scorecardresearch

Basant Panchami (Saraswati Puja) 2021 Date, Puja Vidhi, Muhurat: ऋतुओं के राजा बसंत का हुआ आगमन, इस तरह करें देवी सरस्वती की अराधना

Basant Panchami (Saraswati Puja) 2021 Date, Puja Vidhi, Muhurat, Samagri, Mantra: हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा

Basant Panchami (Saraswati Puja) 2021 Date, Puja Vidhi, Muhurat: ऋतुओं के राजा बसंत का हुआ आगमन, इस तरह करें देवी सरस्वती की अराधना
Basant Panchami 2021 Puja Vidhi: कई जगह पर इस दिन शिक्षण संस्थानों में सरस्वती देवी की पूजा होती है

Basant Panchami (Saraswati Puja) 2021 Date, Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Samagri, Mantra: 16 फरवरी को देश के विभिन्न जगहों पर बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जा रहा है। कहते हैं कि विद्या की देवी सरस्वती का जन्म इसी दिन हुआ था। बसंत पंचमी के साथ ही बसंत ऋतु का आगमन भी होता है। इस दिन से मौसम में सुहाना बदलाव आने लगता है। न ज्यादा ठंड होती है और न ही अधिक गर्मी। ये त्योहार प्रत्येक साल माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। कई जगह पर इस दिन शिक्षण संस्थानों में सरस्वती देवी की पूजा होती है। वहीं कुछ जगहों पर इस दिन पतंगबाजी भी की जाती है।

पंचमी तिथि का मुहूर्त: हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी।

किस तरह करें पूजा: इस दिन प्रातः स्नानादि के पश्चात सफेद या फिर पीले वस्त्र पहनकर सबसे पहले पूरे विधि-विधान से कलश स्थापित करें। फिर चन्दन , सफेद वस्त्र , फूल , दही-मक्खन , सफ़ेद तिल का लड्डू , अक्षत , घृत , नारियल और इसका जल , श्रीफल , बेर इत्यादि अर्पित करें। मां सरस्वती के साथ ही इस दिन भगवान गणेश, शिवजी, विष्णु भगवान और कामदेव की पूजा करने का भी विधान है।

इस कथा का करें पाठ: सरस्वती पूजा की प्रचलित पौराणिक कथा के मुताबिक संसार की रचना के समय भगवान विष्णु की आज्ञा पाकर ब्रह्मा जी ने अन्य जीवों समेत मनुष्य की भी रचना की थी। कहते हैं कि ब्रह्मा जी इससे संतुष्ट नहीं थे, उन्हें ऐसा लग रहा था मानो कुछ कमी रह गई है जिससे चारों ओर शांति का वातावरण है। इसके उपरांत ब्रह्मा जी ने भगवान विष्णु से अनुमति लेकर अपने कमंडल से जल का छिड़काव किया।

ऐसा करते ही पृथ्वी पर कंपन होने लगी। फिर पेड़ों के बीच से एक देवी प्रकट हुई, उनके एक हाथ में वीणा और दूसरा हाथ वर मुद्रा में था। जबकि बाकी दोनों हाथों में पुस्तक और मोतियों की माला थी। उन्हें देखकर ब्रह्मा जी ने उनसे वीणा बजाने का अनुरोध किया। जैसे ही देवी ने वीणा बजाना शुरू किया, पूरे संसार के सभी प्राणियों में बोलने की क्षमता का विकास हुआ।

समुद्र कोलाहल करने लगा, हवा में सरसराहट होने लगी। यह सब देखकर ब्रह्मा जी ने देवी को वाणी की देवी का नाम दिया। इसके बाद से ही सरस्वती को वीणावादिनी, वाग्देवी, बगीश्वरी के अन्य नामों से पूजा जाता है।

Live Blog

13:20 (IST)16 Feb 2021
दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां…

बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए.

12:32 (IST)16 Feb 2021
मां सरस्वती के मंत्र…

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। 
या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥

12:00 (IST)16 Feb 2021
क्यों होती है कामदेव की पूजा…

पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं।

11:21 (IST)16 Feb 2021
जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त…

16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है।

10:45 (IST)16 Feb 2021
इस तरह करें देवी की पूजा…

इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा।

10:15 (IST)16 Feb 2021
इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन…

इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी.

