ताज़ा खबर
 

Bhai Dooj 2020 Date, Puja Vidhi, Muhurat: भाई-बहन के पावन बंधन का त्योहार है भाई दूज, जानें पूजन सामग्री, विधि, मुहूर्त और मंत्र

Bhai Dooj 2020 Puja Vidhi, Tikka Shubh Muhurat, Time, Samagri, Mantra: भाई दूज के त्योहार को भाई-बहन के बंधन और प्रेम के लिए जाना जाता है। इसलिए इस पावन त्योहार का नाम भी इसी तरह का रखा गया है।

bhai dooj, bhai dooj 2020, bhai dooj puja vidhiBhai Dooj 2020 Puja Vidhi, Tikka Muhurat: भाई दूज के दिन बहनें अपने भाई को तिलक करती हैं।

Bhai Dooj 2020 Date, Puja Vidhi, Tikka Shubh Muhurat, Time, Samagri, Mantra: हर साल परम पावन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को भाई दूज का त्योहार मनाया जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के मुताबिक इस साल देशभर में भाई दूज 16 नवंबर, सोमवार को मनाया जाएगा। भाई दूज के त्योहार को भाई-बहन के बंधन और प्रेम के लिए जाना जाता है। इसलिए इस पावन त्योहार का नाम भी इसी तरह का रखा गया है। भाई दूज में भाई का मतलब भईया और दूज का मतलब द्वितीया तिथि से है।

भाई दूज पूजा का शुभ मुहूर्त (Bhai Dooj Puja Ka Shubh Muhurat)
भाई दूज पर तिलक का शुभ मुहूर्त – दोपहर 01 बजकर 10 मिनट से दोपहर 03 बजकर 18 मिनट तक।
अगर आप इस मुहूर्त में तिलक करने में सक्षम ना हों तो आप अभिजीत मुहूर्त में भी तिलक किया जा सकता हैं। भाई दूज के दिन अभिजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 44 मिनट से 12 बजकर 27 मिनट तक रहेगा।
द्वितीया तिथि प्रारंभ – 16 नवंबर, सोमवार को सुबह 07 बजकर 06 मिनट से
द्वितीया तिथि समाप्त- 17 नवंबर, मंगलवार को सुबह 03 बजकर 56 मिनट तक

भाई दूज पूजा की सामग्री (Bhai Dooj Puja Ki Samagri)
कुमकुम, अक्षत यानी चावल, सूखा नारियल, फूल, फल और मिठाई आदि।

भाई दूज मंत्र (Bhai Dooj Mantra)
गंगा पूजे यमुना को, यमी पूजे यमराज को, सुभद्रा पूजे कृष्ण को, गंगा यमुना नीर बहे मेरे भाई आप बढ़ें, फूले-फलें – अपने भाई को तिलक करते हुए यह मंत्र पढ़ें।

भाई दूज पर तिलक करने की प्राचीन विधि (How to do Tilak on Bhai Dooj)
भाई दूज के दिन बहनें लकड़ी के आसन यानी पीढ़िया अरवा चावल को पीसकर बनाए गए घोल से चौक बनाएं।इसके बाद रोली, चंदन, घी का दीपक, फूल और मिठाई से भाई दूज की थाल सजाएं।

फिर अपने भाई को लकड़ी का आसन यानी पीढ़िया पर भाई को बैठने को कहें। अब भाई अपने हाथों की दोनों हथेलियों को देखें। फिर हथेलियों के बीच में पान, सुपारी और चरखा का सूत आदि रखें।

भाई के दोनों हाथों के अंगूठे पर अरवा चावल के पीसे भोल को लगाकर पानी से भाई के हाथों को धो दें। ऐसा तीन बार करें। इसके बाद भाई के माथे पर तिलक लगाकर लंबी उम्र की कामना करें।

साथ ही भाई पर अक्षत छिड़कें और उनकी गोद में फल और मिठाई रखें। ऐसी परंपरा है कि तिलक करने के बाद भाई अपनी बहन को उपहार देते हैं।

Live Blog

Highlights

    13:54 (IST)16 Nov 2020
    भाई दूज मंगलमय हो

    ईश्वर से प्रार्थना है कि वह आपकी और आपके भाई-बहन की लंबी उम्र करें। आप स्वस्थ रहें। कामयाबी आपके कदम चूमे। आप हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर देश की सेवा करें। देवी यमुना की कृपा से आपको सभी सुखों की प्राप्ति हो।

    13:10 (IST)16 Nov 2020
    भाई दूज पूजा का शुभ मुहूर्त (Bhai Dooj Puja Ka Shubh Muhurat)

