ताज़ा खबर
 

लगातार तीसरी बार गुरु पूर्णिमा के दिन लगा ग्रहण, जानिये किस राशि पर कैसा पड़ा प्रभाव

ज्योतिष अनुसार एक महीने के अंतराल में तीन ग्रहण पड़ना शुभ नहीं माना जाता। वहीं 5 जून से 5 जुलाई के बीच में तीन ग्रहण एक साथ पड़े। माना जा रहा है कि इसके प्रभावों से प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ सकता है।

lunar eclipse, urya grahan, chandra grahan 2020, lunar eclipse 2020 india, lunar eclipse 2020 india date,ग्रहण एशिया के कुछ इलाकों अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई दिया।

ये साल का तीसरा उपच्छाया चंद्र ग्रहण है जो आज गुरु पूर्णिमा के दिन लगा था। लेकिन भारत में ये ग्रहण दिखाई नहीं दिया। जिस कारण इसका सूतक काल भी मान्य नहीं था। ग्रहण एशिया के कुछ इलाकों अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई दिया। लोग लगभग पौने तीन घंटे तक ग्रहण के खूबसूरत नजारे को देख पाए।

ग्रहण का क्या रहेगा समय: भारतीय समयानुसार ग्रहण 5 जुलाई की सुबह 8.38 बजे से लगा था और इसकी समाप्ति 11.21 AM पर हो चुकी है। ग्रहण सुबह 09.59 बजे अपने पूर्ण प्रभाव में रहा। सूतक काल नहीं लगा। जिस कारण किसी भी तरह के कार्य वर्जित नहीं थे। अगला चंद्र ग्रहण 30 नवंबर को लगेगा।

Sawan Somvar 2020 Date, Puja Vidhi, Muhurat: सावन का महीना कल से होगा शुरू, जानिये सावन सोमवारी की व्रत विधि यहां

क्या होता है चंद्र ग्रहण? हर साल में ग्रहण लगता है। इनकी संख्या कम से कम 4 और अधिकतम 6 होती है। साल 2020 में कुल 6 ग्रहण हैं। जिनमें से 3 ग्रहण पहले ही लग चुके हैं। ग्रहण एक खगोलीय घटना है। चंद्र ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा और सूर्य के बीच में पृथ्वी आ जाती है। वहीं जब पृथ्वी और सूर्य के बीच में चंद्रमा आता है तब सूर्य ग्रहण लगता है। सूर्य ग्रहण अमावस्या और चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा के दिन लगता है।

उपच्छाया चंद्र ग्रहण क्या है? ज्योतिष अनुसार इस तरह के ग्रहण को वास्तविक ग्रहण नहीं माना जाता। उपच्छाया चंद्र ग्रहण में सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीध में न होकर इस प्रकार से होते हैं कि पृथ्वी की हल्की सी छाया ही चंद्रमा पर पड़ पाती है। जिससे चंद्रमा पूरी तरह से गायब नहीं होता बल्कि उसका किनारे का हिस्सा छाया से ढक जाता है।

Weekly Horoscope 06 July To 12 July 2020: सावन महीने का पहला सप्ताह इन 5 राशि वालों के लिए होने वाला है खास

चंद्र ग्रहण का प्रभाव: ज्योतिष अनुसार एक महीने के अंतराल में तीन ग्रहण पड़ना शुभ नहीं माना जाता। वहीं 5 जून से 5 जुलाई के बीच में तीन ग्रहण एक साथ पड़ें हैं। माना जा रहा है कि इसके प्रभावों से प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ सकता है। महंगाई की मार लोगों को झेलनी पड़ सकती है। बड़े देशों के बीच दुश्मनी बढ़ने के आसार हैं।

Live Blog

Highlights

    06:21 (IST)06 Jul 2020
    ग्रहण से पहले खाने पीने की वस्तु में तुलसी के पत्ते डाल देने से दोष खत्म हो जाता है

