ताज़ा खबर
 

Chandra Grahan 2020 Date, Timings in India: आज है साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण, जानिए इसकी सभी जरूरी बातें और खासियतें

Chandra Grahan (Lunar Eclipse) November 2020 Date and Time in India, चंद्र ग्रहण कब है:.. 30 नवंबर, सोमवार के दिन परम पावन कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को चंद्रग्रहण लगेगा।

chandra grahan, chandra grahan 2020, chandra grahan November 2020Lunar Eclipse 2020 Date: इस साल का अंतिम चंद्रग्रहण उपच्छाया ग्रहण है।

Chandra Grahan or Lunar Eclipse November 2020 Date and Time in India… ज्योतिष शास्त्र में चंद्रग्रहण को बहुत अधिक प्रभावशाली माना जाता है। 30 नवंबर, सोमवार के दिन परम पावन कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को चंद्रग्रहण लगेगा। जानकारों के अनुसार यह साल 2020 का अंतिम चंद्रग्रहण है।

विद्वानों का कहना है कि यह उपच्छाया ग्रहण (Upchhaya Chandra Grahan) है। इसमें किसी विशेष ग्रह पर केवल चंद्रमा की परछाई आती है। अबकी बार चंद्रग्रहण वृष राशि और रोहिणी नक्षत्र में लगेगा। विशेषज्ञों के मुताबिक तो भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और एशिया में यह चंद्रग्रहण दिखाई दे सकता है।

विज्ञान में ग्रहण को केवल एक भौगोलिक घटना के रूप में देखा जाता है। जबकि ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण को देश-दुनिया में होने वाले एक बड़े बदलाव के रूप में देखा जाता है। इसके अलावा ज्योतिष शास्त्र के विद्वानों का मानना है कि चंद्रग्रहण का असर मानव जीवन पर पड़ता है। ग्रहण के सूतक काल को इच्छापूर्ति के लिए अच्छा माना जाता है। कहते हैं कि ग्रहण के दौरान इच्छा पूरी करवाने के लिए किया गया मंत्र जाप बहुत शीघ्र सफल हो सकता है।

कहते हैं कि चंद्रग्रहण के दौरान विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए वरना चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभावों को सहना पड़ सकता है। चंद्रग्रहण में इस बात का खास ख्याल रखें कि आप और आपके परिवार का कोई भी सदस्य चंद्रग्रहण के समय चंद्रमा की ओर ना देखे और ना ही चांद की रोशनी में बैठे। कहते हैं कि इससे चंद्रग्रहण के दौरान चांद को होने वाले कष्ट का असर आपके जीवन में आ सकता है।

मान्यता है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को किसी भी नुकीली वस्तु का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, इनमें चाकू, कैंची, सूई और तलवार आदि शामिल हैं। साथ ही इस दौरान सोना, खाना, पीना, नहाना और किसी की बुराई करने पर भी पाबंदी होती है। ज्योतिष शास्त्र के जानकार बताते हैं कि सूतक काल शुरू होने से लेकर उसका समय पूरा होने तक गर्भवती महिलाओं को अपने हाथ-पैर बिना मोड़े, हाथ में नारियल लेकर बैठना चाहिए और ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान कर इस नारियल को जल में प्रवाहित कर देना चाहिए।

Live Blog

Highlights

    19:40 (IST)30 Nov 2020
    चंद्रग्रहण के लाइव अपडेट

    19:10 (IST)30 Nov 2020
    क्या है उपच्छाया चंद्रग्रहण

    बता दें कि विद्वानों का मानना है कि यह एक उपच्छाया चंद्रग्रहण है। यहां उपच्छाया का अर्थ यह बताया गया है कि चंद्रमा की केवल छाया ही पृथ्वी पर आ पाएगी, इसी छाया की वजह से इस ग्रहण को उपच्छाया चंद्रग्रहण कहा जा रहा है। ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि उपच्छाया चंद्रग्रहण का बहुत अधिक प्रभाव मानव जीवन पर नहीं पड़ता है। इसलिए ही इस ग्रहण को अधिक प्रभावशाली नहीं माना जाता है। कहते हैं कि इस प्रकार का ग्रहण देश और दुनिया पर भी ज्यादा प्रभाव नहीं डालता है।