    भाई दूज पर तिलक का शुभ मुहूर्त - दोपहर 01 बजकर 10 मिनट से दोपहर 03 बजकर 18 मिनट तक।अगर आप इस मुहूर्त में तिलक करने में सक्षम ना हों तो आप अभिजीत मुहूर्त में भी तिलक किया जा सकता हैं। भाई दूज के दिन अभिजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 44 मिनट से 12 बजकर 27 मिनट तक रहेगा।द्वितीया तिथि प्रारंभ - 16 नवंबर, सोमवार को सुबह 07 बजकर 06 मिनट सेद्वितीया तिथि समाप्त- 17 नवंबर, मंगलवार को सुबह 03 बजकर 56 मिनट तक

    12:46 (IST)16 Nov 2020
    भाई दूज की बधाईयां

    12:05 (IST)16 Nov 2020
    तिलक के बाद जरूर खिलाएं मिठाई...

    भाई दूज के दिन तिलक करने के बाद बहनों को अपने भाई को और भाईयों को अपनी बहनों को मिठाई जरूर खिलानी चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से भाई-बहन के रिश्ते में मिठास बनी रहती है।

    11:37 (IST)16 Nov 2020
    खुशियों की शहनाई आंगन में बजे...

    खुशियों की शहनाई आंगन में बजे,मेरे भाई के द्वार सदा दीपक से सजे,ना हो कोई दुख उसके जीवन में,बस कृपा हो तेरी भगवन सदा जीवन में।।

    11:08 (IST)16 Nov 2020
    भाई दूज की शुभकामनाएं

    ईश्वर से प्रार्थना है कि वह आपकी और आपके भाई-बहन की लंबी उम्र करें। आप स्वस्थ रहें। कामयाबी आपके कदम चूमे। आप हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर देश की सेवा करें। देवी यमुना की कृपा से आपको सभी सुखों की प्राप्ति हो।

    09:53 (IST)16 Nov 2020
    तिलक विधि

    भाई दूज के दिन स्नान कर साफ कपड़े पहनें। फिर अपने भाई के मस्तक पर लाल रंग का कुमकुम लगाएं। साथ ही अक्षत यानी चावल भी लगाएं। कुछ चावल भाई पर छिड़कें। अब अपने भाई को मिठाई खिलाकर उनके हाथ में सूखा नारियल रखें।

    09:07 (IST)16 Nov 2020
    हैप्पी भाई दूज

    08:33 (IST)16 Nov 2020
    भाई दूज तिलक की सामग्री...

    1. कुमकुम
    2. अक्षत
    3. सूखा नारियल
    4. मिठाई
    5. फल
    6. सूखे मेवे

    08:01 (IST)16 Nov 2020
    तिलक के साथ अक्षत का महत्व

    भाई दूज के दिन भाई के मस्तक पर कुमकुम के लाल तिलक के साथ ही अक्षत भी लगाया जाता है। कहते हैं कि भाई के मस्तक पर कुमकुम के साथ अक्षत लगाने से चारों ओर विजय प्राप्त करने का आशीर्वाद प्राप्त होता है और सुख-समृद्धि की प्राप्ति के योग बनते हैं।

    07:32 (IST)16 Nov 2020
    भाई दूज पर ईश्वर से प्रार्थना है कि...

    ईश्वर से प्रार्थना है कि वह आपकी और आपके भाई-बहन की लंबी उम्र करें। आप स्वस्थ रहें। कामयाबी आपके कदम चूमे। आप हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर देश की सेवा करें। देवी यमुना की कृपा से आपको सभी सुखों की प्राप्ति हो।

    07:07 (IST)16 Nov 2020
    मुहूर्त का रखें ध्यान...

    भाई दूज पर तिलक का शुभ मुहूर्त - दोपहर 01 बजकर 10 मिनट से दोपहर 03 बजकर 18 मिनट तक।

    06:32 (IST)16 Nov 2020
    श्रद्धा से करें तिलक...

    भाई दूज के दिन बहनों को श्रद्धा भाव से अपने भाई को तिलक करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि जो बहनें केवल एक परंपरा के तौर पर बिना श्रद्धा के अपने भाईयों को इस दिन तिलक करती हैं उनके भाईयों को इसके शुभ फलों की प्राप्ति होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं।

    06:07 (IST)16 Nov 2020
    भैया-दूूज को लेकर खुशी

    भैया-दूज त्‍योहार को लेकर बहनेंं काफी उत्‍सुक दिखीं। बहन अपने भाई के घर जाने के लिए पहले से ही तैयारी में लग गई थी। भैया-दूज त्‍योहार का असर बाजार में भी देखने को मिला। अन्‍य दिनों के मुकाबले बाजार गुलजार नजर आए।

