ताज़ा खबर
 

साल का तीसरा चंद्र ग्रहण हुआ खत्म, जानिये इस बार क्यों नहीं बदला चांद का आकार

चंद्र ग्रहण कब है: चंद्र ग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते हैं जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है। ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में अवस्थित हों।

chandra grahan, chandra grahan 2020, chandra grahan july 2020, chandra grahan kab hai, chandra grahan kab padega,Lunar Eclipse 2020 Date: पेनुमब्रल को उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं। उपच्छाया चंद्र तब होता है जब चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया न पड़कर केवल उसकी उपच्छाया मात्र ही पड़ती है।

साल का तीसरा चंद्र ग्रहण अब खत्म हो चुका है। ये ग्रहण अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया के कुछ हिस्सों में दिखाई दिया। लेकिन भारत में दिन होने की वजह से इस ग्रहण को देखा नहीं जा सका। ज्योतिष अनुसार चंद्र ग्रहण धनु राशि में लगा था। इसलिए इस राशि के लोगों को ग्रहण सबसे अधिक प्रभावित करेगा। जानिए क्या है चंद्र ग्रहण और यह कैसे लगता है?

चंद्र ग्रहण कैसे लगता है? चंद्र ग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते हैं जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है। ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में अवस्थित हों। ये घटना सिर्फ पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है।

क्या है उपच्छाया चंद्र ग्रहण? पेनुमब्रल को उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं। उपच्छाया चंद्र तब होता है जब चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया न पड़कर केवल उसकी उपच्छाया मात्र ही पड़ती है। इसमें चंद्रमा पर एक धुंधली सी छाया नजर आती है। अत: चंद्रमा के आकार में कोई अंतर नहीं आता है। कोई भी चन्द्रग्रहण जब भी आरंभ होता है तो ग्रहण से पहले चंद्रमा पृथ्वी की परछाई में प्रवेश करता है जिसे उपच्छाया कहते हैं। इसके बाद चांद पृथ्वी की वास्तविक छाया यानी भूभा (Umbra) में प्रवेश करता है। जब ऐसा होता है तब ही वास्तविक ग्रहण होता है। लेकिन कई बार चंद्रमा धरती की भूभा में जाए बिना ही उसकी उपच्छाया से ही बाहर निकल कर आ जाता है। इसलिए उपच्छाया के समय चंद्रमा का बिंब केवल धुंधला पड़ता है, काला नहीं।

Live Blog

Highlights

    21:02 (IST)05 Jul 2020
    तो इसलिए नहीं बदला चंद्रमा का आकार

    पेनुमब्रल को उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं। उपच्छाया चंद्र तब होता है जब चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया न पड़कर केवल उसकी उपच्छाया मात्र ही पड़ती है। इसमें चंद्रमा पर एक धुंधली सी छाया नजर आती है। अत: चंद्रमा के आकार में कोई अंतर नहीं आता है।

    14:22 (IST)05 Jul 2020
    कन्या राशि वाले स्वास्थ्य का रखें ख्याल

    चंद्र ग्रहण का आपकी राशि पर अशुभ प्रभाव देखने को मिलेगा। इस दौरान आपको किसी भी तरह के संक्रमण से बचने की बहुत ज्यादा जरूरत है। साथ ही परिवार और पैसों के मामले में आप थोड़ी सावधानी बरतें। इस वक्त कहीं भी निवेश करना आपके लिए अच्छा नहीं रहेगा। आपको खान-पान पर संयम बरतना होगा और भागदौड़ से दूरी बनानी होगी। इसके अलावा काम बनते-बिगड़ते नजर आएंगे और असुरक्षा की भावना मन में बनी रहेगी। सुखों के कारण घरेलु विवाद से दूर रहें।

    13:58 (IST)05 Jul 2020
    सिंह राशि वालों पर ग्रहण का प्रभाव

    सिंह राशि वालों के लिए यह ग्रहण थोड़ा भारी पड़ सकता है। इस वक्त आपको भूमि और वाहन के खरीदने के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए और कहीं पर भी पैसा नहीं फंसाना चाहिए, अन्यथा रिटर्न में परेशानी आ सकती है। आपको व्यापार में अधिक मेहनत करनी पड़ेगी, जिससे आपको ज्यादा हानि नहीं होगी। साथ ही किसी भी तरह के बड़े फैसलों में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

    13:35 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण के बाद करें ये काम

    ग्रहण के समय पहने गए वस्‍त्रों को दोबारा नहीं पहनना चाहिए। बेहतर होगा कि आप स्‍नान के बाद इनको दान कर दें। ग्रहण के बाद बिना स्‍नान व पूजा क‍िए कुछ भी ग्रहण न करें।

    12:55 (IST)05 Jul 2020
    वृषभ, मिथुन और कर्क वालों पर ग्रहण का असर...

