ताज़ा खबर
 

चाणक्य नीति: इन 5 पर चाहकर भी नहीं करना चाहिए विश्वास

चाणक्य के अनुसार राज्य कुल से संबंध रखने वाले व्यक्ति और शासन से संबंधित व्यक्ति पर भी विश्वास नहीं करना चाहिए।

चाणक्य।

आमतौर पर व्यक्ति का जीवन आपसी विश्वास पर टिका है। हमारी भी जिंदगी में कई लोग ऐसे हैं जिन पर हम विश्वास करते हैं। इंसान के अलावा कई जीव-जंतु भी ऐसे हैं जिन पर हम भरोसा रखते हैं। यहां यह जानना आवश्यक हो जाता है कि आखिर इंसान को किस पर विश्वास करना चाहिए और किस पर नहीं। आचार्य चाणक्य ने इस बारे में चाणक्य नीति में बताया है। प्रसिद्ध पुस्तक चाणक्य नीति में आचार्य ने बताया है कि मनुष्य को किन 5 पर चाहकर विश्वास नहीं करना चाहिए। आगे हम इसे जानेंगे।

चाणक्य नीति में एक श्लोक आया है- “नदीनां शस्त्रपाणीनां नखीनां श्रृंगीणां तथा। विश्वासो नैव कर्तव्य: स्त्रीषु राजकुलेषु च।।” इसका अर्थ है कि मनुष्य को नदियों पर कभी विश्वास नहीं करना चाहिए। इसके बारे में चाणक्य कहते हैं कि वैसी नदियां जिनके पुल कच्चे हैं, टूटे हुए हैं उस पर विश्वास नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह कोई नहीं जानता कि किस वक्त नदी के पानी का बहाव तेज हो जाए या उसकी दिशा बदल जाए। फिर चाणक्य बताते हैं कि वैसे जीव-जंतु जिनके पास नाखून और सिंग होते हैं उन पर भरोसा करना परेशानी से भरा हो सकता है। क्योंकि ऐसे जीव का कोई भरोसा नहीं कि ये कब बिगड़ जाए और अपने नाखून और सिंग से प्रहार कर दे।

चाणक्य के अनुसार राज्य कुल से संबंध रखने वाले व्यक्ति और शासन से संबंधित व्यक्ति पर भी विश्वास नहीं करना चाहिए। क्योंकि ये अपना स्वार्थ सिद्ध करने के लिए धोखा दे सकते हैं। आगे आचार्य चाणक्य कहते हैं कि वैसी स्त्री जिसका स्वभाव बहुत अधिक चंचल है, उस पर भी विश्वास नहीं करना चाहिए। इसके अलावा जो शस्त्रधारी हैं उनके ऊपर भरोसा करना नुकसानदेह हो सकता है। आगे चाणक्य बताते हैं कि जो हथियार रखता हो वह यदि गुस्से में आ जाए तो वह उस हथियार का प्रयोग कर सकता है।

Next Stories
1 शनि देव को क्यों कहा जाता है ‘न्यायाधीश’, जानिए
2 शुक्रवार को न करें ये 4 काम, घर से लक्ष्मी चले जाने की है मान्यता
3 सद्गुरु के अनुसार जानिए ध्यान करते समय नींद से कैसे बचें
ये पढ़ा क्या?
X