    चंद्र ग्रहण से पहले खाने पीने की वस्तु में तुलसी के पत्ते डालकर रख देने से ग्रहण का दोष खत्म हो जाता है। इससे भोजन दूषित नहीं होता और ग्रहण की समाप्ति के बाद इस भोजन का प्रयोग किया जा सकता है।

    05:03 (IST)06 Jul 2020
    इस बार चंद्रग्रहण यूरोप, अफ्रीका के अधिकतर हिस्स, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, भारतीय महासागर और अंटार्टिका में लगा और देखा गया

    इस ग्रहण को दक्षिणी/ पश्चिमी यूरोप, अफ्रीका के अधिकतर हिस्से, उत्तरी अमेरिका के अधिकतर हिस्से, दक्षिणी अमेरिका, भारतीय महासागर और अंटार्टिका में देखा जा सकेगा. 

    03:56 (IST)06 Jul 2020
    ग्रहण काल के नियमों और पाबंदियों की अवहेलना नुकसानदायक है

    ग्रहण काल के नियमों और पाबंदियों की अवहेलना नहीं करना चाहिए। शास्त्रीय विधान में इसका बड़ा महत्व है। इसकी अवज्ञा नुकसानदायक हो सकती है।

    23:26 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण काल और पश्चात काल में ग्रहों की शांति जरूरी

    ग्रहण काल और पश्चात काल में ग्रहों की शांति जरूरी है। इसके लिए अपने ईष्ट देव की आराधना करें और उनकी पूजा करें।  

    22:36 (IST)05 Jul 2020
    जप और दान करने से नकारात्मक प्रभाव से मिलती है निजात

    ग्रहण के बाद भगवान का जप, तप और दान करने से नकारात्मक प्रभाव से मुक्ति मिलती है। जितना संभव हो गरीबों की मदद करें, कन्याओं का विवाह कराएं और पशुओं को चारा खिलाएं।

    21:02 (IST)05 Jul 2020
    भगवान श्री कृष्ण का स्मरण होता है लाभदायक

    ग्रहण के समय में व्यक्ति को भगवान वासुदेव या फिर श्रीकृष्ण मंत्र का जाप करना चाहिए। इस दिन आप ओम नमो भगवते वासुदेवाय या श्रीकृष्णाय श्रीवासुदेवाय हरये परमात्मने, प्रणत: क्लेशनाशाय गोविन्दाय नमो नम: मन्त्र का जाप करना चाहिए।

    20:35 (IST)05 Jul 2020
    पूर्णिमा के दिन लगता है चंद्र ग्रहण

    हर साल में ग्रहण लगता है। इनकी संख्या कम से कम 4 और अधिकतम 6 होती है। साल 2020 में कुल 6 ग्रहण हैं। जिनमें से 3 ग्रहण पहले ही लग चुके हैं। सूर्य ग्रहण अमावस्या और चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा के दिन लगता है।

    20:11 (IST)05 Jul 2020
    ये है मान्यता

    मान्यता है कि ग्रहण के समय गायों को घास, पक्षियों को अन्न, जरूरत मंदों को वस्त्र दान देने से अनेक गुना पुण्य प्राप्त होता है।

    19:38 (IST)05 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: इस राशि के जातक रखें अपनी सेहत का ख्याल

    ग्रहण की वजह से वृश्चिक राशि वालों को अपनी सेहत का ध्यान रखनी चाहिए। भावुक होने से बचें। परिवार के साथ अच्छा समय गुजारेंगे।  

    19:06 (IST)05 Jul 2020
    कैसे लगता है ग्रहण

    चंद्र ग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते हैं जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है। ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में अवस्थित हों। ये घटना सिर्फ पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है।

    18:32 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण में तुलसी पत्ते का महत्व

    ग्रहण के दौरान सूतक शुरू होने से पहले लोगों को खाने-पीने की चीजों में खासकर अचार, मुरब्बा, दूध, दही और अन्य खाद्य पदार्थों में कुश तृण या तुलसी का पत्ता रख देना चाहिए। ऐसा करने से खाने की चीजों पर ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ेगा।