    18:40 (IST)30 Nov 2020
    इससे पहले 3 बार लग चुका है चंद्रग्रहण

    साल 2020 में 3 बार चंद्रग्रहण लग चुका है। यह साल का चौथा और आखिरी चंद्रग्रहण है। विद्वानों ने मुताबिक यह एक उपच्छाया चंद्रग्रहण है यानी इसका असर बहुत अधिक नहीं पड़ेगा।

    17:49 (IST)30 Nov 2020
    चंद्रग्रहण लाइव अपडेट

    17:06 (IST)30 Nov 2020
    चंद्रग्रहण के दौरान क्या करें क्या ना करें

    कहते हैं कि उपच्छाया चंद्रग्रहण के न्यूनतम नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिए सावधानियां बरतनी चाहिए। ग्रहण काल में नुकीली वस्तुओं का इस्तेमाल ना करें, खाना ना बनाएं ना खाएं, घर के मंदिर में या मंदिर जाकर पूजा-पाठ ना करें और साथ ही अपने मन में ईश्वर का ध्यान लगाते हुए नाम या मंत्र जाप करें।

    16:31 (IST)30 Nov 2020
    चंद्रग्रहण में किसी की बुराई

    चंद्रग्रहण के दौरान किसी भी व्यक्ति की बुराई नहीं करनी चाहिए। कहते हैं कि यह बहुत प्रभावशाली समय होता है। इस दौरान व्यक्ति अगर किसी के साथ बुरा करता है तो उसके साथ भी बुरा हो सकता है।

    15:52 (IST)30 Nov 2020
    क्यों खास है आखिरी चंद्रग्रहण

    साल के अंतिम चंद्रग्रहण को इसलिए खास माना जा रहा है क्योंकि इस दिन कार्तिक पूर्णिमा और गुरु नानक जयंती हैं। साथ ही इस दिन चंद्रग्रहण दिन में लगने वाला है।

    14:37 (IST)30 Nov 2020
    नहीं करें किसी नये कार्य की शुरुआत

    ग्रहण के दौरान किसी नए व शुभ कार्य की शुरुआत करने से बचें. असफलता हाथ लग सकती है. साथ ही ग्रहण के समय कभी भी पति-पत्नी को शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए.

    13:52 (IST)30 Nov 2020
    शुरू हो चुका है ग्रहण

    आकाश में इस साल का अंतिम चंद्रग्रहण लग चुका है. चंद्रग्रहण दोपहर 1 बजकर 4 मिनट से आरंभ होकर शाम 5 बजकर 22 मिनट पर समाप्त होगा

    13:10 (IST)30 Nov 2020
    इस शुभ योग में लगेगा ग्रहण

    चंद्र ग्रहण सर्वार्थ सिद्धि योग और प्रवर्धमान योग में लगेगा

    12:34 (IST)30 Nov 2020
    जानें किस समय लगेगा ग्रहण

    -चंद्र ग्रहण की तारीख - 30 नवंबर, 2020

    -पेनुम्ब्रा से पहला संपर्क - दोपहर 01:04 बजे

    -चंद्रग्रहण का कब होगा चरम पर- दोपहर 03:13 बजे

    -पेनुम्ब्रा के साथ अंतिम संपर्क - 05:22 बजे

    -पेनुब्रल चरण की अवधि - 04 घंटे 18 मिनट 11 सेकंड

    11:52 (IST)30 Nov 2020
    इस तरह रखें खुद को सुरक्षित

    कहते हैं कि चंद्रग्रहण के दौरान विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए वरना चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभावों को सहना पड़ सकता है। चंद्रग्रहण में इस बात का खास ख्याल रखें कि आप और आपके परिवार का कोई भी सदस्य चंद्रग्रहण के समय चंद्रमा की ओर ना देखे और ना ही चांद की रोशनी में बैठे। कहते हैं कि इससे चंद्रग्रहण के दौरान चांद को होने वाले कष्ट का असर आपके जीवन में आ सकता है।

    11:08 (IST)30 Nov 2020
    ये काम हैं वर्जित

    भोजन ना पकाएं ना खाएं। कपड़े ना धोएं। सब्जी व फल आदि ना काटें। किसी की बुराई ना करें। किसी जीव की हत्या ना करें।

    10:28 (IST)30 Nov 2020
    उपच्छाया ग्रहण में क्या होता है अंतर

    कुछ विद्वानों का मानना है कि उपच्छाया चंद्रग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है। इसलिए ना तो भारत में सूतक काल माना जाएगा और ना ही किसी कार्य को करने की पाबंदी होगी।

