ताज़ा खबर
 

नहीं हो रही शादी तो सावन के महीने में इस मंत्र का करें जाप, जल्द बनेगा विवाह योग

ज्योतिषियों की माने तो सावन के महीने में भगवान शिवजी के एक मंत्र का जाप करने से शादी का योग बन सकता है।

शादी का सांकेतिक फोटो

शास्त्रों में सावन के महीने को भगवान शिवजी का महीना माना जाता है। मान्यता है कि इस महीने में भगवान शिवजी की पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यही वजह है भगवान शिवजी को खुश करने के लिए उनके भक्त इस महीने में भोलनाथ की पूजा करते हैं। ज्योतिषियों की माने तो सावन के महीने में भगवान शिवजी के एक मंत्र का जाप करने से शादी का योग बन सकता है। कई बार देखा जाता है कि कुछ कन्याओं की शादी के लिए अच्छा वर नहीं मिल पाता है। घर वालों को कन्या के लिए वर ढूंढने में काफी दिक्कतें आती हैं। अगर आपके सगे-संबंधियों में से किसी लड़की की शादी के योग नहीं बन रहे तो आज हम उनके लिए लाए हैं भगवान शिवजी का एक मंत्र, जिसका जाप करने से शादी के योग जल्दी बन जाते हैं।

ज्योतिषियों का कहना है कि सावन के महीने में भगवान शिवजी का ध्यान करते हुए, सावन के किसी भी सोमवार को किसी भी पात्र में ‘मंत्रसिद्ध शिवगौरी यंत्र’ को स्थापित करके उसका पूजन करें। इसे स्थापित करने के बाद ‘मंत्रसिद्ध साफल्य माला’ से 11 माला मंत्र जाप करें। कहा जाता है कि ‘ऊँ ऐं ह्वीं श्रीं विवाह बाधा निवारणाय भवोद्भवाय नमः’ नाम के मंत्र का जाप करने से शादी के योग बनते हैं। इस मंत्र का 31 दिनों तक जाप करने के बाद साफल्य माला को लड़की को पहना दें या पास के किसी मंदिर में विराजमान कर दें। शादी के बाद यंत्र को जल में प्रवाहित कर दें।

HOT DEALS
  • Moto G6 Deep Indigo (64 GB)
    ₹ 15727 MRP ₹ 19999 -21%
    ₹0 Cashback
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback

ज्योतिषियों का मानना है कि अगर किसी के परिवार में घर में सदस्यों के बीच आपसी झगड़े चल रहे हैं तो सावन के महीने में किसी पात्र में मंत्रसिद्ध शिवगौरी यंत्र को स्थापित करके पूजन करें और उसके समक्ष ‘ऊँ गृहस्थ सुख सिद्धये रुद्राय नमः’ मंत्र का पांच दिन तक 11 बार जाप करें। जाप खत्म होने के बाद यंत्र को शिवमंदिर में चढ़ा दें। ऐसा करने से भगवान शिवजी की कृपा से परिवार के झगड़े खत्म होंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App