    18:06 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण के बाद करें ये काम

    ग्रहण काल की समाप्ति के बाद तुरंत स्नान कर लेना चाहिए। ग्रहण काल में स्पर्श किए हुए वस्त्र आदि की शुद्धि के लिए उसे बाद में धो देना चाहिए तथा स्वयं भी वस्त्रसहित स्नान करना चाहिए। सूर्य या चन्द्र ग्रहण पूरा होने पर उसका शुद्ध बिम्ब देखकर ही भोजन करना चाहिए।

    17:34 (IST)05 Jul 2020
    क्या है उपच्छाया ग्रहण

    जानकारों के अनुसार 5 जुलाई को उपच्छाया चंद्र ग्रहण लग रहा है। ज्योतिष अनुसार इस तरह के ग्रहण को वास्तविक ग्रहण नहीं माना जाता। उपच्छाया चंद्र ग्रहण में सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीध में न होकर इस प्रकार से होते हैं कि पृथ्वी की हल्की सी छाया ही चंद्रमा पर पड़ पाती है। जिससे चंद्रमा पूरी तरह से गायब नहीं होता बल्कि उसका किनारे का हिस्सा छाया से ढक जाता है।

    17:02 (IST)05 Jul 2020
    कहीं आंशिक तो कहीं पूर्ण दिखाई देता है चंद्र ग्रहण

    अलग-अलग स्थानों पर ग्रहण की दृश्यता अलग-अलग होती है। कई स्थानों पर ग्रहण पूर्ण रूप से दिखाई देता है और कई जगह आंशिक रूप से दृष्टिगोचर होता है। 

    16:28 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण के दोष से ऐसे पाएं निजात

    जिन राशियों पर चंद्रग्रहण का अशुभ असर पड़ेगा, उन्हें ग्रहण काल के बाद स्नान करके मंदिरों में दान करना चाहिए। गाय को भोजन कराएं और गरीबों की मदद करनी चाहिए।

    16:00 (IST)05 Jul 2020
    इससे हो सकता है लाभ

    ग्रहण के बाद घर की अच्‍छी तरह सफाई करें और पूरे घर में धूप या अगरबत्‍ती का धुआं दिखाएं। तीन सूखे नारियल और सवा किलो सतनाजा प्रातरू दान में दें या जल प्रवाह करने से भी ग्रहण का प्रभाव कम होता है।

    15:33 (IST)05 Jul 2020
    2020 में कितने हैं ग्रहण

    हर साल में ग्रहण लगता है। इनकी संख्या कम से कम 4 और अधिकतम 6 होती है। साल 2020 में कुल 6 ग्रहण हैं। जिनमें से 3 ग्रहण पहले ही लग चुके हैं। ग्रहण एक खगोलीय घटना है। चंद्र ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा और सूर्य के बीच में पृथ्वी आ जाती है। वहीं जब पृथ्वी और सूर्य के बीच में चंद्रमा आता है तब सूर्य ग्रहण लगता है। सूर्य ग्रहण अमावस्या और चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा के दिन लगता है।

    15:10 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण के बाद दान का महत्व

    ग्रहण के बाद दान करना बेहद शुभ माना जाता है. ऐसे में सफेद वस्तुओं का दान करना तो और भी शुभ माना जाता है. आप खाने की कोई सफेद वस्तु या वस्त्र भी दान कर सकते हैं. इसके अलावा आप जरूरतमंदों को अन्न दान भी कर सकते हैं

    14:45 (IST)05 Jul 2020
    ये करें उपाय...

