scorecardresearch

Budh Margi 2022: एक सप्ताह बाद बुध होने जा रहे हैं मार्गी, इन राशियों के जातकों के खुल सकते हैं भाग्य

Budh Margi 2022: ज्योतिष अनुसार बुध ग्रह जीवन में बुद्धि, संचार और प्रबंधन का कारक ग्रह माना जाता है। इसकी कुंडली में स्थिति मजबूत होने से जीवन में खुशियां और समृद्धि आती है।

budh rashi parivartan, mercury transit 2021, budh rashi parivartan aug 2021,
प्रतीकात्मक तस्वीर

Budh Margi 2022: वैदिक ज्योतिष में बुध ग्रह जीवन में बुद्धि, संचार और प्रबंधन का कारक ग्रह माना जाता है। समय- समय पर हर ग्रह मार्गी और वक्री होते हैं। मार्गी का मतलब सीधी चाल और वक्री का मतलब उल्टी चाल चलना। बुध ग्रह लगभग साल में 3 बार वक्री होते हैं। साल 2022 में बुध की पहली वक्री चाल की अवधि 21 दिन की रहेगी। बुध ग्रह मकर राशि में 14 जनवरी से लेकर 4 फरवरी तक वक्री अवस्था में रहेंगे। वहीं अब बुध देव साल 2022 में 04 फरवरी को शुक्रवार की सुबह 09 बजकर 16 मिनट पर शनि देव की कुंभ राशि में मार्गी हो जाएंगे।

ऐसे में बुध की ये मार्गी चाल जातकों के लिए आत्मविश्वास और विश्लेषणात्मक क्षमताओं में वृद्धि करते हुए उन्हें अच्छी तरह से विकसित करेगी। बुध जब गुरु, शुक्र, सूर्य और चंद्रमा के साथ रहते हैं तो शुभ फल देते है जबकि गुरु, राहु-केतु, मंगल और शनि के साथ होने पर उनके प्रकृति के अनुसार अशुभ फल प्रदान करते हैं। आइए जानते हैं किन राशियों के लिए बुध का मार्गी होना शुभ है-

मेष ( Aries): मेष राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके तीसरे व छठे भाव के स्वामी हैं और इस अवधि में यह आपके ग्यारहवें भाव यानी कि इच्छा और लाभ के भाव में मार्गी होंगे। इस दौरान जातकों के विस्तार और विकास के लिए यह स्थिति अच्छी सिद्ध हो सकती है। क्योंकि बुध इस समय आपके सफलता के एकादश भाव में उपस्थित होंगे।

इस राशि के लोगों को निवेश आदि से जुड़े कुछ बड़े निर्णय ले सकते हैं, इस दौरान भाई-बहनों और दोस्तों का समर्थन मिलेगा। साथ ही इस दौरान कई जातकों के घर-परिवार में कोई मांगलिक कार्यक्रम संभव है और इससे आपको मन से प्रसन्नता मिलेगी।

वृषभ( Taurus): वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध दूसरे और पंचम भाव के स्वामी होते हैं और ये अब मार्गी होकर आपके दशम भाव में प्रस्थान करेंगे। इस दौरान उत्साह में वृद्धि होगी और करियर में अच्छी सफलता अर्जित करते हुए अपने लक्ष्यों के प्रति अधिक केंद्रित होंगे। व्यक्तिगत जीवन के लिहाज़ से आपको इस दौरान सबसे अधिक अपने जीवनसाथी के साथ अपने संबंधों पर ध्यान देने की आवश्यकता होगी। जातक व्यापारी हैं तो आपको ये गोचर अच्छा लाभ मिलने के योग बनाएगा जिससे आपकी कई मनोकामनाएं पूरी होंगी।

मिथुन (Gemini): मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके लग्न भाव और चौथे भाव के स्वामी माने जाते हैं और इस अवधि में बुध मार्गी होकर उनके नवम भाव में स्थित होंगे। इस दौरान आपको भाग्य का साथ मिलेगा और आप अपने भाग्य के बल पर ही अच्छी संपत्ति आदि प्राप्त करने में सक्षम होंगे। नौकरीपेशा जातक पदोन्नति मिल सकती है। आर्थिक रूप से आप आसानी से अच्छा धन प्राप्त करने वाले हैं। कई जातक किसी धार्मिक व आध्यात्मिक यात्रा में भी शामिल हो सकते हैं।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट