ताज़ा खबर
 

Dev Uthani Ekadashi, Tulsi Vivah Geet: तुलसी माता का विवाह कराते समय ये गीत गाये जाते हैं

Dev Uthani (Devuthani) Ekadashi 2019: नमो नमो तुलसा महारानी, नमो नमो हर की पटरानी... तुलसी जी के गीत, भजन और आरती देखिए यहां।

Author नई दिल्ली | Updated: November 8, 2019 6:39 PM
तुलसी विवाह धूम धाम के साथ गीत गाकर किया जाता है।

Dev Uthani Ekadashi, Tulsi Vivah Song: देव उठनी एकादशी के दिन भगवान शालिग्राम जी का तुलसी से विवाह कराया जाता है। मान्यता है कि विष्णु जी का ही स्वरूप है भगवान शालिग्राम। श्री हरि की पूजा बिना तुलसी के अधूरी मानी जाती है। कार्तिक शुक्ल एकादशी यानी देवोत्थान एकादशी के दिन पूरे रीति रिवाज के साथ तुलसी और शालिग्राम का विवाह कराया जाता है। विवाह के समय लोग तरह तरह के गीत गाते हैं जो इस प्रकार है…

तुलसी विवाह गीत (Tulsi Vivah Geet) :

नमो नमो तुलसा महारानी,
नमो नमो हर की पटरानी।

कौन से महीने बीज को बोया,
तो कोनसे महीने में हुई हरियाली ।

नमो नमो….

सावन में मैया बीज को बोया ,
तो भादो मास हुई हरियाली ।

नमो नमो….

कौन से महीने में हुई तेरी पूजा तो,
कौन से महीने में हुई पटरानी ।

नमो नमो….

कार्तिक में हुई तेरी पूजा,
तो मंगसर मास हुई पटरानी ।

नमो नमो….

बाई तुलसी थे जपतप कीन्हा,
सालगराम हुई पटरानी ।

नमो नमो….

बारह बरस जीजी कार्तिक नहाई,
सालगराम हुई पटरानी ।

नमो नमो….

छप्पन भोग धरे हरि आगे,
तो बिन तुलसा हरि एक न मानी ।

नमो नमो….

सांवरी सखी मईया तेरो जस गावे ,
तो चरणा में वासो छीजो महारानी।

नमो नमो तुलसा महारानी
नमो नमो हर जी पटरानी।

तुलसी विवाह के गीत (Tulsi Vivah Ka Geet) :

मेरी प्यारी तुलसा जी बनेगी दुल्हनियां…
सजके आयेंगे दूल्हे राजा।
देखो देवता बजायेंगे बाजा…

सोलह सिंगार मेरी तुलसा करेंगी।
हल्दी चढ़ेगी मांग भरेगी…
देखो होठों पे झूलेगी नथनियां।
देखो देवता…

देवियां भी आई और देवता भी आए।
साधु भी आए और सन्त भी आए…
और आई है संग में बरातिया।
देखो देवता…

गोरे-गोरे हाथों में मेहन्दी लगेगी…
चूड़ी खनकेगी ,वरमाला सजेगी।
प्रभु के गले में डालेंगी वरमाला।
देखो देवता…

लाल-लाल चुनरी में तुलसी सजेगी…
आगे-आगे प्रभु जी पीछे तुलसा चलेगी।
देखो पैरो में बजेगी पायलियां।
देखो देवता…

सज धज के मेरी तुलसा खड़ी है…
डोली मंगवा दो बड़ी शुभ घड़ी है।
देखो आंखों से बहेगी जलधारा।
देखो देवता…

तुलसी माता की आरती (Tulsi Ji Ki Aart) :

जय जय तुलसी माता, सब जग की सुख दाता…
।। जय ।।

सब योगों के ऊपर, सब लोगों के ऊपर…
रुज से रक्षा करके भव त्राता।
।। जय।।

बटु पुत्री हे श्यामा सुर बल्ली हे ग्राम्या…
विष्णु प्रिये जो तुमको सेवे सो नर तर जाता।
।। जय ।।

हरि के शीश विराजत त्रिभुवन से हो वंदित…
पतित जनों की तारिणी तुम हो विख्याता।
।। जय ।।

लेकर जन्म विजन में आई दिव्य भवन में…
मानवलोक तुम्हीं से सुख संपत्ति पाता।
।। जय ।।

हरि को तुम अति प्यारी श्याम वरुण कुमारी…
प्रेम अजब है उनका तुमसे कैसा नाता।
।। जय ।।

बोलो तुलसी माता की जय….!

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Dev Uthani Ekadashi, Tulsi Vivah 2019 Puja Vidhi, Shubh Muhurat: जानिए तुलसी विवाह की पूरी विधि विस्तार से यहां
2 Chanakya Neeti: आदर्श पत्नी कौन होती है? जानिए चाणक्य नीति में क्या लक्षण बताए गए
3 Tulsi Vivah 2019 Puja Vidhi, Muhurat: इस शुभ मुहूर्त में करें तुलसी और शालिग्राम भगवान का विवाह…. जानिए महत्व और पूरी विधि