    ग्रहण के बाद श‍िव पूजा भी फायदेमंद मानी गई है। अगर आप ये पूजा किसी मंद‍िर में जाकर करें तो बेहतर होगा। घर में तुलसी का पौधा भी चंद्र ग्रहण से प्रभावित होगा। इसकी पूजा करने से पहले इस पर गंगा जल छ‍िड़कें।

    14:22 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण के नकारात्मक प्रभाव से ऐसे रहें दूर

    स्‍नान के बाद घर का पूजा घर भी शुद्ध करें। इसके ल‍िए देवी-देवताओं व भगवान की सभी प्रतिमाओं व तस्‍वीरों पर गंगाजल छ‍िड़क दें। चंद्र ग्रहण के बाद पितरों को याद करें व उनके नाम पर दान दें। ऐसा करने से ग्रहण का बुरा प्रभाव उतर जाएगा।

    14:00 (IST)05 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: अब कब लगेगा ग्रहण

    साल का तीसरा चंद्र ग्रहण अब खत्म हो गया है। अब इसके बाद साल 2020 में दो और ग्रहण लगेंगे। एक सूर्य ग्रहण और दूसरा चंद्र ग्रहण। सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर को लगेगा जबकि चंद्र ग्रहण 30 नवंबर को पड़ेगा। जून और जुलाई के महीने में कुल तीन ग्रहण लगे थे। 5 जून को चंद्र ग्रहण, 21 जून को सूर्य ग्रहण और 5 जुलाई को चंद्र ग्रहण। ग्रहण का ज्योतिष और खगोल शास्त्र दोनों में विशेष महत्व होता है। कल से पावन सावन माह की शुरुआत होने जा रही है।

    13:33 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण के बाद क्या करें

    चंद्र ग्रहण के दौरान तो कई काम करने की मनाही होती है लेकिन ग्रहण के बाद अपना रुटीन शुरू करने से पहले भी कुछ नियम पूरे करने होते हैं। दरअसल चंद्र ग्रहण का प्रभाव 108 द‍िन तक माना जाता है। ऐसे में ये नकारात्‍मकता दूर करने के लिए ग्रहण खत्‍म होने के बाद कुछ उपाय करने जरूरत होती है। साथ ही ग्रहण के बाद घर की अच्‍छी तरह सफाई भी आवश्‍यक बताई गई है। 

    13:00 (IST)05 Jul 2020
    इन राशि के जातक बरतें सावधानी...

    उपछाया चंद्रग्रहण आज सुबह 8 बजकर 38 मिनट से आरंभ हुआ था जो अब 11 बजकर 21 मिनट पर समाप्त हो चुका है. आज का ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण था, जो धनु राशि में लगा था.जहां पहले से ही धनु राशि में गुरु और राहु भी मौजूद थे. चंद्रग्रहण के दौरान गुरु की दृष्टि धनु राशि पर थी. ग्रहों और ग्रहण की स्थिति सभी 12 राशियों को प्रभावित कर रही है. इसलिए धनु सहित मेष, कन्या, सिंह और कुम्भ राशि को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है.

    12:27 (IST)05 Jul 2020
    चंद्र ग्रहण का राशियों पर असर...

    Chandra Grahan 2020 Effects on Zodiac Signs: 5 जुलाई को साल का चौथा ग्रहण लगा। जो भारत में दिखाई नहीं दिया। लेकिन ज्योतिष अनुसार इस ग्रहण का कुछ न कुछ प्रभाव सभी राशि के जातकों पर पड़ेगा। ग्रहण के समय चंद्रमा धनु राशि में मौजूद रहेगा जिस कारण इस राशि के लोग ग्रहण से सबसे अधिक प्रभावित होंगे। जानते हैं किस राशि के लिए ये ग्रहण कैसा रहेगा…

    12:09 (IST)05 Jul 2020
    साल 2020 में लगने वाले ग्रहण...

    पहला चंद्रग्रहण-10 जनवरी, 2020। भारत में दिखा।दूसरा चंद्रग्रहण-5 जून 2020। भारत में दिखा।पहला सूर्यग्रहण-21 जून 2020। भारत में दिखा।तीसरा चंद्रग्रहण-5 जुलाई 2020। भारत में नहीं दिखा। चौथा चंद्रग्रहण-30 नवंबर 2020। भारत में दिखाई देगा।दूसरा सूर्यग्रहण-14 दिसंबर, 2020। भारत में नहीं दिखेगा।

    11:46 (IST)05 Jul 2020
    चंद्र ग्रहण समाप्त...

