ताज़ा खबर
 

Chaitra Navratri 2019: चैत्र नवरात्रि व्रत में रखें यह सावधानियां, अखंड रहेगी व्रत की पवित्रता

Chaitra Navratri 2019: नवरात्रि में माता जी की अखंड ज्योति यदि देशी गाय के घी से जलाई जाये तो यह माता जी को बहुत प्रसन्न करने वाला कार्य होता है। लेकिन अगर गाय का घी नहीं है तो अन्य घी से माता की अखंड ज्योति पूजा स्थान पर जरूर जलानी चाहिए।

शैलपुत्री माता।

Chaitra Navratri 2019: हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार एक साल में प्रमुख नवरात्रि पड़ती है। जिसमें से एक चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से आरंभ होकर क्रमशः नौ दिनों तक चलती है। और दूसरा आश्विन शुक्ल पक्ष से शुरू होकर आश्विन शुक्ल पक्ष नवमी तक चलती है। चैत्र नवरात्रि अन्य नवरात्रि में इसलिए खास मानी जाती है क्योंकि इसी माह चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से भारतीय नववर्ष का आगाज हो जाता है। नवरात्रि के नौ दिनों की अवधि में भक्त पूरे भक्ति भाव से शक्ति की उपासना करते हैं। साथ ही कई भक्त इस नवरात्रि में लगातार नौ दिनों तक उपवास रखते हैं। माना जाता है कि नवरात्रि व्रत में पूरी निष्ठा के साथ व्रत के नियमों का पालन करना चाहिए। इसलिए आज हम आपको नवरात्रि व्रत की सावधानियों के बारे में बनाने जा रहे हैं। साथ ही यह भी बता रहे हैं कि व्रत में किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक माना गया है।

  • नवरात्रि के दौरान रोज देवी माता के मंदिर में जाकर, माता जी का ध्यान करना चाहिए। साथ ही अपने और परिवार की खुशहाली की कामना देवी दुर्गा से करनी चाहिए।
  • शास्त्रों के मुताबिक अगर रोज स्वच्छ जल और पुष्प देवी दुर्गा को चढ़ाया जाए तो देवी जल्द प्रसन्न होती हैं।
  • यदि आप घर पर ही हैं ऐसे में आपको स्वच्छता की दृष्टि से नंगे पैर रहना चाहिए। साथ ही स्वच्छ और पवित्र कपड़ों का ही इस्तेमाल करना चाहिए।
  • नवरात्रों में व्यक्ति को नौ दिनों तक देवी माता जी का विशेष पूजा करनी चाहिए। पूजन में देवी मां को चोला, फूलों की माला, हार आदि अर्पित करना चाहिए।
  • नवरात्रि में देवी दुर्गा की प्रतिमा या मूर्ति से सामने अखंड ज्योत जलाने से माता रानी की विशेष कृपा मिलने की मान्यता है।
  • नवरात्रि के आठवें और नौवें दिन देवी दुर्गा की विशेष पूजा का विधान है। क्योंकि इसी दिन कन्या पूजन और कन्या भोजन कराए जाने का विधान है। साथ ही इस दिन किसी योग्य पंडित के द्वारा माता का स्तोत्र और पाठ कराना शुभ होता है।
  • नवरात्रों में एक बात का विशेष ध्यान सभी को रखना चाहिए कि यदि आप व्रत कर रहे हैं या नहीं कर रहे हैं लेकिन इन नौ दिनों में हर व्यक्ति को ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करना चाहिए।
  • सावधानियां:
  • चैत्र नवरात्रि के दौरान घर में यदि कोई व्यक्ति व्रत नहीं भी रख रहा है तो ऐसे में भी उनके लिए बनने वाला भोजन सात्विक ही होना चाहिए।
  • चैत्र नवरात्रि व्रत में नियम-निष्ठा को सावधानी पूर्वक पालन करने की सलाह शास्त्रों में दी गई है। इसलिए हर हाल में इसका पालन करना चाहिए।
  • नवरात्रि के दौरान घर में नौ दिनों तक बनने वाले भोजन में छौंक का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा करना अशुभ माना गया है।
  • नवरात्रि की अवधि में घर में लहसुन और प्याज का प्रयोग वर्जित है। इसलिए इनके प्रयोग से बचना चाहिए।
  • नवरात्रि के दौरान व्यक्ति को दाढ़ी, नाखून और बाल नहीं कटवाने चाहिए। शास्त्रों ने इस कार्य को नवरात्रि के दौरान व्रती के लिए साफ तौर पर वर्जित किया गया है।
  • माता के नौ दिनों की भक्ति वाले दिनों में, मनुष्य को मांस और मदिरा का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Happy Valentine's Day 2020 Wishes, Images: वेलेंटाइन डे पर अपने पार्टनर से शेयर करें अपने दिल की बात
2 Valentine Special: राशि से जानिए किन राशि के लोगों को लाइफ में कितनी बार तक हो सकता है प्यार
3 Mahashivratri 2020: जानिए, क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि, इस दिन क्या करना चाहिए
ये पढ़ा क्या?
X