09:59 (IST)16 Feb 2021
छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत

ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है.

09:36 (IST)16 Feb 2021
बसंत की विशेषताएं…

माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है

09:11 (IST)16 Feb 2021
कई शुभ संयोग बनेंगे

आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा। 

08:28 (IST)16 Feb 2021
इन नामों से जाना जाता है…

कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है

07:59 (IST)16 Feb 2021
जानें पूजा का शुभ मुहूर्त…

हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी।

07:33 (IST)16 Feb 2021
नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन…

बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

07:09 (IST)16 Feb 2021
मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद…

मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है

05:08 (IST)16 Feb 2021
संयम सत्य स्नेह का वर दे…

सहस शील हृदय में भर दे,

जीवन त्याग से भर दे,

संयम सत्य स्नेह का वर दे,

माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे

03:01 (IST)16 Feb 2021
वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में …

वीणा लेकर हाथ में,

सरस्वती हो आपके साथ में,

मिले मां का आशीर्वाद आपको

हर दिन, हर वार,

हो मुबारक आपको

वसंत पंचमी का त्योहार…

.

20:51 (IST)15 Feb 2021
बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े

बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है।

19:41 (IST)15 Feb 2021
कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान

बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा।

18:46 (IST)15 Feb 2021
दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम

जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है।

17:57 (IST)15 Feb 2021
ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती

माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए।

17:29 (IST)15 Feb 2021
पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय…

मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है

16:57 (IST)15 Feb 2021
जानें इस दिन का खास महत्व….

ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है.

16:33 (IST)15 Feb 2021
जानें पौराणिक कथा…

पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी।

15:57 (IST)15 Feb 2021
क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता…

इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए।

15:40 (IST)15 Feb 2021
जान लें पूजा विधि…

इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा।

15:21 (IST)15 Feb 2021
नए कार्य के शुरुआत का दिन…

बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 15-02-2021 at 15:02 IST

युगलों के बीच की गलतफहमियां अपने आप दूर होकर शांतिपूर्ण संबध लौटेंगे। आपके लिए लंबी यात्रा के योग हो सकते हैं। इस यात्रा से आपको कुछ समय के लिए अपने परिवार से दूर रहना पड़ सकता है। नए उपक्रम की योजना बना रहे व्यापारियों को चाहिए कि आज काम का शुभारंभ अवश्य करें और इस… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

विवाहित युगल आज अत्यधिक सामीप्य का अनुभव करेंगे और प्रेम और सद्भावनापूर्ण संबंधों का आनंद लेंगे खोजकर्ताओं का एक समूह आपको उनकी यात्रा में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर सकता है। यह आपके लिए किसी सपने के पुरे होने जैसा होगा। आप हमेशा से ही पर्यटन के माध्यम से ज्ञान प्राप्त करने के इच्छुक… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

अविवाहित व्यक्तियों को चाहिए कि अपने मित्रों को पार्टियों और समारोहों में हिस्सा लें, जिससे संभावित प्रेमी से भेंट हो सके। अगर परिवार के साथ बाहर सैर सपाटे पर जाने की योजना बना रहे हैं तो आज दिन अच्छा है। स्वास्थ्य सेवाकर्मी और डॉक्टर आज अपने व्यवसाय के चरम शिखर पर होंगे। राजनेताओं को आज… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

आज कामकाज के संबंध में किसी से भेट हो सकती है जिससे मिलकर आप उसकी ओर आकर्षित हो सकते हैं। परिवार के वयस्क आज बहुत ऊर्जावान महसूस करेंगे। वे दूसरे सदस्यों के साथ भी मिलजुल कर आनंद मग्न रहेंगे। घर में छोटी-मोटी समस्याएं हो सकती हैं जिसके कारण आपको पहले से तय कोई सैर या… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वयस्कों के अनुभव और मार्गदर्शन से घर के सभी सदस्यों को लाभ होगा। बच्चों को अपने बुजुर्गों से व्यवहार करते समय मर्यादा में रहना चाहिए। उनका बचपना वयस्कों को दुखी कर सकता है। विद्यार्थियों के लिए अच्छा दिन है। वे बौद्धिक विषयों पर दोस्तों के साथ पूरे आत्मविश्वास के साथ प्रतिस्पर्धा करेंगे। जो लोग एक… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