    चंद्र ग्रहण समाप्त हो चुका है. ये साल का तीसरा चंद्र ग्रहण था जो उपछाया ग्रहण था. यानि इसका प्रभाव भारत पर नहीं था. लेकिन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब 30 दिन या एक माह के भीतर दो ग्रहण या इससे अधिक ग्रहण लगते हैं तो इसके परिणाम शुभ नहीं आते हैं. साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून को लगा था, इसके बाद 21 जून को सूर्य ग्रहण लगा था. इस ग्रहण को भारत में देखा गया था और इसमें सूतक काल मान्य था, यानि ये पूर्ण ग्रहण था. इसके बाद आज यानि 5 जुलाई को साल का तीसरा चंद्र ग्रहण लगा था. यह ग्रहण धनु राशि में लगा था. जहां पर पहले से ही देव गुरु बृहस्पति मौजूद थे.

    06:22 (IST)05 Jul 2020
    ग्रहण काल में बालक, वृद्ध और बीमार निषेधों से बाहर

    चंद्रग्रहण की अवधि में बालक, वृद्ध और बीमार को निषेधों से बाहर होते हैं। अर्थात शास्त्रीय विधान और भारतीय वैदिक पंचांग के अनुसार ऐसे लोगों को भोजन करने और सोने पर कोई रोक नहीं होती है। 

    05:44 (IST)05 Jul 2020
    चंद्रग्रहण जहां नहीं दिखता है, वहां उस काल में दिन होता है

    चंद्रग्रहण रात्रि में पड़ता है, लेकिन जहां यह नहीं दिखता है, वहां उस दौरान दिन होता है। इसी तरह सूर्यग्रहण दिन में होता है, लेकिन जहां यह ग्रहण नहीं दिखता है, वहां रात्रि होती है।

    05:21 (IST)05 Jul 2020
    राशि पर अशुभ असर पड़े तो ग्रहण काल के बाद मंदिर में दान करें

    जिन राशियों पर चंद्रग्रहण का अशुभ असर पड़ेगा, उन्हें ग्रहण काल के बाद स्नान करके मंदिरों में दान करना चाहिए। गाय को भोजन कराएं और गरीबों की मदद करनी चाहिए।

    03:43 (IST)05 Jul 2020
    वृश्चिक राशि के लोग ग्रहण के बाद सेहत का ध्यान रखें

    ग्रहण की वजह से वृश्चिक राशि वालों को अपनी सेहत का ध्यान रखनी चाहिए। भावुक होने से बचें। परिवार के साथ अच्छा समय गुजारेंगे।  

    00:46 (IST)05 Jul 2020
    नदियों में स्नान और दान-पुण्य से ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचा जा सकता है

    ग्रहण के दुष्प्रभावों से बचने के लिए भजन-कीर्तन के अलावा नदियों और सरोवरों का स्नान करना भी है। ग्रहण काल के बाद नदियों और सरोवरों में स्नान करें और यथा संभव दान-पुण्य भी करें।

    23:16 (IST)04 Jul 2020
    सभी राशियों पर पड़ता है ग्रहण का प्रभाव

    ग्रहण लगने से राशियों पर प्रभाव पड़ता है। कई राशियों पर अच्छा, कई अन्य पर बुरा और शेष पर सामान्य प्रभाव पड़ता है। सभी राशियों के लोगों को इस दौरान भजन-कीर्तन करना चाहिए।

    22:31 (IST)04 Jul 2020
    अलग-अलग स्थानों पर ग्रहण की अलग-अलग दृश्यता होती है

    अलग-अलग स्थानों पर ग्रहण की दृश्यता अलग-अलग होती है। कई स्थानों पर ग्रहण पूर्ण रूप से दिखाई देता है और कई जगह आंशिक रूप से दृष्टिगोचर होता है। 

    20:59 (IST)04 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: इसे कहते हैं उपच्छाया ग्रहण