    वृषभ: आपके लिए ग्रहण सामान्य फलदायी रहेगा। आर्थिक स्थिति पहले से बेहतर होगी। लेकिन लव लाइफ में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। सतर्क रहें।

    मिथुन: आपके ऊपर चंद्र ग्रहण का नकारात्मक असर पड़ता दिखाई दे रहा है। आपको अपने बोलने पर नियंत्रण रखना होगा। वाद विवाद से दूर रहें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। खर्चों में बढ़ोतरी होने से आप परेशान रहेंगे। आंखों से संबंधी रोग परेशान कर सकते हैं।

    कर्क: इस राशि के जातकों के लिए ग्रहण अच्छा रहेगा। रूके हुए काम पूरे होंगे। लव लाइफ में शांति का माहौल रहेगा। आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। शत्रु परास्त होंगे।

    12:38 (IST)05 Jul 2020
    मेष राशि वालों पर चंद्र ग्रहण का असर...

    मेष: इस राशि के लोगों पर ग्रहण का सबसे कम असर पड़ेगा। लेकिन आपको स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी। बेवजह के वाद विवाद में न पड़ें।

    12:30 (IST)05 Jul 2020
    चंद्र ग्रहण और उपच्छाया चंद्र ग्रहण में अंतर: 

    चन्द्रग्रहण उस घटना को कहते हैं जब चन्द्रमा और सूर्य के बीच में धरती आ जाती है जिससे चंद्रमा आंशिक या पूर्ण रूप से ढक जाता है। इससे चांद बिंब काला पड़ जाता है। आपको बता दें कि ग्रहण लगने से पहले चंद्रमा पृथ्वी की उपच्छाया में प्रवेश करता है जिसे चंद्र मालिन्य कहते हैं और अंग्रेजी में इसको (Penumbra) कहते हैं। इसके बाद चांद पृथ्वी की वास्तविक छाया भूभा (Umbra) में प्रवेश करता है। जब ऐसा होता है तब ही वास्तविक ग्रहण होता है। लेकिन कई बार चंद्रमा पृथ्वी की उपच्छाया में प्रवेश करके बिना भूभा में प्रवेश किए बिना ही बाहर निकल जाता है। इस स्थिति में चंद्रमा का बिंब केवल धुंधला पड़ता है, काला नहीं । इस धुंधलापन को सामान्य रूप से देखा भी नहीं जा सकता है। इसलिए चंद्र मालिन्य मात्र होने की वजह से ही इसे उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं ना कि चंद्र ग्रहण।

    11:39 (IST)05 Jul 2020
    समाप्त हुआ चंद्र ग्रहण...

    इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण अब समाप्त हो गया है। यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई दिया था। यह चंद्र ग्रहण यूरोप, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, पैसिफिक और अंटार्टिका में दिखाई दिया था। भारतीय समयानुसार ग्रहण की शुरुआत सुबह के 8 बजकर 38 मिनट पर हुई। 9 बजकर 59 मिनट पर ग्रहण अपने चरम पर था। फिर 11 बजकर 21 मिनट पर ग्रहण समाप्त हो गया।

    11:10 (IST)05 Jul 2020
    चंद्र ग्रहण के होते हैं तीन प्रकार...

