scorecardresearch

Chanakya Niti: अपनी इन आदतों के कारण निर्धन हो जाता है व्यक्ति, मां लक्ष्मी भी छोड़ देती हैं साथ

Chanakya Niti: चाणक्य जी के मुताबिक जो व्यक्ति अपने स्वार्थ के लिए झूठ बोलता है, उस पर मां लक्ष्मी कभी प्रसन्न नहीं होती।

Chanakya Neeti, Chanakya Niti, Religion News
चाणक्य जी का मानना है की जो व्यक्ति आय से अधिक धन खर्च करता है, वह जल्दी निर्धन हो जाता है

महान रणनीतिकार आचार्य चाणक्य ने समाज के कल्याण के लिए एक नीति शास्त्र की रचना की थी। इस नीति शास्त्र में धन, विद्या, दांपत्य जीवन, पारिवारिक रिश्ते, मित्र और शत्रु समेत हर विषय को लेकर सुझाव दिए गए हैं। इसलिए आचार्य चाणक्य की नीतियां वर्तमान समय में भी प्रासंगिक मानी जाती हैं। कहा जाता है की जो व्यक्ति उनकी नीतियों को अपनी जिंदगी में उतार लेता है, उसके लक्ष्य प्राप्ति की संभावना बढ़ जाती है।

इस नीति शास्त्र में चाणक्य जी ने मनुष्य की कुछ ऐसी आदतों का जिक्र किया है, जिनके कारण व्यक्ति निर्धन हो जाता है और मां लक्ष्मी भी उनका साथ छोड़ देती हैं। इसलिए अगर आप भी अपने जीवन में धनवान बनना चाहते हैं तो चाणक्य जी की इन बातों को हमेशा ध्यान रखें।

आय से अधिक खर्च करने वाला: आचार्य चाणक्य के अनुसार जो व्यक्ति अपनी आय से अधिक खर्चा करता है या फिर जो अनावश्यक ही धन को खर्च करता है, वह व्यक्ति हमेशा परेशान रहता है। आचार्य चाणक्य के अनुसार जीवन में धन का संचयन और बचत करना बेहद ही जरूरी है। क्योंकि यह मुश्किल समय में आपका साथ देता है। अगर व्यक्ति अनावश्यक चीजों पर धन खर्च करता है तो मां लक्ष्मी भी उनसे रूठ जाती हैं।

गलत संगति: चाणक्य जी बताते हैं की जिन लोगों की संगति गलत होती है, वह धन की देवी मां लक्ष्मी की कृपा से वंचित रह जाता है। क्योंकि गलत संगत का असर व्यक्ति को काफी प्रभावित करता है। ऐसे लोगों को अपने जीवन में काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है।

धोखा देने वाला: जो व्यक्ति दूसरों को धोखा देते हैं या पीठ पीछे वार करता है, ऐसे लोगों को कभी भी समाज से मान-सम्मान नहीं मिलता। धन कमाने के लिए भी ऐसे लोगों को काफी मेहनत करनी पड़ती है। क्योंकि मां लक्ष्मी इनका साथ नहीं देतीं।

झूठ बोलने वाला: चाणक्य जी के मुताबिक जो व्यक्ति अपने स्वार्थ के लिए झूठ बोलता है, उस पर मां लक्ष्मी कभी प्रसन्न नहीं होती। क्योंकि ऐसे लोगों को समाज में अक्सर शर्मिंदा होना पड़ता है।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.