ताज़ा खबर
 

Chanakya Niti: इस एक आदत से बना लें दूरी, आसान हो जाएगी सफलता पाने की राह

Chanakya Niti in Hindi: आचार्य कहते हैं कि सफलता तभी प्राप्त की जा सकती है जब व्यक्ति को खुद पर आत्मविश्वास बना रहेगा

chanakya, chanakya niti, chanakya niti for youth, chanakya niti in hindiजीवन में वही इंसान सफल हो सकता है जो अपने अंदर मौजूद गलत आदतों को पहचानकर उन्हें दूर कर सके

Chanakya Niti in Hindi: विश्व भर में अपने ज्ञान के लिए प्रसिद्ध आचार्य चाणक्य को महान राजनीतिज्ञ और कूटनीतिज्ञ का दर्जा दिया गया है। राजकाज के अलावा, आचार्य ने अपनी चाणक्य नीति पुस्तक में सफलता के सूत्रों के बारे में बताया है जिसके माध्यम से आप अपना लक्ष्य हासिल कर सकते हैं। योग्य शिक्षक माने जाने वाले चाणक्य ने युवाओं से संबंधित कई बातों का जिक्र किया जो उनको सफल बनाने में काम आएंगे। अपने ग्रंथ में आचार्य चाणक्य ने जिक्र किया है कि जीवन में वही इंसान सफल हो सकता है जो अपने अंदर मौजूद गलत आदतों को पहचानकर उन्हें दूर कर सके। उनका मानना था कि जो व्यक्ति जिंदगी में गलत रास्ते पर जाता है, तो सफलता उसके कदम नहीं चूमती है।

चाणक्य के अनुसार व्यक्ति अगर सफलता प्राप्त करना चाहता है तो उसे इस एक अवगुण से खुद को हर कीमत पर दूर रखना चाहिए। आइए जानते हैं कि गलत आदत के बारे में आचार्य ने बताया है –

सबसे बड़ा अवगुण है झूठ: अपनी नीति पुस्तक में चाणक्य लिखते हैं कि लोगों को कभी भी किसी भी कार्य को करने में झूठ का सहारा नहीं लेना चाहिए। उनके अनुसार झूठ बोलना सबसे बड़ा अवगुण है। उनके मुताबिक झूठ बोलना एक ऐसी आदत है जिससे किसी का भी अच्छा नहीं हो सकता। संभव है कि क्षणिक मुनाफा या खुशी झूठ बोलकर कमाई जा सकती है। पर सच के सामने आने पर न केवल धन-धान्य बल्कि मान-सम्मान भी चला जाएगा।

चाणक्य का मानना है कि झूठ कुछ समय तक ऊपर उठ सकता है, पर इसकी उम्र ज्यादा नहीं होती है। एक न एक दिन झूठ पर पर्दा उठ जाता है और सच सबके समक्ष आ जाता है।

आत्मविश्वास होता है कम: आचार्य कहते हैं कि सफलता तभी प्राप्त की जा सकती है जब व्यक्ति को खुद पर आत्मविश्वास बना रहेगा। जिस इंसान में इसकी कमी होती है, वो हमेशा ही खुद को दूसरों की तुलना में कमतर ही आंकेगा। उनके मुताबिक जो इंसान झूठ बोलने लगता है, उसमें धीरे-धीरे आत्मविश्वास की कमी हो जाती है।

इस बात का भी रखें ध्यान: लोगों को अपने लक्ष्य के बारे में युवावस्था से ही सोचना शुरू कर देना चाहिए। चाणक्य की मानें तो इस उम्र में हुई जरा सी भी लापरवाही लोगों को पूरी जिंदगी कचोटती रहती है। इसलिए युवावस्था में व्यक्ति को सजग और सावधान रहना चाहिए। इस दौरान संगत का भी बहुत असर पड़ता है। ऐसे में जरूरी है कि आप वैसे दोस्त बनाएं जो आपको जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित कर सकें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 October 2020: अक्टूबर माह में पड़ेंगे कई बड़े पर्व, यहां देखें त्योहार और व्रतों की पूरी सूची
2 Horoscope Today, 30 September 2020: मिथुन राशि वालों के लिए मुश्किल भरा रहेगा दिन, तुला वाले रहें सतर्क
3 प्रेग्नेंसी के दौरान इन उपायों से करें बच्चे के नवग्रहों को मजबूत, जानिये क्या कहता है ज्योतिष शास्त्र
  यह पढ़ा क्या?
X