ताज़ा खबर
 

चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को रखना होता है इन बातों का ध्यान

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं अपने पास एक नारियल रख लें। इससे नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव नहीं पड़ेगा। ग्रहण के बुरे प्रभावों से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को तुलसी का पत्ता जीभ पर रखकर हनुमान चालीसा और दुर्गा स्तुति का पाठ करना चाहिए।

partial lunar eclipse, partial lunar eclipse 2019, partial lunar eclipse 2019 date, partial lunar eclipse 2019 in india, partial lunar eclipse 2019 time in india, chandra grahan, chandra grahan 2019, lunar eclipse 2019 india, lunar eclipse 2019 india date, lunar eclipse 2019 date in india, chandra grahan 2019 india, chandra grahan 2019 date, chandra grahan 2019 time, chandra grahan 2019 timings, chandra grahan 2019 date and time in india, chandra grahan pregnancy precautions, partial lunar eclipse pregnancy precautions, lunar eclipse pregnancy precautions, lunar eclipse Pregnancy Effects, chandra grahan Pregnancy Effects, chandra grahan precautions for pregnantLunar Eclipse 2019 Date and Time: ग्रहण के समय गर्भवती महिलाएं इन बातों का रखें ध्यान।

जुलाई में लगने वाला चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2019) आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में 16 जुलाई से 17 जुलाई के बीच लगने वाला है। मंगलवार को लग रहे इस ग्रहण का समय रात 1 बजकर 32 मिनट से शुरू होकर सुबह 4 बजकर 30 मिनट तक रहेगा। इस चंद्र ग्रहण को खंडग्रास चंद्र ग्रहण कहा गया है। लगभग 3 घंटे तक लगने वाले इस चंद्रग्रहण का प्रभाव सभी राशि वालों पर पड़ने वाला है। चंद्र ग्रहण से कुछ घंटों पहले सूतक काल शुरु हो जाता है जिस दौरान कई तरह के कार्यों को करने की मनाही होती है। ग्रहण में खासकर गर्भवती महिलाओं को अपना विशेष ध्यान देने की सलाह दी जाती है क्योंकि ग्रहण का असर उनके साथ-साथ उनकी गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी पड़ सकता है।

माना जाता है कि ग्रहण के वक्त वातावरण में नकारात्मक ऊर्जा काफी ज्यादा रहती है। जिस वजह से ज्योतिषाचार्यों द्वारा ग्रहण काल के दौरान गर्भवती स्त्रियों को घर से बाहर नहीं निकलने की सलाह दी जाती है। अगर बाहर जाना बेहद जरूरी हो तो गर्भ पर चंदन और तुलसी के पत्तों का लेप लगाकर ही निकलें। वैसे तो ग्रहण के दौरान खाना खाने से मना किया जाता है लेकिन गर्भवती महिलाओं को पेट में पल रहे बच्चे के कारण जल्दी-जल्दी भूख लगती है। इसलिए ग्रहण काल के दौरान यदि भूख लगे तो सिर्फ खानपान की उन्हीं वस्तुओं का उपयोग करें जिनमें सूतक लगने से पहले तुलसी पत्र या कुशा डाला गया हो। साथ ही गर्भवती महिलाएं ग्रहण के दौरान कोई भी धार वाली वस्तुएं जैसे कि चाकू, छुरी, ब्लेड, कैंची इत्यादि का प्रयोग न करें। इससे बच्चे के अंगों पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इस दौरान सुई धागे का प्रयोग भी वर्जित होता है।

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं अपने पास एक नारियल रख लें। इससे नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव नहीं पड़ेगा। ग्रहण के बुरे प्रभावों से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को तुलसी का पत्ता जीभ पर रखकर हनुमान चालीसा और दुर्गा स्तुति का पाठ करना चाहिए। मान्यता है कि ग्रहण खत्म होने के बाद गर्भवती महिला को जरूर नहा लेना चाहिए वरना उसके शिशु को त्वचा संबधी रोग लग सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चाणक्य नीति अनुसार इन 5 लोगों के बीच से कभी नहीं चाहिए गुजरना
2 Horoscope Today, July 08, 2019: कर्क राशि वालों के करियर के लिए दिन कैसा रहने वाला है, जानें यहां
3 जानिए कब और कितनी देर तक रहेगा चंद्र ग्रहण, जानें साल 2020 में भी कब पड़ेंगे ग्रहण