    जानकारों के अनुसार 5 जुलाई को उपच्छाया चंद्र ग्रहण लग रहा है। ज्योतिष अनुसार इस तरह के ग्रहण को वास्तविक ग्रहण नहीं माना जाता। उपच्छाया चंद्र ग्रहण में सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीध में न होकर इस प्रकार से होते हैं कि पृथ्वी की हल्की सी छाया ही चंद्रमा पर पड़ पाती है। जिससे चंद्रमा पूरी तरह से गायब नहीं होता बल्कि उसका किनारे का हिस्सा छाया से ढक जाता है।

    20:38 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: इससे भी हो सकता है लाभ

    चंद्रग्रहण के समय तीन सूखे नारियल और सवा किलो सतनाजा प्रातरू दान में दें या जल प्रवाह करने से भी ग्रहण का प्रभाव कम होता है।

    20:11 (IST)04 Jul 2020
    घर की खिड़कियों को रखें बंद

    ग्रहण के दौरन घर की सभी खिड़कियों को ढक देना चाहिए, ताकि ग्रहण की कोई भी किरण घर में प्रवेश न कर सके। ग्रहण के दौरान या पहले भोजन बना हुआ है तो उसे फेंकना नहीं चाहिए। बल्कि उसमें तुलसी के पत्ते डालकर उसे शुद्ध कर लेना चाहिए। ग्रहण के समाप्ति के बाद स्नान-ध्यान कर घर में गंगाजल छिड़कना चाहिए।

    19:46 (IST)04 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: तुलसी पत्ते का महत्व

    ग्रहण के दौरान सूतक शुरू होने से पहले लोगों को खाने-पीने की चीजों में खासकर अचार, मुरब्बा, दूध, दही और अन्य खाद्य पदार्थों में कुश तृण या तुलसी का पत्ता रख देना चाहिए। ऐसा करने से खाने की चीजों पर ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ेगा।

    19:23 (IST)04 Jul 2020
    भगवान कृष्ण का करें स्मरण

    ग्रहण के समय में व्यक्ति को भगवान वासुदेव या फिर श्रीकृष्ण मंत्र का जाप करना चाहिए। इस दिन आप ओम नमो भगवते वासुदेवाय या श्रीकृष्णाय श्रीवासुदेवाय हरये परमात्मने, प्रणत: क्लेशनाशाय गोविन्दाय नमो नम: मन्त्र का जाप करना चाहिए।

    18:55 (IST)04 Jul 2020
    ग्रहण के दौरान खानपान

    ऐसा माना जाता है कि ग्रहण के समय भोजन करने वाला मनुष्य जितने अन्न के दाने खाता है, उतने सालों तक उसे नरक में वास करना पड़ता है।

    18:33 (IST)04 Jul 2020
    ग्रहण के बाद क्या करना चाहिए

    ग्रहण काल की समाप्ति के बाद तुरंत स्नान कर लेना चाहिए। ग्रहण काल में स्पर्श किए हुए वस्त्र आदि की शुद्धि के लिए उसे बाद में धो देना चाहिए तथा स्वयं भी वस्त्रसहित स्नान करना चाहिए। सूर्य या चन्द्र ग्रहण पूरा होने पर उसका शुद्ध बिम्ब देखकर ही भोजन करना चाहिए।

    18:08 (IST)04 Jul 2020
    Lunar Eclipse 2020: ऐसी है मान्यता

    मान्यता है कि ग्रहण के समय गायों को घास, पक्षियों को अन्न, जरूरत मंदों को वस्त्र दान देने से अनेक गुना पुण्य प्राप्त होता है।

    17:42 (IST)04 Jul 2020
    कैसे लगता है चंद्र ग्रहण

    चंद्र ग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते हैं जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है। ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में अवस्थित हों। ये घटना सिर्फ पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है।

    17:18 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: ये होता है सूतक काल

    ये ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा जिस वजह से इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। धार्मिक मान्यताओं अनुसार सूतक काल ग्रहण लगने से पहले की वो अवधि होती है जिसमें किसी भी तरह के शुभ कार्य नहीं किये जाते।