    चंद्र ग्रहण तीन प्रकार से लगते हैं। इनमें पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण, दूसरा आंशिक और तीसरा उपच्छाया चंद्र ग्रहण होता है। खगोल विज्ञान के अनुसार जब सूर्य चंद्रमा और पृथ्वी तीनों एक ही रेखा में हों और सूर्य व चंद्रमा के बीच में पृथ्वी आकर चंद्रमा को पूरी तरह ढक ले तो इसे पूर्ण चंद्र ग्रहण कहते हैं जबकि आंशिक चंद्र ग्रहण में पृथ्वी चंद्रमा को आंशिक रूप में ढकती है। ज्योतिष में उपच्छाया चंद्र ग्रहण को प्रभाव शून्य माना जाता है।

    10:44 (IST)05 Jul 2020
    क्या नंगी आंखों से देख सकते हैं चंद्र ग्रहण...

    हां, आप चाहें तो नंगी आंखों से चंद्र ग्रहण देख सकते हैं. हालांकि, यदि आप अच्छा एक्सीपीरियंस चाहते हैं तो आप टेलीस्कोप से भी चंद्र ग्रहण देख सकते हैं. इसके अलावा आप चाहें तो लाइव स्ट्रीमिंग के जरिए भी ग्रहण को आसानी से देख सकते हैं.

    10:44 (IST)05 Jul 2020
    क्या नंगी आंखों से देख सकते हैं चंद्र ग्रहण...

    हां, आप चाहें तो नंगी आंखों से चंद्र ग्रहण देख सकते हैं. हालांकि, यदि आप अच्छा एक्सीपीरियंस चाहते हैं तो आप टेलीस्कोप से भी चंद्र ग्रहण देख सकते हैं. इसके अलावा आप चाहें तो लाइव स्ट्रीमिंग के जरिए भी ग्रहण को आसानी से देख सकते हैं.

    10:20 (IST)05 Jul 2020
    चंद्र ग्रहण एक खास खगोलीय घटना...

    चंद्र ग्रहण एक खास खगोलीय घटना है, उपछाया चंद्रग्रहण के समय चंद्रमा जब पृथ्‍वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्‍छाया में आ जाता है, तो इसे चंद्र ग्रहण लगना कहा जाता है। इसे देखने के लिए कोई अतिरिक्‍त सतर्कता और विशेष सावधानी बरतने की जरूरत नहीं होती। चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से देखा जा सकता है।

    10:02 (IST)05 Jul 2020
    इन देशों में लगा है चंद्र ग्रहण...

    इस ग्रहण को दक्षिणी/ पश्चिमी यूरोप, अफ्रीका के अधिकतर हिस्से, उत्तरी अमेरिका के अधिकतर हिस्से, दक्षिणी अमेरिका, भारतीय महासागर और अंटार्टिका में देखा जा सकेगा. 

    09:55 (IST)05 Jul 2020
    When Lunar Eclipse Will End: कब खत्म होगा चंद्र ग्रहण

    ग्रहण 11 बजकर 21 मिनट पर समाप्त हो जाएगा. चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 2 घंटे 43 मिनट की होगी. ये उपछाया चंद्रग्रहण होगा जो भारत में दिखाई नहीं देगा और ना ही इसका सूतक माना जाएगा. ज्योतिषियों के मुताबिक ये ग्रहण धनु राशि और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में लग रहा है. धनु राशि आक्रामकता की राशि है. इस ग्रहण की वजह से देश-दुनिया में युद्ध और विवादों जैसी स्थितियां पैदा हो सकती हैं.

    09:31 (IST)05 Jul 2020
    लगातार 3 सालों से गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है...

    5 जुलाई यानी आज चंद्र ग्रहण की शुरुआत हो गई है। यह ग्रहण गुरु पूर्णिमा की तिथि पर लगा है। लगातार 3 सालों में गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है। इसके पहले 2018 और 2019 में भी गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लगा था। अब 5 जुलाई को साल का तीसरा ग्रहण लगने जा रहा है।

    09:06 (IST)05 Jul 2020
    30 दिनों में यह तीसरा ग्रहण...

    ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि एक महीने के अंतराल में तीन ग्रहण का होना शुभ संकेत नहीं है। आज 30 दिनों के भीतर ही तीसरा ग्रहण लग रहा है। ऐसे में इस ग्रहण का बुरा प्रभाव देखने को मिल सकता है। 

    08:38 (IST)05 Jul 2020
    इस चंद्र ग्रहण में नहीं है किसी तरह की पाबंदी

    भारत में इस ग्रहण में किसी भी तरह का कार्य किया जा सकता है। इसमें पूजा-पाठ भी शामिल है। रोज की तरह इसमें दैनिक पूजा-पाठ कर सकते हैं। सूतक काल मान्य नहीं होने के कारण इस ग्रहण का प्रभाव नहीं रहेगा।

    08:12 (IST)05 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: शुरू होने वाला है साल का तीसरा चंद्र ग्रहण

    एक महीने के अंदर तीन ग्रहण लगना ज्योतिष अनुसार अच्छा नहीं माना जाता है। ये ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा जिस वजह से इसका कोई प्रभाव भी नहीं पड़ेगा। 

    07:48 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण का राशियों पर प्रभाव: Chandra Grahan Effects On Rashi

    चंद्र ग्रहण का सबसे ज्यादा असर मिथुन राशि और धनु राशि के जातकों पर देखने को मिलेगा। मिथुन राशि में ही चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। इस दौरान इन दो राशि के लोगों को मानसिक तनाव होगा। इसके अलावा वृश्चिक, कन्या और सिंह राशि के जातक इस ग्रहण से अधिक प्रभावित होंगे।

    07:30 (IST)05 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020 Date: आज गुरू पूर्णिमा के दिन लगने वाला है चंद्रग्रहण

    आज गुरू पूर्णिमा है और आज ही चंद्रग्रहण लगने वाला है जो कि सुबह 8 बजकर 37 मिनट से शुरू होगा. गुरू पूर्णिमा का भारत में एक खास महत्त्व है इस दिन को लोग त्यौहार और पर्व के रूप में मानते हैं. गुरू पूर्णिमा के दिन भी चंद्रग्रहण लगने से लोगों में मन में सूतक का संशय बना हुआ है लेकिन इस बार भारत में ग्रहण नहीं लगेगा, इसलिए गुरू पूर्णिमा पर कोई असर नहीं होगा.

    07:02 (IST)05 Jul 2020
    Chandra Grahan July 2020: क्यों नहीं लग रहा है सूतक

    सूतक काल वह अवधि होती है जो ग्रहण लगने से करीब 9 घंटे पहले शुरू हो जाती है। धार्मिक मान्यताओं अनुसार इस दौरान किसी भी तरह के शुभ काम करने की मनाही होती है। लेकिन इस ग्रहण का सूतक नहीं लगा है। क्योंकि ये एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण है जो भारत में नहीं दिखाई देगा। जिस कारण इसका कोई प्रभाव भी नहीं पड़ रहा है।

    06:27 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण में सूतक अवधि में देव-देवियों की मूर्तियों और मंदिरों के स्पर्श की मनाही है

    ग्रहण काल के दौरान सूतक की अवधि में भजन-कीर्तन के अलावा कुछ भी न करें। देव-देवियों की मूर्तियों और मंदिरों का भी स्पर्ष न करें। हालांकि आज के ग्रहण में यह लागू नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि आज का ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। इसलिए सूतक भी नहींं मान्य होगा। 

    05:47 (IST)05 Jul 2020
    सरोवर स्नान और दान ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचाने का उपाय है

    ग्रहण के दुष्प्रभावों से बचने के लिए भजन-कीर्तन के अलावा नदियों और सरोवरों का स्नान करना भी आवश्यक है। ग्रहण काल के बाद नदियों और सरोवरों में स्नान करें और यथा संभव दान-पुण्य भी करें।

    05:19 (IST)05 Jul 2020
    चंद्रग्रहण के बाद स्नान जरूर करें

    चंद्रग्रहण के बाद स्नान जरूर करें। ऐसा इसलिए विधान है क्योंकि ग्रहण काल में जो अशुभ किरणें गिरती हैं, वह धुल जाएं। इस दौरान नदियों और सरोवरों में स्नान करने से ज्यादा पुण्य मिलता है। 

    03:47 (IST)05 Jul 2020
    साल में अधिकतम छह हो सकती है ग्रहण लगने की संख्या

    ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर वर्ष ग्रहण लगते हैं। इनकी संख्या कम से कम चार और अधिकतम 6 होती हैं। ग्रहण खगोलीय घटना है। यह जानने की चीज है कि पृथ्वी, चंद्रमा और सूर्य भी गति करते हैं।

