ताज़ा खबर
 

चाणक्य नीति: चाहे स्त्री हो या पुरुष, इन तीन कामों में कभी नहीं करनी चाहिए शर्म

आचार्य चाणक्य अनुसार किसी भी व्यक्ति को धन से संबंधित कार्यों को करने में शर्म नहीं करनी चाहिए। जो व्यक्ति पैसों से संबंधित कोई भी कार्य करने में शर्म करता है उसे आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

chankya niti, chankya neeti, acharya chankya, chankya, चाणक्य नीति, आचार्य चाणक्य, चाणक्य का जीवन के बारे में, chankya important quotes, chankya important things, know chankya, know chankya neeti,आचार्य चाणक्य अनुसार व्यक्ति को किन कार्यों को करने में शर्म नहीं आनी चाहिए?

Chankya niti: अकसर यह सुनने को मिलता है कि शर्म और लिहाज करने से आचरण सभ्य बनता है। लेकिन आचार्य चाणक्य की एक नीति ऐसी है जिसमें कुछ मौकों पर बेशर्म होना ज्यादा अच्छा माना गया है। चाणक्य कहते हैं कि अगर इंसान इन मौकों पर बेशर्म नहीं बनेगा तो उसका अपना ही नुकसान होगा। आचार्य चाणक्य की नीतियों का आज के समय में भी काफी महत्व देखा जाता है। कहा जाता है कि उनकी नीतियों में मनुष्य जीवन से जुड़ी सभी परेशानियों का हल मिल सकता है। जानते हैं कि आचार्य चाणक्य अनुसार लोगों को किस कार्यों को करने में कोई शर्म नहीं करनी चाहिए…

चाणक्य नीति में एक श्लोक मे यह कहा गया है कि ” धनधान्यप्रयोगेषु विद्वासंग्रहणे तथा।आहारे व्यवहारे च त्यक्तलज्ज: सुखी भवेत।। ” आचार्य चाणक्य के इस श्लोक से इस बात की जानकारी मिलती है कि इंसान को किन तीन कार्यों को करने में किसी भी प्रकार की शर्म नहीं करनी चाहिए।

अपना पैसा मांगने में:- आचार्य चाणक्य अनुसार किसी भी व्यक्ति को धन से संबंधित कार्यों को करने में शर्म नहीं करनी चाहिए। जो व्यक्ति पैसों से संबंधित कोई भी कार्य करने में शर्म करता है उसे आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जैसे अगर किसी व्यक्ति को पैसा उधार दिया है और हम शर्म के कारण उसे वापस नहीं मांग पा रहे हैं तो ऐसे में धन की हानि निश्चित है। ऐसा करने से हमारा ही नुकसान हो सकता है।

गुरु से स्वाल पूछने में:- दूसरा ज्ञान चाणक्य ने यह दिया है कि जो व्यक्ति अपने गुरु से कोई प्रश्न पूछने में शर्माता हो तो ऐसे व्यक्ति को कभी ज्ञान की प्राप्ति नहीं हो सकती है। अच्छा शिष्य शिक्षा प्राप्ति के समय शर्म नहीं करता है। इसलिए कभी भी अपने गुरु से प्रश्न पूछने में शर्म नहीं करनी चाहिए।

खाना खाते समय:- अगर कोई व्यक्ति खाना खाने में शर्म करता है तो वह भूखा ही रह जाएगा। कभी कभी लोग अपने रिश्तेदारों या करीबियों के यहां भोजन करते हुए शर्म करते हैं। इस पर चाणक्य का कहना है कि ऐसे लोग भर पेट भोजन नहीं कर पाते हैं। इसलिए खाना खाने में किसी तरह की शर्म नहीं करनी चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Horoscope Today June 24, 2019: तुला राशि वालों को आर्थिक मामलों को लेकर बरतनी होगी सावाधानी, यहां जानें अपना दैनिक राशिफल
2 वास्तु शास्त्र के अनुसार जानिए, दुकान न चलने पर करने चाहिए कौन-कौन से उपाय
3 यहां मां काली ने दिया था रामकृष्ण परमहंस को दर्शन, जानिए पौराणिक कथा
आज का राशिफल
X