अविवाहितों के पालक उनके लिए योग्य सम्बंध के लिए प्रयत्न करेंगे। कोई अप्रत्याशित व्यावसायिक यात्रा आपके कार्यक्रम को उथल पुथल कर सकती है। लेकिन इस यात्रा के परिणाम आपके लिए फायदेमंद होंगे। अपने मकान निर्माण की योजना बना रहे लोगों के लिए आज शुभ दिन होगा। शेयर बाजार के मधास्था और प्रतिस्पर्धियों को आज अत्यधिक… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

आज किसी प्रियजन के बारे में दुखद समाचार सुनने मिल सकता हैं, आपकी उपस्थिति और सहायता से उन्हें बहुत सांत्वना मिलेगी यदि आप अविवाहित है तो आज किसी भी नए व्यक्ति से मिलते समय सावधान रहें। धन रखें की हर चमकती सोना नहीं होती। आज आप अपनी यात्रा के दौरान किसी अविस्मरणीय व्यक्ति से मिल… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

एकाकी जन आज किसी से मिलेंगे जो उनके जीवन में नए सकारात्मक बदलाव लाएगा। छात्रों के लिए आज अनुकूल दिन नहीं हैं। वे अपने दोस्तों के साथ बहस कर समय बर्बाद कर सकते हैं। आज खिलाड़ियों को अपने-अपने क्षेत्र में उपलब्धियों के लिए पुरस्कार मिलने की संभावना बताई जाती है। उन्हें आज जीवनगौरव पुरस्कार भी… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

आज आप अपने पुराने रिश्ते को सुधारने की दिशा में क़दम उठाएंगे। ठंडी हवा और शीत पेय आदि से प्रभावित होने वाले बच्चों को इन चीजों से दूर रखें। मौसम के कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। जो लोग काम की तलाश में हैं उन्हें संकोच और शर्म छोड़ कर निशंक होकर दूसरों से मदत… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

उत्सव के माहौल के रूप में परिवारों के लिए एक अच्छा दिन आता है और बहुत खुशीयां लाता है। शिक्षक और विद्यार्थी जो शैक्षणिक यात्रा पर जा रहे हों, उन्हें बहुत सजग रहने की आवश्यकता है। छोटी मोटी दुर्घटनाओं की संभावना है। जंगल, नदी, पहाड़ों से गुजरते समय सावधान रहें। आपकी व्यावसायिक नीतियाँ, कुशलता और… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

अविवाहितों को किसी अनापेक्षित मार्ग से आज विवाह के प्रस्ताव मिल सकते हैं। बाहर मनोरंजन हेतु जाने का कार्यक्रम किसी अनापेक्षित कारण से स्थगित करना पड़ेगा, जिससे सभी को निराशा होगी। शिक्षकों के लिए आज शिक्षा के सन्दर्भ में चुनौती भरा दिन होगा। विद्यार्थियों की समस्याओं के समाधान से उनके अध्यापन कौशल्य की परीक्षा होगी।… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

अविवाहित जन आज किसी आकर्षक व्यक्ति से मिल सकते हैं, पर उन्हें सलाह है कि कोई भी प्रतिबद्धता या समर्पण व्यक्त करने से पहले अच्छी तरह सोच समझ लें। आज बाजार का उतार चढ़ाव निवेशकों को अनापेक्षित मुनाफा दिलाएगा। वे वास्तव में बहुत बड़ा लाभ पा सकते हैं यदि सोच समझ कर निवेश करें। व्यवहार-कुशल… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

आप आज महमानों को अपने घर आमंत्रित करेंगे और आदर्श मेजबान होंगे। आप सभी आमंत्रित लोगों से मेलजोल बढ़ाएंगे, अपने बारे में बताएँगे, साथ ही उन्हें भी अपने परिवार के बारे में बात करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।कलाकार किसी नए रचनात्मक कलाकृति को शुरू करने के लिए अपनी कलात्मकता और प्रवृत्ति का उपयोग करेंगे।सरकारी परियोजनाओं… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