    00:47 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण के प्रभाव से बचने के लिए गरीब कन्याओं का विवाह कराएं

    गरीबों और निर्धनों की सहायता करना, कन्याओं का विवाह कराने से भी ग्रहण की काली छाया से मुक्ति मिलती है।

    23:16 (IST)04 Jul 2020
    दृश्यता के अनुसार होता है ग्रहण का प्रभाव

    अलग-अलग स्थानों पर ग्रहण की दृश्यता अलग-अलग होती है। कहीं कम, कहीं आंशिक और कही पूर्ण दृश्यता होती है। उसी के अनुसार ग्रहण का प्रभाव भी कहीं कम, कहीं आंशिक और कहीं पूर्ण होता है।

    22:24 (IST)04 Jul 2020
    ग्रहण के दौरान राशियों पर प्रभाव पड़ता है

    ग्रहण लगने से राशियों पर प्रभाव पड़ता है। कई राशियों पर अच्छा, कई अन्य पर बुरा और शेष पर सामान्य प्रभाव पड़ता है। सभी राशियों के लोगों को इस दौरान भजन-कीर्तन करना चाहिए।

    20:59 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: कैसे लगता है चंद्र ग्रहण

    चंद्र ग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते हैं जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है। ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में अवस्थित हों। ये घटना सिर्फ पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है।

    20:38 (IST)04 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: मेष राशि वाले सेहत का रखें ख्याल

    चंद्र ग्रहण के कारण मेष राशि के जातकों में मानसिक तनाव बढ़ सकता है इस दिन मन अशांत रहेगा। इस लिए कुछ ऐसा न करें जिससे मन अशांत हो। सेहत का ध्यान रखें. आलस हावी रहेगा जिससे काम में मन कम लगेगा। संतान के स्वास्थ्य को लेकर चिंता हो सकती है। आय में वृद्धि होगी।

    20:11 (IST)04 Jul 2020
    लगातार तीसरे साल गुरु पूर्णिमा पर लगेगा ग्रहण

    आपको बता दें कि इससे पहले साल 2018 और 2019 में भी गुरु पूर्णिमा के ही दिन चंद्र ग्रहण लग चुका है। साल 2018 में 27 जुलाई को गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण रहा था। इसके बाद साल 2019 में भी 16 जुलाई को गुरु पूर्णिमा के दिन ही चंद्र ग्रहण लगा था।

    19:46 (IST)04 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: ग्रहण के दौरान क्यों नहीं खाना चाहिए

    ग्रहण के दौरान खानपान की मनाही इसलिए भी होती है क्योंकि माना जाता है कि ग्रहण के समय में खाना दूषित हो जाता है। ग्रहण के दौरान जो खगोलीय बदलाव होते हैं उसके कारण कई बैक्टीरिया अधिक सक्रिय हो जाते हैं जिसके कारण खाने की गुणवत्ता कम हो जाती है। माना जाता है कि ग्रहण पोषक तत्वों को प्रभावित कर सकता है, इस दौरान खाना पकाने से भी मनाही होती है।

    19:22 (IST)04 Jul 2020
    इस मंत्र का जाप भी हो सकता है फायदेमंद

    इसमें काले तिल, सफेद तिल, काली उड़द एवं गेहूं शामिल है। किसी एक ग्रहण पर तुला दान अवश्य करें। चंद्र ग्रहण में चन्द्र देव मंत्र का जाप अत्यधिक शुभ फल कारक होता है। चंद्र मंत्र : ॐ क्षीरपुत्राय विद्महे अमृत तत्वाय धीमहि तन्नो चन्द्रः प्रचोदयात् ।

    18:55 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: जिनकी कुंडली में चंद्रग्रहण का दोष हो...