    04:10 (IST)16 Nov 2020
    बस कृपा हो तेरी भगवन सदा जीवन में

    खुशियों की शहनाई आंगन में बजे,मेरे भाई के द्वार सदा दीपक से सजे,ना हो कोई दुख उसके जीवन में,बस कृपा हो तेरी भगवन सदा जीवन में।।भाई दूज की शुभकामनाएं  

    04:00 (IST)16 Nov 2020
    मिले मेरे भाई को खुशियां हजार

    बहन चाहे भाई का प्यारनहीं चाहिए महंगा उपहाररिश्ता अटूट रहे सदियों तकमिले मेरे भाई को खुशियां हजारभाई दूज की शुभकामनाएं।

    03:15 (IST)16 Nov 2020
    लड़ने खड़ी हैं तेरी बहन सबसे

    थाल सजाकर कर बैठी हूं अंगनातू आजा अब इंतजार नहीं करनामत डर अब तू इस दुनियां सेलड़ने खड़ी हैं तेरी बहन सबसे।।भाई दूज की शुभकामनाएं

    00:43 (IST)16 Nov 2020
    जिंदगी खुशियों से भरी हो

    दिल की यह कामना है,कि आपकी जिंदगी खुशियों से भरी हो,कामयाबी आपके कदम चूमे,और हमारा यह बंधन सदा ही प्यार से भरा रहे।।भाई दूज की शुभकामनाएं

    23:05 (IST)15 Nov 2020
    भाई के माथे पर बहन के आशीष का सजेगा तिलक

    भाई के माथे पर बहन के आशीष का सजेगा तिलक बहनें देंगी उपहार, घर-परिवार में होगा मंगल ही मंगल 

    22:56 (IST)15 Nov 2020
    भाई दूज की शुभकामनाएं

    भाई दूज की बधाईखुशियां हों आपके घर आईदूर हो आपसे गमों की परछाईभाई दूज की लाख-लाख बधाई

    21:34 (IST)15 Nov 2020
    समृद्धि हमेशा बनी रहे...

    भाई दूज के शुभ अवसर पर

    आपके लिए ढेर सारी शुभकामनाएं,

    आपके जीवन में सुख-शांति और

    समृद्धि हमेशा बनी रहे

    21:06 (IST)15 Nov 2020
    भाई दूज की बधाईयां...

    20:37 (IST)15 Nov 2020
    भाई दूज का महत्व

    भाई दूज को लेकर यह मान्यता प्रचलित है, कि इस दिन भाई को तिलक लगाकर प्रेमपूर्वक भोजन कराने से परस्पर तो प्रेम बढ़ता ही है, भाई की उम्र भी लंबी होती है। चूंकि इस दिन यमुना जी ने अपने भाई यमराज से वचन लिया था, उसके अनुसार भाई दूज मनाने से यमराज के भय से मुक्ति मिलती है और भाई की उम्र व बहन के सौभाग्य में वृद्धि होती है।

    19:52 (IST)15 Nov 2020
    भैया दूज की शुभकामनाएं

    बहन भाई का करे दुलार,

    उसे चाहिए बस भाई का प्यार,

    नहीं करती कोई बड़ी चाहत ,

    बस भाई को मिले खुशिया अथाहभैया दूज की शुभकामनाएं

    19:33 (IST)15 Nov 2020
    हैप्पी भाई दूज

    19:13 (IST)15 Nov 2020
    खुशहाली की कामना....

    रक्षाबंधन की तरह से त्योहार भी भाई-बहन के लिए बेहद खास होता है। भाईदूज पर बहनें भाइयों के माथे पर तिलक लगाती है और सुख-समृद्धि व खुशहाली की कामना करती हैं।

    18:07 (IST)15 Nov 2020
    क्यों खास है भाई दूज

    बताया जाता है कि प्राचीन काल में इसी दिन यमराज अपनी बहन यमुना के घर आए थे और प्रसन्न होकर अपनी बहन को वरदान दिया था। तब से ही इस दिन को खास माना जाने लगा।

    17:17 (IST)15 Nov 2020
    तिलक का शुभ मुहूर्त

    भाईदूज का पर्व कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। भाई दूज का टीका शुभ मुर्हूत दिन 12:56 से 03:06 तक है। 

    16:25 (IST)15 Nov 2020
    नरक से मिल सकती है मुक्ति...

    ऐसी मान्यता है कि भाई दूज के दिन यमुना नदी के स्नान करने से नरक से मुक्ति पाई जा सकती है। इसलिए इस दिन को यम द्वितीया भी कहा जाता है।

    15:42 (IST)15 Nov 2020
    जानें अक्षत लगाने का महत्व...

