। इसके अलावा बीमारियों से भी निजात पाया जा सकता है।

Next Stories
1 Karwa Chauth 2019 Date and Day: करवा चौथ कब है? जानिए तिथि, तारीख और खास संयोग
2 Chanakya Niti: गलत ढंग से कमाया हुआ पैसा टिकता है केवल 10 साल, चाणक्य से जानिए क्या होता है उसके बाद
3 कब है अगला ग्रहण? जानिए, सूर्य और चंद्र ग्रहण के बीच अंतर
Coronavirus LIVE:
X