    जिनकी कुंडली में चंद्रग्रहण का दोष हो तो उनको अपने जीवनकाल में पड़ने वाले हर पूर्ण सूर्य ग्रहण एवं चंद्रग्रहण के समय सूर्य अथवा चंद्रमा का दान करना चाहिए।

    18:33 (IST)04 Jul 2020
    ये पड़ेगा प्रभाव

    ज्योतिष अनुसार एक महीने के अंतराल में तीन ग्रहण पड़ना शुभ नहीं माना जाता। वहीं 5 जून से 5 जुलाई के बीच में ये तीसरा ग्रहण लगने जा रहा है। माना जा रहा है कि इसके प्रभावों से प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ सकता है। महंगाई की मार लोगों को झेलनी पड़ सकती है। बड़े देशों के बीच दुश्मनी बढ़ने के आसार हैं।

    18:08 (IST)04 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: ये करना होगा फायदेमंद

    ग्रहण से पहले खाने पीने की वस्तु में तुलसी के पत्ते डालकर रख देने चाहिए। इससे भोजन दूषित नहीं होता और ग्रहण की समाप्ति के बाद आप इस भोजन का प्रयोग कर सकते हैं।

    17:42 (IST)04 Jul 2020
    यहां देख सकते हैं लाइव नजारा

    चंद्र ग्रहण को खुली आंखों से देखना सुरक्षित माना गया है। लेकिन भारत में ये चंद्र ग्रहण नहीं दिखने की वजह से आप इसे ऑनलाइन विभिन्न यूट्यूब चैनलों के माध्यम से लाइव देख सकते हैं। Slooh और Virtual Telescope चैनल इस घटना की लाइवस्ट्रीम करने के लिए जाने जाते हैं।

    17:18 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: इस राशि पर पड़ेगा सबसे ज्यादा प्रभाव

    इस बार ये चंद्र ग्रहण धनु राशि पर लग रहा है, इसलिए इस राशि के जातकों पर गहरा असर पड़ने वाला है. धनु राशि के जातकों को इस दिन मानसिक तनाव, सेहत से जुड़ी समस्या और माता को कष्ट हो सकता है. इस राशि के जातक इस प्रभाव को कम करने के लिए भगवान शिव की अराधना और सोमवार को व्रत रखने से लाभ मिलेगा.

    16:53 (IST)04 Jul 2020
    भारत में दिखेगा ग्रहण?

    चंद्र ग्रहण भारत में 5 जुलाई को सूर्योदय के बाद लगेगा। ऐसे में भारतवासी ग्रहण नहीं देख सकेंगे। इस वजह से 5 जुलाई को लगने वाला ग्रहण में सूतक काल भी नहीं लगेगा। साथ ही लोग बिना किसी परेशान के गुरु पूर्णिमा की पूजा कर सकेंगे।

    16:24 (IST)04 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: गुरु पूर्णिमा और ग्रहण

    कल गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जाएगा। कल ही चंद्र ग्रहण भी लग रहा है। चंद्र ग्रहण सुबह 08 बजकर 38 मिनट पर प्रारंभ होगा। वहीं, 11 बजकर 21 मिनट पर समाप्त होगा। ग्रहण अवधि 02 घण्टे 43 मिनट 24 सेकेंड रहेगा। गुरु पूर्णिमा के दिन लगने वाला चंद्रग्रहण भारत के संदर्भ में बहुत ज्यादा प्रभावशाली नहीं होगा क्योंकि यह एक उपच्छाया चंद्रग्रहण है और भारत में दिखाई भी नहीं देगा।

    15:57 (IST)04 Jul 2020
    इस कारण आकार में नहीं आएगा बदलाव

    पेनुमब्रल को उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं। उपच्छाया चंद्र तब होता है जब चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया न पड़कर केवल उसकी उपच्छाया मात्र ही पड़ती है। इसमें चंद्रमा पर एक धुंधली सी छाया नजर आती है। अत: चंद्रमा के आकार में कोई अंतर नहीं आता है।

    15:30 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan Date 2020: पूरे आकार में नजर आएगा चंद्रमा

    इस बार ग्रहण में चंद्रमा पूरे आकार में नजर आएगा. इस बार ग्रहण में चांद कटा हुआ नहीं दिखेगा. अमूमन ग्रहण में चंद्रमा कटा हुआ दिखाई देता है.

    15:08 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020 Date: नहीं है कोई पाबंदी

    यह सामान्य तौर से दिखने वाला चंद्रग्रहण होगा. पूर्णिमा की रात अगर आसमान साफ रहा तो चांदनी रात में चांद को देखते हुए खाना भी खा सकते हैं क्योंकि इस ग्रहण के दौरान किसी भी प्रकार की धर्म संगत पाबंदी नहीं है.

