ताज़ा खबर
 

जन्माष्टमी व्रत विधि और कथा: बाल गोपाल के जन्मोत्सव पर ऐसे रखें व्रत, खूब बरसेगी भगवान श्री कृष्ण की कृपा!

Janmashtami Vrat Vidhi, Puja 2017: जन्माष्टमी के दिन कुछ लोग भगवान श्री कृष्ण को 56 या 108 तरह के पकवानों का भोग भी लगाते हैं।

Janmashtami, Janmashtami 2017, Janmashtami Vrat Vidhi, Krishna Janmashtami, Krishna Janmashtami 2017, Janmashtami Vrat vidhi in Hindi, Janmashtami Puja Vidhi, Janmashtami Puja Katha, Janmashtami Vrat katha, Janmashtami Vrat Katha in Hindi, जन्माष्टमी, जन्माष्टमी 2017, जन्माष्टमी पूजा विधि, जन्माष्टमी व्रत विधि, जन्माष्टमी व्रत कथा, Krishna Janmashtami Vrat VidhiJanmashtami Vrat Vidhi 2017: भगवान श्री कृष्ण की पूजा करतीं एक महिला। (Photo Source: Indian Express Archive)

आज(14 अगस्त) को जन्माष्टमी मनाई जा रही है। जन्माष्टमी के दिन श्रद्धालू भगवान श्री कृष्ण की पूजा करते हैं और कई लोग व्रत भी रखते हैं। बताया जाता है कि इस दिन व्रत रखने से घर में सुख, शांति और समृद्धि आती है। ऐसे मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं जन्माष्टमी की व्रत विधि। हालांकि, इस दिन व्रत के लिए कोई विशेष नियम नहीं हैं। श्रद्धालू अपनी इच्छा के मुातबिक व्रत रखते हैं और भगवान श्री कृष्ण की पूजा करते हैं। हां, यह बात भी याद रखना है कि जिनकी श्रद्धा व्रत रखने की नहीं है, उनके लिए इस दिन उपवास रखना जरूरी नहीं है। ऐसे लोग अपने मन में श्रद्धा रखकर भी व्रत कर सकते हैं। भगवान श्री कृष्ण आपकी भक्ति स्वीकार करेंगे।

हिंदू धर्म के मुताबिक प्रत्येक इंसान को जन्माष्टमी का व्रत करना चाहिए। इसमें बुजुर्ग, रोगी और बच्चों को छूट है। जन्माष्टमी के दिन जो भी व्रत रखते हैं वे सुबह स्नान करके माता देवकी के लिए सूतिका गृह बनाएं। इसे फूलों से सजाएं। सूतिका गृह में बाल गोपाल सहित माता देवकी की मूर्ति स्थापित करें। इसके बाद देवकी मां, भगवान श्री कृष्ण, यशोदा माता, वसुदेव और माता लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए।

कन्हैया को भी इस दिन स्नान कराना चाहिए। स्नान के बाद उन्हें पीले रंग के कपड़े धारण करवाएं और पीले रंग के आभूषणों से उनका श्रृंगार करें। श्रृंगार करने के बाद उन्हें झूले पर झुलाएं और उसके बाद सिंहासन पर विराजमान कर दें।

जन्माष्टमी पर पूरे दिन उपवास रखने के बाद कृष्ण भगवान के जन्म के बाद भोजन ग्रहण किया जाता है। इस दिन कुछ लोग निराहार व्रत करते हैं तो वहीं कुछ लोग केवल फल खाकर व्रत रखते हैं। कुछ लोग फलाहार के साथ भी व्रत रखते हैं। दिन भर उपवास रखने के बाद रात में 11 बजे स्नान करके शास्त्रानुसार विधि पूर्वक नंदलाल की पूजा करनी चाहिए। रात में 12 बजे के बाद भगवान श्री कृष्ण के जन्म के बाद उन्हें दूध, दही, घी, मिश्री और गंगाजल अभिषेक करते हैं। इसके अलावा मखन, मिश्री, पंजीरी और खीरा-ककड़ी का भोग लगाकर भगवान श्री कृष्ण की आरती करनी चाहिए। कुछ लोग इस दिन भगवान श्री कृष्ण को 56 या 108 तरह के पकवानों का भोग भी लगाते हैं, हालांकि, यह जरूरी नहीं है। कई लोग पूरी रात भजन-कीर्तन करते हैं।

Next Stories
1 Happy Janmashtami: ये तस्वीरें भेज अपने सगे-संबंधियों को दें कन्हैया के जन्मोत्सव की बधाई
2 जन्माष्टमी 2017 पूजा विधि: जानिए- किस मुहूर्त में करें पूजा और कब से कब तक रहेगी अष्टमी तिथि
3 कृष्ण जन्माष्टमी व्रत कथा: व्रत करें या ना, जरूर सुनें भगवान श्रीकृष्ण की ये जन्मकथा
यह पढ़ा क्या?
X