ताज़ा खबर
 

Chandra Grahan/Lunar Eclipse 2019 Date, Timings: इस दिन लग रहा है चंद्र ग्रहण, जानें किन देशों में इसे देखा जा सकेगा

Partial Lunar Eclipse 2019, Chandra Grahan July 2019 Date and Time in India: 16 जुलाई 2019, मंगलवार के दिन साल का दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा। इस ग्रहण को भारत के अलावा यूरोप के अधिकांश भाग, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण पूर्व उत्तरी अमरीका, प्रशांत हिंद महासागर में भी देखा जा सकेगा। इसकी शुरुआत रात में करीब 1 बजकर 30 मिनट से होगी और इसका मोक्ष सुबह 4.30 बजे पर होगा।

Author नई दिल्ली | July 15, 2019 7:21 AM
Lunar Eclipse 2019 Date and Time: 16 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण।

Chandra Grahan 2019 or Partial Lunar Eclipse July 2019 Date and Time in India: 16 जुलाई 2019, मंगलवार के दिन साल का दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा। जो कि आंशिक चंद्र ग्रहण होगा। इस ग्रहण को भारत के अलावा यूरोप के अधिकांश भाग, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण पूर्व उत्तरी अमरीका, प्रशांत हिंद महासागर में भी देखा जा सकेगा। इसकी शुरुआत रात में करीब 1 बजकर 30 मिनट से होगी और इसका मोक्ष सुबह 4.30 बजे पर होगा। इससे पहले 21 जनवरी को साल का पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण लगा था। जिसे सुपर ब्लड मून के नाम से जाना जाता है। इस दिन चांद का रंग लाल रंग के साथ तांबे के रंग जैसा गहरा नजर आया था। हिंदू शास्त्रों के अनुसार किसी भी प्रकार का चंद्र ग्रहण शुभ नहीं माना जाता है। मान्यता के अनुसार चंद्र ग्रहण का प्रकोप किसी भी व्यक्ति पर पूरे 108 दिनों तक बना रहता है।

कैसे लगता है चंद्र ग्रहण: अंतरिक्ष में पृथ्वी निरंतर सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करती रहती है। जबकि चंद्रमा पृथ्वी का उपग्रह है और वह पृथ्वी के चारों ओर घूमता रहता है। ऐसे में कई बार पृथ्वी एक सीध में चंद्रमा और सूर्य के बीच आ जाती है। जिस कारण सूर्य की किरणें चंद्रमा तक नहीं पहुंच पाती जिससे पृथ्वी की प्रच्छाया उस पर पड़ने लगती है। इस स्थिति में पृथ्वी पर चंद्रमा का दिखना बंद हो जाता है। इसी खगोलीय घटना को चंद्र ग्रहण का नाम दिया गया है।

धार्मिक दृष्टि से ग्रहण के समय बहुत से कार्यों को करने की मनाही होती है। इस दौरान मंदिर बंद कर दिये जाते हैं। पूजा अर्चना नहीं की जाती है। ग्रहण के दौरान सिर पर तेल लगाना, खाना खाना और बनाना दोनों ही वर्जित होता है। ग्रहण के समय कोई भी शुभ व नया कार्य शुरू नहीं किया जाता है। घर में खाने-पीने की चीजों को ढक कर रख दिया जाता है। साथ ही उसमें तुलसी के पत्तों को डाल दिया जाता है। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान विशेष ध्यान देना होता है। क्योंकि ग्रहण का असर गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी पड़ सकता है। वैज्ञानिक दृष्टि से चंद्र ग्रहण के दौरान वायुमंडल में बैक्टीरिया और संक्रमण का प्रकोप तेजी से बढ़ जाता है। ऐसे में भोजन करने से संक्रमण अधिक होने की आशंका रहती है। इसलिए ग्रहण के दौरान भोजन खाने से बचना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App