    14:33 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020 Date: गुरू पूर्णिमा के दिन पड़ रहा है चंद्रग्रहण

    कल चंद्रग्रहण के समय ही गुरू पूर्णिमा है. गुरू पूर्णिमा के दिन भारत में त्यौहार और पर्व मनाया जाता है. गुरू पूर्णिमा के दिन भी चंद्रग्रहण लगने से लोगों में मन में सूतक का संशय बना हुआ है. हालांकि इस बार भारत में ग्रहण नहीं लगेगा, इसलिए गुरू पूर्णिमा पर कोई असर नहीं होगा.

    14:05 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020 Date: सूतक काल नहीं होगा प्रभावी

    इस बार चंद्र ग्रहण गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई, दिन रविवार को लगने जा रहा है। इस चंद्र ग्रहण के बारे में सबसे खास बात यह है कि चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। यह ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा, जिसके भारत में दिखाई न देने के कारण चंद्र ग्रहण का सूतक काल भी प्रभावी नहीं होगा।

    13:35 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020 Date: स्पेशल तैयारी की जरूरत नहीं

    आखिर में हम आपसे यही कह सकते हैं कि चंद्रग्रहण को देखने के लिए आपको किसी तरह की स्पेशल तैयारी करने की जरूरत नहीं, किसी तरह के स्पेशल फिल्टर या ग्लासेज की जरूरत नहीं। चंद्रग्रहण से आंखों को कोई नुकसान नहीं होता इसलिए इसे आप सीधे अपनी नंगी आंखों से देख सकते हैं।

    12:59 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan July 2020: चंद्र ग्रहण एक खास खगोलीय घटना

    चंद्र ग्रहण एक खास खगोलीय घटना है। चंद्रमा जब पृथ्‍वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्‍छाया में आ जाता है, तो चंद्र ग्रहण लगना कहा जाता है। इसे देखने के लिए कोई अतिरिक्‍त सतर्कता और विशेष सावधानी बरतने की जरूरत नहीं होती। चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से देखा जा सकता है।

    12:30 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: सूतक काल नहीं होगा प्रभावी

    इस बार चंद्र ग्रहण गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई, दिन रविवार को लगने जा रहा है। इस चंद्र ग्रहण के बारे में सबसे खास बात यह है कि चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। यह ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा, जिसके भारत में दिखाई न देने के कारण चंद्र ग्रहण का सूतक काल भी प्रभावी नहीं होगा।

    12:00 (IST)04 Jul 2020
    इस चंद्र ग्रहण की खास बातें (Chandra Grahan 2020)

    5 जुलाई को लगने वाला ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण होगा. शास्त्रों में उपछाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है. इसलिए इस दिन कोई भी कार्य करने पर प्रतिबंध नहीं होगा. हालांकि ज्योतिषविद थोड़ी बहुत सावधानी बरतने की सलाह जरूर देते हैं. यह ग्रहण धनु राशि में पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र के दौरान, शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को लगेगा. खास बात ये है कि इसी दिन गुरू पूर्णिमा भी है. इस उपछाया चंद्रग्रहण को धनुर्धारी चंद्रग्रहण भी कहा जा रहा है.

    11:35 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण का समय

    गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण सुबह 8 बजकर 38 मिनट से आरंभ होगा। 09 बजकर 59 मिनट में यह परमग्रास में होगा और 11 बजकर 21 मिनट पर समाप्त होगा। इस प्रकार चंद्रग्रहण की अवधि 2 घंटा 43 मिनट और 24 सेकेंड की होगी। इस उपच्छाया चंद्रग्रहण को अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया के हिस्सों में देखा जा सकेगा।

    Next Stories
    1 Rashifal Money Career: तुला वालों की आर्थिक स्थिति में आएगा सुधार, वृश्चिक वालों को निवेश से फायदा
    2 Rashifal 03 July 2020: सिंह वाले स्वास्थ्य का रखें ध्यान, पैसों संबंधी परेशानी होगी दूर
    3 Love Rashifal 03 July 2020: कुंभ वालों के लिए रोमांटिक दिन, जीवनसाथी से मिल सकता है खास तोहफा
    ये पढ़ा क्या?
    X