scorecardresearch

क्या राशि अनुसार आपके लिए बिजनेस करना हो सकता है फायदेमंद? जानिए क्या कहता है ज्योतिष

यदि आपकी कुंडली में सूर्य नवम भाव में बैठा हो या गुरु भी सूर्य के साथ कुंडली में बैठा हो तो व्यक्ति प्रबंधन के कार्य में सफल होता है।

क्या राशि अनुसार आपके लिए बिजनेस करना हो सकता है फायदेमंद? जानिए क्या कहता है ज्योतिष
जानिए बिजनेस को लेकर क्या कहता है ज्योतिष (Image: Freepik)

जब आप कोई व्यवसाय शुरू करने के बारे में सोचते हैं, तो सबसे पहली बात जो भ्रमित रहती है वह यह है कि कौन सा व्यवसाय करना है। ऐसी चिंता होना स्वाभाविक भी है क्योंकि व्यापार में कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में यदि सही व्यवसाय का चयन नहीं किया जाता है तो लाभ के स्थान पर भारी नुकसान उठाना पड़ता है। इस मामले में सूर्य की स्थिति के अनुसार कौन सा व्यवसाय आपके लिए लाभदायक रहेगा। सूर्य को सामान्य रूप से सरकारी और सरकारी क्षेत्र का स्वामी माना जाता है।

कुंडली में दसवां स्थान, नंबर एक का केंद्र है और कर्म की दृष्टि से महत्वपूर्ण है। इन स्थानों के ग्रह उद्योग, व्यवसाय या नौकरी तय करने के लिए जिम्मेदार हैं। उसके नीचे जातक का जन्म स्थान होता है। महत्वाकांक्षा, इच्छा शक्ति और विचारों की दिशा और प्रकृति को दर्शाता है। आध्यात्मिक ग्रह सूर्य और मानसिक ग्रह चंद्रमा की स्थिति महत्वपूर्ण है। चूंकि कुंडली में ग्यारहवां स्थान एक लाभकारी स्थिति है, इसलिए इस पर विचार करना भी उपयोगी होगा।

दशम भाव में हमने राशि और ग्रहों का महत्व देखा है। जातक के करियर में उद्योग या नौकरी के क्षेत्र की भविष्यवाणी करने में मार्गदर्शन के लिए निम्नलिखित विधि उपयोगी हो सकती है। निसर्ग कुंडली दशम में राशियों और ग्रहों को ध्यान में रखते हुए उद्योग और व्यवसाय के बारे में निम्नलिखित धारणाएं बनाई जा सकती हैं।

  1. मेष, सिंह, धनु या ग्रह इन राशियों की शुभ स्थिति में प्रथम श्रेणी और उच्च राजसी होते हैं। इसलिए कर्क, वृश्चिक, मीन को दूसरी रैंक, वृष, कन्या, मकर को तीसरी रैंक, मिथुन, तुला, कुंभ को अंतिम रैंक माना जाना चाहिए।
  2. यदि मेष, कर्क, तुला और मकर राशि के लोग दशमंत या दशमेश से जुड़े हों, तो यात्रा व्यवसाय अनुकूल होता है।
  3. यदि वृष, सिंह, वृश्चिक और कुंभ राशि इस राशि में हों तो वे नौकरी के लिए उपयुक्त होते हैं और उस व्यवसाय के पूरक होते हैं जो एक निश्चित स्थान पर अर्थात एक स्थान पर बैठे होते हैं।
  4. यदि इस स्थान पर मिथुन, कन्या, धनु, मीन राशियां हों तो ऐसा व्यक्ति नौकरी करते हुए आजीविका के लिए अंशकालिक व्यवसाय करता पाया जाता है।

ग्रहों का विचार

सूर्य, बृहस्पति, शुक्र और चंद्रमा ग्रहों के प्रभाव से उच्च गुणवत्ता वाले फल प्राप्त होते हैं। ऐसे में बुध, शनि, मंगल का प्रभाव कम होता है। जब एक-दूसरे के पूरक या विरोधी योग होते हैं, तो प्रबल ग्रह के अनुसार शुभ फल प्राप्त होते हैं। भाग्य की दिशा जानने के लिए राशियों और ग्रहों की दिशाओं का अध्ययन करना चाहिए। वराहमिहिर ने अपने बृहतजातक ग्रंथ में कर्मजीवध्याय नामक एक अलग खंड लिखा। राशि और ग्रहों के आधार पर उनके द्वारा दिया गया मार्गदर्शन वर्तमान समय में भी मार्गदर्शक है।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 07-10-2022 at 03:36:12 pm
अपडेट