    09:41 (IST)30 Nov 2020
    ग्रहण काल के समय न करें भोजन

    ग्रहण काल के समय भोजन नहीं करना चाहिए। क्योंकि ये शरीर के लिए नुकसानदायक माना गया है।घर में पके हुए भोजन में सूतक काल लगने से पहले ही तुलसी के पत्ते डालकर रख देने चाहिए। इससे भोजन दूषित नहीं होता है।चन्द्र ग्रहण किसी भी मास की पूर्णिमा पर घटित होता हैं अतः भगवान सत्यनारायण की कथा करें।जरूरतमंद लोगों को धन और अनाज का दान करें।

    08:47 (IST)30 Nov 2020
    दान-दक्षिणा है जरूरी

    संभव हो तो दान के बाद अन्न दान जरूर करें। शास्त्रों में कहा गया है कि इस प्रकार का दान ब्राह्मणों को ही देना चाहिए। अगर ऐसा संभव ना हो पाए तो आप यह दान गरीब या जरूरतमंदों को भी दे सकते हैं क्योंकि धार्मिक पुस्तकों में यह भी बताया जाता है कि ईश्वर हर एक प्राणी में वास करते हैं वो किसी भी जीवात्मा में कम या ज्यादा मात्रा में नहीं होते हैं।

    08:17 (IST)30 Nov 2020
    इन कार्यों को करने से होती है मनाही

    इस दौरान सोना, खाना, पीना, नहाना और किसी की बुराई करने पर भी पाबंदी होती है।

    07:41 (IST)30 Nov 2020
    इस समय ग्रहण होगा अपने चरम पर

    30 नवंबर, सोमवार को पड़ने वाला ग्रहण साल का आखिरी चंद्रग्रहण है। जानकारों की मानें तो यह ग्रहण भारत में दोपहर 01 बजकर 04 मिनट पर शुरू हो जायेगा और शाम 5 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। जबकि, दोपहर 03 बजकर 13 मिनट पर यह चंद्रग्रहण चरम पर होगा। उपछाया चंद्रग्रहण का प्रभाव कुल 04 घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक भारत में रहेगा।

    07:07 (IST)30 Nov 2020
    गर्भवती महिलाएं रखें खास ख्याल

    मान्यता है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को किसी भी नुकीली वस्तु का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, इनमें चाकू, कैंची, सूई और तलवार आदि शामिल हैं।

    06:24 (IST)30 Nov 2020
    कैसे लगता है चंद्रग्रहण

    चंद्रग्रहण तब लगता है जब पृथ्वी सूर्य के प्रकाश को चंद्रमा तक पहुंचने से रोक देती है. या यूं कहे कि यह तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया में चली जाती है.

    21:31 (IST)29 Nov 2020
    चंद्रग्रहण का समय

    30 नवंबर, सोमवार को पड़ने वाला ग्रहण साल का आखिरी चंद्रग्रहण है। जानकारों की मानें तो यह ग्रहण भारत में दोपहर 01 बजकर 04 मिनट पर शुरू हो जायेगा और शाम 5 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। जबकि, दोपहर 03 बजकर 13 मिनट पर यह चंद्रग्रहण चरम पर होगा। उपछाया चंद्रग्रहण का प्रभाव कुल 04 घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक भारत में रहेगा।

    20:53 (IST)29 Nov 2020
    चंद्रग्रहण में क्या ना करें...

    1. भोजन ना पकाएं ना खाएं।
    2. कपड़े ना धोएं।
    3. सब्जी व फल आदि ना काटें।
    4. किसी की बुराई ना करें।
    5. किसी जीव की हत्या ना करें।

    19:18 (IST)29 Nov 2020
    चंद्रग्रहण का प्रभाव

    ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि उपच्छाया चंद्रग्रहण का बहुत अधिक प्रभाव मानव जीवन पर नहीं पड़ता है। इसलिए ही इस ग्रहण को अधिक प्रभावशाली नहीं माना जाता है। कहते हैं कि इस प्रकार का ग्रहण देश और दुनिया पर भी ज्यादा प्रभाव नहीं डालता है।

    18:00 (IST)29 Nov 2020
    चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभाव...

    कहते हैं कि चंद्रग्रहण के दौरान विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए वरना चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभावों को सहना पड़ सकता है। चंद्रग्रहण में इस बात का खास ख्याल रखें कि आप और आपके परिवार का कोई भी सदस्य चंद्रग्रहण के समय चंद्रमा की ओर ना देखे और ना ही चांद की रोशनी में बैठे।

    17:08 (IST)29 Nov 2020
    गर्भवती महिलाएं रहें सावधान...