आपके प्रणय को अंततः आज आपके माता-पिता की औपचारिक मंजूरी मिल जाएगी।उच्च शिक्षा के लिए बाहर जाने की इच्छा रखने वाले बच्चे आपकी सलाह के लिए आपसे संपर्क करेंगे जिससे आपको बहुत खुशी और गर्व होगा।छात्र आज अपनी जरूरी परियोजनाओं को करने में निष्क्रिय हो सकते हैं। जो लोग तकनीकी जाँच में हैं, वे भी… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

मामूली बीमारी से ग्रस्त बच्चों को आज बिस्तर पर पड़े रहना होगा, जिससे खेलकूद ना कर सकने के कारण निराशा होगी।अपने हिस्सेदार पर अंधा विश्वास अनावश्यक आर्थिक नुकसान का कारण हो सकता है। उस पर विश्वास रखें पर सारी बातें उस पर ना छोड़ें। उनकी गतिविधियों पर ध्यान दें।आज वयस्क स्वजनों को स्वास्थ्य जाँच के… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

व्यापारी के लिए आज का दिन अच्छा है। आज आप ग्राहकों, सहयोगियों और अधिकारियों से भेंट और वार्तालाप कर सकते है।अपने आर्थिक मामलों में सावधान रहें और भविष्य में सारे आर्थिक काम और अर्थ संकल्प बनाकर उसका पालन करें।जो लोग अचल संपत्ति के व्यवसाय में हैं, उनके नए सौदों में अनावश्यक देरी होने की संभावना… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

लेखपालों के लिए आज अच्छा दिन है। वे आज ख्याति प्राप्त कर सकते हैं।संभवता छात्र आज आयोजित शैक्षणिक दौरे में भाग नहीं ले पाएंगे। विद्यार्थी आज शिक्षकों के पास आत्मीयता की अपेक्षा लेकर आयेंगे। उन्हें शिक्षकों की ओर से प्रशंसा और अपनापन मिलेगा।अपने नये रिश्ते को बढ़ने और परिपक्व होने के लिए थोडा और समय… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

बच्चे आज खुद को क्षतिग्रस्त कर सकते हैं। उनको मामूली खरोंच या चोट हुई, तब भी पूरा परिवार परेशान हो जायेगा।तकनीकी विषयों का अध्ययन करने वाले छात्रों के लिए एक कठिन दिन हैं। उन्हें अध्ययन करने में समर्थ होने के लिए शांतिपूर्ण वातावरण की आवश्यकता है।कलाकार आज स्वयं को शारीरिक रूप से अस्वस्थ अनुभव करेंगे… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

पक्ष के वरिष्ठ नेता उन राजनीतिज्ञों के प्रति उदासीन रहेंगे जो सफलता के लिये जी जान से प्रयत्न कर रहे हैं। स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के लिए सारा दिन कुछ समस्याएं सामने आ सकती हैं। ये उनके लिए थका देने वाला दिन होगा। तथापि वे इन समस्याओं से छुटकारा पा लेंगे।वरिष्ठ वकील आज अपने उच्चाधिकारियों द्वारा… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

तकनीकी दृष्टि से योग्य पेशेवर आज अपने कार्यक्षेत्र में ऊँचे आयाम हासिल करेंगे। कार्यक्षेत्र के नए क्षितिज का विस्तार करने के योग है।बच्चे आज घर के छोटे मोटे कामों में मदत करके बहुत सहायक साबित होंगे। आज शाम के लिए यदि आयोजित कार्यक्रम हो तो उत्सव मस्ती और आनंद से भरा हुआ होगा। आज का… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वयस्कों से अपनी किसी भी समस्या के लिए सलाह लीजिये। इससे आपको उनके अनुभव से लाभ होगा और उन्हें भी प्रसन्नता होगी।आप खुद को अस्वस्थ महसूस कर सकते है। इस दशा में आप किसी से भी सम्पर्क ना करके अकेले ही रहना पसंद करेंगे।लेखापालों को चाहिये कि किसी विशेष प्रकल्प के सिलसिले में किसी विशेषज्ञ… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

आज अपने खान पान का विशेष ध्यान रखें। किसी विषैली वस्तु के सेवन या पेटदर्द की संभावना है। भोजन प्रमाणबद्ध और पौष्टिक हो, इसका ध्यान रखें।जो लोग अचल संपत्ति के व्यवसाय में हैं उनका आज का दिन बहुत व्यस्त रहने की संभावना है। अनेक फोन, ग्राहकों से संपर्क होंगे और उनके सौदा तथा व्यवहार पूर्ण… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