    भाई दूज के दिन भाई के मस्तक पर कुमकुम के लाल तिलक के साथ ही अक्षत भी लगाया जाता है। कहते हैं कि भाई के मस्तक पर कुमकुम के साथ अक्षत लगाने से चारों ओर विजय प्राप्त करने का आशीर्वाद प्राप्त होता है और सुख-समृद्धि की प्राप्ति के योग बनते हैं।

    15:09 (IST)15 Nov 2020
    शुभ मुहूर्त में करना चाहिए तिलक...

    बताया जाता है कि भाई दूज के दिन अपने भाई को तिलक करने के लिए सभी बहनों को शुभ मुहूर्त में तिलक करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि शुभ मुहूर्त में तिलक करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है।

    14:35 (IST)15 Nov 2020
    यमुना में लगाई जाती है डुबकी

    इस दिन यमुना में डुबकी लगाने की परंपरा है. यमुना में स्नान करने का बड़ा ही महत्व इस दिन बताया गया है। भाईदूज- यम द्वितीया को यमुना नदी या यमुना का स्मरण कर स्नान करना चाहिए।

    14:08 (IST)15 Nov 2020
    क्या है मान्यता

    भाई दूज को लेकर यह मान्यता प्रचलित है, कि इस दिन भाई को तिलक लगाकर प्रेमपूर्वक भोजन कराने से परस्पर तो प्रेम बढ़ता ही है, भाई की उम्र भी लंबी होती है। चूंकि इस दिन यमुना जी ने अपने भाई यमराज से वचन लिया था, उसके अनुसार भाई दूज मनाने से यमराज के भय से मुक्ति मिलती है, और भाई की उम्र व बहन के सौभाग्य में वृद्धि होती है।

    13:42 (IST)15 Nov 2020
    भगवान चित्रगुप्त की होती है पूजा

    इसी दिन पूरे जगत का लेखाजोखा रखने वाले भगवान चित्रगुप्त की जयंती भी मनाई जाती है। चित्रगुप्त पूजा के दौरान कलम दवात की पूजा होगी।

    12:58 (IST)15 Nov 2020
    भाई दूज में यमुना नदी का महत्व

    इस दिन यमुना में डुबकी लगाने की परंपरा है। यमुना में स्नान करने का बड़ा ही महत्व इस दिन बताया गया है। 

    12:32 (IST)15 Nov 2020
    सुख-समृद्धि की करती हैं कामना

    रक्षाबंधन की तरह से त्योहार भी भाई-बहन के लिए बेहद खास होता है। भाईदूज पर बहनें भाइयों के माथे पर तिलक लगाती है और सुख-समृद्धि व खुशहाली की कामना करती हैं।

    11:52 (IST)15 Nov 2020
    कैसे मनाते हैं भाई दूज का त्योहार

    भाई दूज का पर्व दीपावली के तीसरे दिन मनाया जाता है। इस दिन वि‍वाहिता बहनें भाई बहन अपने भाई को भोजन के लिए अपने घर पर आमंत्रित करती है, और गोबर से भाई दूज परिवार का निर्माण कर, उसका पूजन अर्चन कर भाई को प्रेम पूर्वक भोजन कराती है। बहन अपने भाई को तिलक लगाकर, उपहार देकर उसकी लंबी उम्र की कामना करती है। भाई दूर से जुड़ी कुछ मान्यताएं हैं जिनके आधार पर अलग-अलग क्षेत्रों में इसे अलग-अलग तरह ये मनाया जाता है।

    11:32 (IST)15 Nov 2020
    ये है शुभ मुहूर्त

    भाईदूज का पर्व कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। भाई दूज का टीका शुभ मुर्हूत दिन 12:56 से 03:06 तक है। 

    11:19 (IST)15 Nov 2020
    दीपोत्सव का होता है समापन

    उल्लास के पर्व दीपावली के तीसरे दिन भाई-बहन के प्यार के प्रतीक भाईदूज मनाया जाएगा। 16 नवंबर को पड़ने वाले भाई दूज के साथ ही दीपोत्सव का समापन हो जाता है।

    Next Stories
    1 Govardhan Puja 2020 Puja Vidhi, Muhurat Timings: इस पारंपरिक विधि के साथ करें गोवर्धन पूजा, यहां जानें सही विधि, सामग्री, शुभ मुहूर्त और मंत्र
    2 Bhai Dooj 2020 Date, Puja Timings: शुभ मुहूर्त में भाई को तिलक करने से सुख-समृद्धि में वृद्धि की है मान्यता, जानें भाई दूज के शुभ मुहूरत्
    3 आज का पंचांग, 15 नवंबर 2020: आज बनेगा अभिजीत मुहूर्त, जानिये गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त और राहु काल का समय
    ये पढ़ा क्या?
    X