    मान्यता है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को किसी भी नुकीली वस्तु का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, इनमें चाकू, कैंची, सूई और तलवार आदि शामिल हैं। साथ ही इस दौरान सोना, खाना, पीना, नहाना और किसी की बुराई करने पर भी पाबंदी होती है।

    16:29 (IST)29 Nov 2020
    चंद्रग्रहण से इच्छापूर्ति

    ग्रहण के सूतक काल को इच्छापूर्ति के लिए अच्छा माना जाता है। कहते हैं कि ग्रहण के दौरान इच्छा पूरी करवाने के लिए किया गया मंत्र जाप बहुत शीघ्र सफल हो सकता है।

    15:44 (IST)29 Nov 2020
    इसलिए भारत में नहीं दिखेगा ग्रहण

    जानकारों का कहना है कि इस बार चंद्रग्रहण दूसरे क्षितिज पर लगेगा इसलिए भारत में रहने वाले लोग चंद्रग्रहण नहीं देख पाएंगे। माना जा रहा है कि इस बार चंद्रग्रहण तब लगेगा जब भारत में दिन होगा यानी सरल शब्दों में बताया जाए तो साल का आखिरी चंद्रग्रहण दिन में लगने वाला है।

    15:17 (IST)29 Nov 2020
    साल का आखिरी चंद्रग्रहण

    30 नवंबर, सोमवार को पड़ने वाला ग्रहण साल का आखिरी चंद्रग्रहण है। जानकारों की मानें तो यह ग्रहण भारत में दोपहर 01 बजकर 04 मिनट पर शुरू हो जायेगा और शाम 5 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। जबकि, दोपहर 03 बजकर 13 मिनट पर यह चंद्रग्रहण चरम पर होगा। उपछाया चंद्रग्रहण का प्रभाव कुल 04 घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक भारत में रहेगा।

    14:48 (IST)29 Nov 2020
    खुली आंखों से ग्रहण देखने से बचें

    ऐसी मान्यता है कि अगर चंद्रग्रहण को नंगी आंखों से देखा जाए तो इससे नजरों से विकार आ सकता है। इसलिए प्राचीन काल से ही ग्रहण लगे हुए चंद्रमा को ना देखने की परंपरा है।

    13:58 (IST)29 Nov 2020
    ग्रहण के दौरान न करें ये कार्य

    मान्यता है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को किसी भी नुकीली वस्तु का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, इनमें चाकू, कैंची, सूई और तलवार आदि शामिल हैं। साथ ही इस दौरान सोना, खाना, पीना, नहाना और किसी की बुराई करने पर भी पाबंदी होती है। ज्योतिष शास्त्र के जानकार बताते हैं कि सूतक काल शुरू होने से लेकर उसका समय पूरा होने तक गर्भवती महिलाओं को अपने हाथ-पैर बिना मोड़े, हाथ में नारियल लेकर बैठना चाहिए और ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान कर इस नारियल को जल में प्रवाहित कर देना चाहिए।

    13:34 (IST)29 Nov 2020
    इसलिए अलग है उपच्छाया ग्रहण

    कुछ विद्वानों का मानना है कि उपच्छाया चंद्रग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है। इसलिए ना तो भारत में सूतक काल माना जाएगा और ना ही किसी कार्य को करने की पाबंदी होगी।

    12:58 (IST)29 Nov 2020
    तीन प्रकार के होते हैं चंद्रग्रहण

    पहला होता है कुल चंद्रग्रहण,

    दूसरा आंशिक, और

    तीसरा पेनुमब्रल या उपच्छाया चंद्रग्रहण

    12:32 (IST)29 Nov 2020
    इस तरह लगता है चंद्र ग्रहण...

    चंद्रग्रहण तब लगता है जब पृथ्वी सूर्य के प्रकाश को चंद्रमा तक पहुंचने से रोक देती है. या यूं कहे कि यह तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया में चली जाती है.

