ताज़ा खबर
 

Devi Chitralekha Bhajan: इस साध्वी ने 6 साल की उम्र में सुनाया था पहला भजन, सुनिये साध्वी चित्रलेखा के लोकप्रिय भजन

Devi Chitralekha: जानकारी के अनुसार साध्वी चित्रलेखा ने अपना पहला उपदेश उत्तर प्रदेश के बरसाना में दिया था। जहां बाबा रमेश ने उन्हें अचानक सबके सामने कुछ कहने के लिए कहा। जिसके बाद देवी चित्रलेखा ने आधे घंटे तक लोगों के बीच उपदेश दिया। इसके बाद वृंदावन में इन्होंने 7 दिनों तक भागवत कथा की और देखते ही देखते चित्रलेखा साध्वी बन गईं।

Devi Chitralekha, Devi Chitralekha ji, Devi Chitralekha bhajan, Devi Chitralekha song, Devi Chitralekha biography, Devi Chitralekha jivan parichay, krishna song, bhakti song,देवी चित्रलेखा की फैन फॉलोइंग आज देश ही नहीं विदेशों में भी है। आज इन्हें देवी जी गुरुदेव चित्रलेखा के नाम से भी जाना जाता है।

Devi Chitralekha: साध्वी चित्रलेखा हरियाणा की गुरुदेव हैं। जो 6 साल से भागवत कथा कर रहीं हैं। इंटरनेट पर मिली जानकारी के अनुसार इनका जन्म 19 जनवरी 1997 में हरियाणा एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। बेहद ही कम उम्र में इन्होंने अपनी एक अलग पहचान बना ली। आज इन्हें देश ही नहीं विदेश में भी लोग जानते हैं। आज इनके उपदेशों को सुनने वालों की संख्या करोड़ों में है। ये भारत के साथ-साथ यूके, यूएस और अफ्रीका में भी कार्यक्रम कर चुकी हैं।

जानकारी के अनुसार साध्वी चित्रलेखा ने अपना पहला उपदेश उत्तर प्रदेश के बरसाना में दिया था। जहां बाबा रमेश ने उन्हें अचानक सबके सामने कुछ कहने के लिए कहा। जिसके बाद देवी चित्रलेखा ने आधे घंटे तक लोगों के बीच उपदेश दिया। इसके बाद वृंदावन में इन्होंने 7 दिनों तक भागवत कथा की और देखते ही देखते चित्रलेखा साध्वी बन गईं। देखिए इनके लोकप्रिय भजन…

‘सांवरी सूरत पे मोहन दिल दीवाना हो गया’सुनिए देवी चित्रलेखा का ये मन को मोहने वाला खूबसूरत भक्ति गीत…

‘जरा चल के वृन्दावन देखो, श्याम बंसी बजाते मिलेंगे’ 2020 में आया ये भक्ति गीत आपको श्याम रंग में रंग देगा…

‘मोहे ब्रज की धूल बना दे लाडली श्री राधे’ इस भक्ति गीत के सभी दिवाने हैं…

‘मेरी लगी श्याम संग प्रीत’ साध्वी चित्रलेखा की आवाज में इस भक्ति भजन को काफी ज्यादा पसंद किया गया। इस गाने को 26,836,826 व्यूज मिल चुके हैं।

‘जब याद तुम्हारी आती है’ भगवान कृष्ण पर गाया गया ये भक्ति गीत मन को छू लेने वाला है…

राधा रानी के चरण प्यारे प्यारे…देखिए इस शानदार भक्ति गीत का वीडियों

भजन और उपदेश के साथ चित्रलेखा ने अपनी पढ़ाई भी जारी रखी। देवी चित्रलेखा की फैन फॉलोइंग आज देश ही नहीं विदेशों में भी है। आज इन्हें देवी जी गुरुदेव चित्रलेखा के नाम से भी जाना जाता है। ये 4 साल की उम्र से बंगाली गुरू गिरधारी बाबा की संस्था से जुड़ीं। यहीं से उनकी ट्रेनिंग शुरू हुई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Navratri 2020: नवरात्रि के नौ दिन क्या करना चाहिए और किन कार्यों को करने की होती है मनाही, जानें- विस्तार से
2 हस्तरेखा ज्ञान: हाथ की ये रेखा मैरिज लाइफ के साथ बताती है कि कितने रहेंगे प्रेम प्रसंग
3 Bhojpuri Song: अनु दुबे के नवरात्रि स्पेशल ये देवी गीत हो रहे हैं वायरल, देखिए Videos
यह पढ़ा क्या?
X