ताज़ा खबर
 

Navratri 2020: 25 मार्च से शुरू हो रहे हैं नवरात्र, जानिये- मां को प्रसन्न करने के लिए क्या उपाय किये जाते हैं

Chaitra Navratri 2020: नवरात्रि के 9 दिन को हर कोई बहुत शुभ मानता है। इन खास दिनों पर लोग गृह प्रवेश और नई गाड़ियों की खरीददारी करते हैं

chaitra navratri, chaitra navratri 2020, chaitra navratri date, chaitra navratri 25th march, chaitra navratri march, chaitra navratri importance, chaitra navratri pooja, chaitra navratri puja, chaitra navratri puja tips, how to do chaitra navratri, what to do in chaitra navratri, chaitra navratri puja vidhi, chaitra navratri puja vidhi in hindi, chaitra navratri tips, chaitra navratri shubh muhurat, chaitra navratri timing, chaitra navratri shubh yog, chaitra navratri importance in hindi, chaitra navratri meaningचैत्र नवरात्रि पर इस तरह देवी मां को करें प्रसन्न

Chaitra Navratri 2020: चैत्र नवरात्रि इस साल 25 मार्च से शुरू हो रहे हैं। नवरात्र के नौ दिनों का शास्त्रों में बहुत महत्व बतया गया है। इन 9 दिनों देवी के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है कि नवरात्रि में मां शक्ति की साधना से प्रसन्न होकर माता अपने साधकों पर पूरे वर्ष कृपा बरसाती हैं। हिन्दू पंचांग के अनुसार, हिंदू नववर्ष का शुभारंभ भी चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को ही होता है। ज्योतिषों की मानें तो इस साल नवरात्रि के समय कई शुभ संयोग बन रहे हैं। ऐसे में आइए जानते हैं कैसे देवी मां को किया जा सकता है प्रसन्न।

क्या करें उपाय: 25 मार्च यानि कि जिस दिन नवरात्रि की शुरुआत हो रही है, उस दिन को बेहद शुभ माना जाता है। इस दिन पूजा-अर्चना के साथ ही किसी भी नए काम को शुरू कपने के लिए बहुत लाभकारी होता है। वहीं, अगले दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से उत्तम फल की प्राप्ति होती है। इसके अलावा, मां की पूजा पूरे श्रद्धा, विश्वास और समर्पण के साथ करना चाहिए। इनमें से किसी भी एक चीज की कमी से पूजा से प्राप्त होने वाले सारे फल नष्ट हो सकते हैं। वहीं, विद्यार्थियों को नवरात्रि के दौरान ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महासरस्वती देव्यै नमः मंत्र का जाप करना चाहिए। इसके अलावा, जो लोग अपनी माली हालत को बेहतर करना चाहते हैं वो लोग नियमित रूप से प्रतिदिन दशांग, गूगल और शहद मिश्रित हवन सामग्री से हवन करें।

ये है पूजा विधि: नवरात्रि के दिन सुबह स्नान करके माता दुर्गा, भगवान गणेश, नवग्रह कुबेरादि की मूर्ति के साथ-साथ कलश स्थापन करें। कलश सोना, चांदी, तामा, पीतल या मिट्टी का होना चाहिए, ध्यान रखें कि पूजा में इस्तेमाल होने वाला कलश लोहे का न हो। कलश पर रोली से ॐ और स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं और उसके स्थापना के वक्त पूजा करने के स्थान पर पूर्व दिशा में 7 तरह के अनाज रखें। माता की आराधना के समय यदि आपको कोई भी मन्त्र नहीं आता हो तो केवल दुर्गा सप्तशती में दिए गए नवार्ण मंत्र ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे मन्त्र का जाप भी कर सकते हैं। हल्दी, अक्षत, पुष्प के साथ ही श्रृंगार का सामान और नारियल-चुन्नी जरुर चढ़ाएं।

नवरात्रि में ये बन रहे हैं शुभ योग: नवरात्र के शुरुआती दिन को बहुत शुभ माना जाता है। इस बार चैत्र नवरात्र में चार सर्वाथसिद्धि योग, एक अमृतसिद्धि योग और एक रवियोग बन रहा है। इस तरह से चैत्र नवरात्र में 6 सिद्ध योग बन रहे हैं। इन दिनों पूजा, उपासना और किसी कार्य को आरंभ करना काफी शुभ माना जाता है।

Next Stories
1 Weekly Festival (16 March To 22 March): शीतला अष्टमी, पापमोचिनी एकादशी समेत इस सप्ताह आयेंगे ये व्रत-त्योहार
2 Sheetla Mata Puja 2020: शीतला माता की पूजा विधि, व्रत कथा, आरती, मंत्र और सबकुछ पढ़ें यहां
3 कुंभ वालों को करियर में मिल सकती है बड़ी सफलता, इन्हें विदेश से अच्छे ऑफर आने के आसार
आज का राशिफल
X