    11:57 (IST)29 Nov 2020
    ग्रहण के दौरान इन बातों का रखें ख्याल

    ग्रहण काल के समय भोजन नहीं करना चाहिए। क्योंकि ये शरीर के लिए नुकसानदायक माना गया है।घर में पके हुए भोजन में सूतक काल लगने से पहले ही तुलसी के पत्ते डालकर रख देने चाहिए। इससे भोजन दूषित नहीं होता है।चन्द्र ग्रहण किसी भी मास की पूर्णिमा पर घटित होता हैं अतः भगवान सत्यनारायण की कथा करें।जरूरतमंद लोगों को धन और अनाज का दान करें।

    11:22 (IST)29 Nov 2020
    ग्रहण का व्यक्ति के मन पर पड़ता है असर

    ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन प्रभावित करने वाला ग्रह माना जाता है। कहते हैं कि जब चंद्र ग्रहण होता है तो इसका सीधा असर व्यक्ति के मन पर पड़ता है।

    10:58 (IST)29 Nov 2020
    ये बन रहे हैं खास संयोग

    कार्तिक पूर्णिमा 30 नवंबर सोमवार को है। ये कार्तिक महीने का आखिरी दिन होता है। स्नान और दान के लिहाज से यह दिन बहुत महत्वपूर्ण होता है। सर्वार्थसिद्धि योग व वर्धमान योग इस बार कार्तिक पूर्णिमा के दिन रहेंगे। ये दो शुभ संयोग इस पूर्णिमा को औऱ भी खास बना रहे हैं।

    10:31 (IST)29 Nov 2020
    ये है चंद्रग्रहण का धार्मिक पहलू

    ग्रहण से कई धार्मिक पहलू जुड़े हुए हैं। ग्रहण के दौरान कर्मकांड का भी प्रावधान है। लेकिन अगर चंद्र ग्रहण आपके शहर में दिखाई ना दे रहा हो लेकिन दूसरे देशों अथवा शहरों में दर्शनीय हो तो कोई भी ग्रहण से सम्बन्धित कर्मकाण्ड नहीं किया जाता है। लेकिन अगर मौसम की वजह से चन्द्र ग्रहण दर्शनीय न हो तो ऐसी स्थिति में चन्द्र ग्रहण के सूतक का अनुसरण किया जाता है।

    09:52 (IST)29 Nov 2020
    इन उपायोंं को करने की है मान्यता

    बताया जाता है कि ग्रहण के दौरान बनाए हुए खाने में ग्रहण की नकारात्मक ऊर्जा शामिल हो जाती है जिससे उस खाने को खाने वाले लोगों को रोगों और दोषों की शिकायत हो सकती है। जानकारों का मानना है कि ग्रहण की अवधि खत्म होने के बाद साफ पानी से स्नान कर घर का मंदिर धोना चाहिए। फिर मंदिर में ईश्वर के निमित्त ज्योत जलाकर आरती करनी चाहिए।

    09:25 (IST)29 Nov 2020
    जानें जरूरी बातें...

    साल का आखिरी चंद्रग्रहण 30 नवंबर को लगने वाला है. भारत में चंद्रग्रहण का समय दोपहर 1 बजकर 04 मिनट पर शुरू हो जायेगा और शाम 5:22 बजे समाप्त होगा. कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि यानी अगले सोमवार लगने वाला चंद्र ग्रहण रोहिणी नक्षत्र और वृषभ राशि में लगेगा.

    06:23 (IST)29 Nov 2020
    ग्रहण के समय चंद्रमा को देखने से उनका कष्ट मनुष्य पर पड़ता है

    विद्वानों की मानें तो कहा जाता है कि चंद्र ग्रहण की समयावधि में चंद्रमा को नहीं देखना चाहिए और न ही चांदनी में खड़ा होना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से चंद्रमा का कष्ट मनुष्य पर पड़ता है। ग्रहण के दौरान न खाना बनाएं और न ही खाएं। साथ ही ग्रहण से पहले बने खाने में तुलसी का पत्ता डालकर रखें। ताकि ग्रहण का प्रभाव आपके भोजन पर न पड़ें।

    05:56 (IST)29 Nov 2020
    ग्रहण के समय अत्याधिक पीड़ा से गुजरना पड़ता है चंद्रमा को 

    ज्योतिष शास्त्र यह मानता है कि चंद्र ग्रहण मानव जीवन को बहुत अधिक प्रभावित करता है। इसलिए चंद्रमा पर लगने वाला ग्रहण भी मानव जीवन को प्रभावित करेगा। कहते हैं कि चंद्रमा को ग्रहण के समय अत्याधिक पीड़ा से गुजरना पड़ता है। इसलिए ही ऐसा कहा जाता है कि ग्रहण के दौरान अधिक-से-अधिक धार्मिक कार्य जैसे - हवन, यज्ञ, और मंत्र जाप आदि करने चाहिए।

