ताज़ा खबर
 

Chaitra Navaratri Kalash Sthapna 2020 Date, Muhurat, Timings: नवरात्रि में कैसे करें कलश स्थापना? किन सामग्रियों की पड़ेगी जरूरत और क्या है पूजा विधि

Chaitra Navaratri Kalash Sthapna 2020 Date, Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Time, Timings: घट स्‍थापना शक्ति की देवी का आह्वान है। माना जाता है कि सही मुहूर्त में सही विधि से घट स्थापना करनी चाहिए। घट स्थापना का सबसे शुभ समय प्रतिपदा तिथि का एक तिहाई भाग बीतने के बाद का माना गया है।

navratri, navratri 2020, chaitra navratri kalash sthapana muhurat, chaitra navratri kalash sthapana time, chaitra navratri kalash sthapana mantra, chaitra navratri kalash sthapana vidhi, chaitra navratri kalash sthapana timings, navratri kalash sthapna, navratri kalash sthapna vidhi, navratri kalash sthapna muhurat, navratri kalash sthapna date 2020, navratri kalash sthapna puja vidhi, navratri kalash sthapna puja muhurat, kalash sthapna, kalash sthapna puja muhurat, kalash sthapna vidhi, kalash sthapna time, kalash sthapna date, kalash sthapna vidhiChaitra Navaratri 2020 Kalash Sthapna Puja Vidhi, Muhurat: नवरात्रि में कलश स्थापना करने के लिए सुबह जल्दी उठ जाएं। स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। इसके बाद घर के मंदिर की साफ सफाई कर लें। गणेश जी का पूजन करें।

Chaitra Navaratri Kalash Sthapna 2020 Date, Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Time, Timings: नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना की जाती है। जो 25 मार्च को होगी। कलश स्थापना को घट स्थापना भी कहा जाता है। घट स्‍थापना शक्ति की देवी का आह्वान है। माना जाता है कि सही मुहूर्त में सही विधि से घट स्थापना करनी चाहिए। घट स्थापना का सबसे शुभ समय प्रतिपदा तिथि का एक तिहाई भाग बीतने के बाद का माना गया है। अगर किसी कारण इस समय में कलश स्थापना न कर पाएं तब अभिजीत मुहूर्त में इसे स्थापित करना चाहिए। अब जानिए कलश स्थापना के लिए किन सामग्रियों की होगी जरूरत, क्या है इसी स्थापित करने की सही विधि…

Chaitra Navratri 2020 Puja Vidhi, Muhuart, Mantra, Samagri: नवरात्रि के पहले दिन ऐसे करें कलश स्थापना, ये हैं मां अम्बे की पूजा की सही विधि

घट स्थापना मुहूर्त (Navratri Ghatasthapana Muhurat):

कलश स्थापना का शुभ समय – 06:00 ए एम से 06:57 ए एम तक
अवधि – 00 घण्टे 56 मिनट्स
घटस्थापना मुहूर्त, द्वि-स्वभाव मीन लग्न के दौरान है।
प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ – मार्च 24, 2020 को 02:57 पी एम बजे
प्रतिपदा तिथि समाप्त – मार्च 25, 2020 को 05:26 पी एम बजे
मीन लग्न प्रारम्भ – मार्च 25, 2020 को 06:00 ए एम बजे
मीन लग्न समाप्त – मार्च 25, 2020 को 06:57 ए एम बजे

Mata Ki Aarti (माता की आरती): अम्बे तू है जगदम्बे काली…

कलश स्थापना के लिए आवश्यक सामग्री:

जौ बोने के लिए मिट्टी का पात्र
साफ मिट्टी
मिट्टी का एक छोटा घड़ा
कलश को ढकने के लिए मिट्टी का एक ढक्कन
गंगा जल
सुपारी
1 या 2 रुपए का सिक्का
आम की पत्तियां
अक्षत / कच्चे चावल
मोली / कलावा / रक्षा सूत्र
जौ (जवारे)
इत्र
फुल और फुल माला
नारियल
लाल कपड़ा / लाल चुन्नी
दूर्वा घास

Navratri Vrat Katha: नवरात्रि व्रत कथा यहां से पढ़ें 

कलश स्थापना की विधि:

– नवरात्रि में कलश स्थापना करने के लिए सुबह जल्दी उठ जाएं। स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। इसके बाद घर के मंदिर की साफ सफाई कर लें। गणेश जी का पूजन करें।

– जो लोग मां की अखंड ज्योत जलाना चाहते हैं तो उसे इस समय जला लें।

– इसके बाद मिट्टी का पात्र लें उसमें मिट्टी डालकर जौ के बीज बोएं। अब एक तांबे का लौटा लें उस पर स्वास्तिक बनाएं। लौटे पर मौली बांधे। उसमें जल भरें और कुल बूंदें गंगाजल की मिला लें। फिर उसमें सवा रुपया, दूब, सुपारी, इत्र और अक्षत डालें। कलश में अशोक या अम के पांच पत्तें रखें।

– अब एक जटाधारी नारियल लें उसे लाल कपड़े में लपेट लें उस पर मौली बांधें। फिर नारियल को कलश के ऊपर स्थापित करें। अब उस कलश को मिट्टी के उस पात्र के बीचोंबीच रखें जिसमें आपने जौ बोएं हैं। इस तरह से कलश स्थापित करने के बाद नौ दिन व्रत रखने का संकल्प लें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Chaitra Navratri 2020 Date: मां दुर्गा की अराधना के नौ दिन होते हैं खास, जानिए किस विधि से मां की करें पूजा
2 आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang) 24 March 2020: आज है चैत्र अमावस्या, रहेगा सर्वार्थ सिद्धि योग, जानिए राहुकाल का समय और अन्य मुहूर्त
3 आज से नवरात्रि पर्व शुरू, जानिए क्यों खास होते हैं मां दुर्गा की अराधना के ये नौ दिन
यह पढ़ा क्या?
X