    16:53 (IST)04 Jul 2020
    भारत में सूतक भी नहीं होगा मान्य

    दिन में चंद्र ग्रहण लगने के कारण भारत में यह दिखाई नहीं देने वाला है और यही वजह है कि इस ग्रहण का सूतक काल भी मान्य नहीं होगा।

    16:24 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: ये हैं चंद्र ग्रहण का समय

    उपछाया चंद्र ग्रहण 5 जुलाई 2020 को सुबह 8 बजकर 37 मिनट पर शुरू होगा। इसके बाद यह 9 बजकर 59 मिनट पर अपने सबसे अधिक प्रभाव में होगा और सुबह 11 बजकर 22 मिनट पर खत्म हो जाएगा। यह ग्रहण लगभग दो घंटे 43 मिनट और 24 सेकेंड तक रहेगा।

    15:57 (IST)04 Jul 2020
    महीने में 3 ग्रहण नहीं माने जाते हैं शुभ

    ज्योतिष अनुसार एक महीने के अंतराल में तीन ग्रहण पड़ना शुभ नहीं माना जाता। वहीं 5 जून से 5 जुलाई के बीच में ये तीसरा ग्रहण लगने जा रहा है। माना जा रहा है कि इसके प्रभावों से प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ सकता है। महंगाई की मार लोगों को झेलनी पड़ सकती है। बड़े देशों के बीच दुश्मनी बढ़ने के आसार हैं।

    15:30 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020: खुली आंखों से भी देख सकतें हैं ग्रहण

    चंद्र ग्रहण को खुली आंखों से भी देखा जा सकता है. सूर्य ग्रहण में जहां आंखों से देखने पर नुकसान होने की संभावना रहती है, वहीं चंद्र ग्रहण में ऐसा कुछ नहीं होता है.

    15:08 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan July 2020: लगातार तीसरा वर्ष गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र गहण

    5 जुलाई को लगने वाला यह चंद्रग्रहण इस बार भी गुरु पूर्णिमा के दिन लग रहा है. यह लगातार तीसरा साल है जब गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण लग रहा है.

    14:33 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan (Lunar Eclipse) July 2020: 1 महीने में दूसरा चंद्रग्रहण

    बीते एक महीने में लगातार यह दूसरी बार है जब चंद्रग्रहण लगा है. 5 जून को भी चंद्र ग्रहम लगा था. वहीं साल का पहला चंद्र ग्रहण जनवरी में लगा था. बता दें कि इस साल 4 चंद्र ग्रहण लगेगा.

    14:05 (IST)04 Jul 2020
    Chandra Grahan 2020 Date: कई रहस्‍यों को समेटे है चंद्र ग्रहण

    ज्‍योतिष विज्ञान की मानें तो इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण भी अपने में कई रहस्‍यों को समेटे है। यह चंद्र ग्रहण वर्ष 2020 का तीसरा चंद्र ग्रहण है, जो कि उपच्छाया है। उपच्‍छाया के बारे में कहा गया है कि इस तरह का चंद्र ग्रहण तब लगता है, जब सूर्य और चांद के बीच पृथ्‍वी आती है, लेकिन तीनों एक सीध में नहीं होते। एक लाइन में सीधे नहीं होने के कारण चांद के छोटी सी सतह पर छाया नहीं पड़ती है। 

    Next Stories
    1 Rashifal Money Career: शनिवार के दिन आपकी किस्मत के सितारे क्या दे रहे हैं संकेत, जानिए
    2 स्वास्थ्य राशिफल 04 जुलाई 2020: मेष वालों के तनाव होंगे खत्म, कर्क वालों को बीमारी से मिलेगा छुटकारा
    3 Love Rashifal 04 July 2020: वृषभ वालों के लिए आज का दिन रहेगा रोमांटिक, मकर वालों का वैवाहिक रिश्ता होगा मजबूत
    ये पढ़ा क्या...
    X