    05:09 (IST)29 Nov 2020
    ग्रहण के समय मंत्र जाप से पूरी होती है इच्छाएं

    ग्रहण के सूतक काल को इच्छापूर्ति के लिए अच्छा माना जाता है। कहते हैं कि ग्रहण के दौरान इच्छा पूरी करवाने के लिए किया गया मंत्र जाप बहुत शीघ्र सफल हो सकता है।

    04:36 (IST)29 Nov 2020
    ग्रहण से पहले पृथ्वी की परछाईं में प्रवेश करेंगे चंद्रमा

    विद्वानों का मानना है कि ग्रहण से पहले चंद्रमा, पृथ्वी की परछाईं में प्रवेश करेंगे जिससे उपच्छाया चंद्र ग्रहण लगेगा। लेकिन साथ ही यह भी माना जा रहा है कि यह व्यक्तियों के जीवन को भी प्रभावित करेगा।

    03:34 (IST)29 Nov 2020
    उपच्छाया ग्रहण सभी को प्रभावित करता है

    विद्वानों का मानना है कि इसका अर्थ यह है कि ग्रहण से पहले चंद्रमा, पृथ्वी की परछाईं में प्रवेश करेंगे जिससे उपच्छाया चंद्र ग्रहण लगेगा। लेकिन साथ ही यह भी माना जा रहा है कि यह व्यक्तियों के जीवन को भी प्रभावित करेगा।

    03:34 (IST)29 Nov 2020
    उपच्छाया ग्रहण सभी को प्रभावित करता है

    विद्वानों का मानना है कि इसका अर्थ यह है कि ग्रहण से पहले चंद्रमा, पृथ्वी की परछाईं में प्रवेश करेंगे जिससे उपच्छाया चंद्र ग्रहण लगेगा। लेकिन साथ ही यह भी माना जा रहा है कि यह व्यक्तियों के जीवन को भी प्रभावित करेगा।

    01:31 (IST)29 Nov 2020
    साल का आखिरी चंद्रग्रहण सोमवार को

    मानसिक तनाव, चिंताएं, माता का स्वास्थय, ननिहाल के साथ संबंध और प्रेम संबंधों को भी चंद्रमा प्रभावित करता है। साल 2020 का आखिरी चंद्र ग्रहण 30 नवंबर, सोमवार को होगा।

    00:28 (IST)29 Nov 2020
    चंद्रग्रहण का सीधा असर पड़ता है व्यक्ति के मन पर

    ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन प्रभावित करने वाला ग्रह माना जाता है। कहते हैं कि जब चंद्र ग्रहण होता है तो इसका सीधा असर व्यक्ति के मन पर पड़ता है।

    21:48 (IST)28 Nov 2020
    क्यों अलग है उपछाया चंद्रग्रहण

    कुछ विद्वानों का मानना है कि उपछाया चंद्रग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है। इसलिए ना तो भारत में सूतक काल माना जाएगा और ना ही किसी कार्य को करने की पाबंदी होगी।

    21:13 (IST)28 Nov 2020
    भारत में नहीं दिखेगा चंद्रग्रहण...

    साल का यह आखिरी चंद्रग्रहण (Last Chandra Grahan of The Year) एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा। यह चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा।

    20:37 (IST)28 Nov 2020
    नंगी आंखों से क्यों नहीं देखा जाता ग्रहण

    ऐसी मान्यता है कि अगर चंद्रग्रहण को नंगी आंखों से देखा जाए तो इससे नजरों से विकार आ सकता है। इसलिए प्राचीन काल से ही ग्रहण लगे हुए चंद्रमा को ना देखने की परंपरा है।

    Next Stories
    1 Kartik Purnima 2020 Date: किस दिन मनाई जाएगी कार्तिक पूर्णिमा, जानिए इस दिन का प्राचीन महत्व और मान्यताएं
    2 Horoscope Today, 28 November 2020: कन्या राशि वालों को मिलेगी बीमारी से छुटकारा, तुला राशि वाले रखें स्वास्थ्य का ध्यान
    3 Karthik Purnima 2020: कब मनाई जाएगी देवों की दिवाली, इन कार्यों को करने से शुभता आने की है मान्यता
    Ind Vs Aus 4th Test
    X