लंबी बीमारी से पीड़ित शय्या ग्रस्त मरीज उचित दवा और देखभाल से जल्द ही ठीक हो जाएंगे। अपने प्रिय के साथ झगड़े से आज आप बहुत उदास रहेंगे। समझ बूझ कर समझौता कर लेना चाहिए।दोस्तों या सहपाठियों के साथ बात करते समय छात्रों को सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। गलतफहमी होने की संभावना… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

जमीन-जायदाद के जुड़े कारोबारियों के लिए आज दिन अनुकूल रहेगा। आज काम की बहुत व्यस्तता रहेगी।बच्चों की शिक्षा आज परिवार के लिए विचार का विषय होगी।वकील गण आज अपने विवेक से निर्णय लेंगे और ये सफल निर्णय उन्हें सह-कर्मियों और वरिष्ठों से प्रशंसा दिलाएंगे।नई नौकरी के परिणाम के लिए प्रतीक्षा कर रहे खिलाड़ियों को आज… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

इस महीने मेष राशि के सीमा दलों से जुड़ें जातकों को चाहिए कि वह स्वयं को संयमित रखकर अपनी ओर से किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार रहें। यह मास बुद्धिजीवियों वकीलों लेखकों और न्याय क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए बहुत सफल और सार्थक सिद्ध हो सकता है। जातक अपने अपने… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वृषभ राशि के जातकों के लिए जनवरी 2023 यह माह मिश्र फल देने वाला रहेगा, फिर भी शुभशुभ फल अधिक मिलेंगे। राजनीतिक पदों पर आसीन उच्चाधिकारी और सेना के मंत्रीगण और अन्य अधिकारी इस माह बहुत अधिक प्रवास और यात्राएं करने से थकान का अनुभव कर सकते हैं। उन्हें प्रशासन और अन्य कामो के सिलसिले… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

जनवरी महिना मिथुन जातकों के लिए ग्रहों के अच्छे फलों के कारण अत्यंत शुभ फलदाई और संतोषजनक सिद्ध होगा. जातकों को चाहिए कि वे संबंधी शारीरिक विकारों से सतर्क रहें और आहार-विहार पर विशेष रुप से ध्यान देकर अनावश्यक व्याधियों से बचने का प्रयत्न करें. शिक्षाविदों को और विद्यार्थी युवको को इस माह शिष्यवृत्ती और… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वर्ष 2023 का आरंभ कर्क जातकों के लिए अत्यंत सुखद और शुभ फल प्रद सिद्ध होने वाला है. ग्रहों के स्वामी सूर्य की कृपा दृष्टि से कर्क जातकों को हर ओर से विजय, समृद्धि और हर दिशा में सफलता प्राप्त होने के शुभ योग दिखाई देते हैं. जनवरी का पूर्वार्ध अत्यंत व्यस्तता से भरा और… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

सिंह जातकों के लिए यह माह अत्यंत फलदायी सिद्ध होगा। प्रजा, राज्य तथा उच्चाधिकारियों, शासन प्रशासन की ओर से कई प्रकार की सुविधाएं प्राप्त कर सकती हैं। यह मास विशेष रुप से सर्वोच्च श्रेणी के नेतागण, राज निक और उच्चाधिकारियों के लिए बहुत अधिक सुख और आनंद प्रदान करने वाला सिद्ध होगा। विवाह इच्छुक युवा… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

कन्या जातक राजनेता, उच्च पदाधिकारी, लोकनायक, शासक वर्ग माह के पूर्वार्द्ध में अच्छे निर्णय और जनहित की नीतियों और उनके उचित व्यवस्था के कारण अपनी छवि सुधारने में सफल होंगे और विरोधियों और जन-सामान्य के विरोध पर विजय प्राप्त करेंगे। कृषि, पशुपालन, दुग्ध-व्यवसाय विशेष रूप से पशु, कुक्कुटखाद्य के उद्योग और व्यवसाय कठिन समय से… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

इस माह तुला जातकों को शुभ ग्रहों की स्थिति से बहुत सुख और सफलता प्राप्त होगी और जीवन सहायक सिद्ध होगी। वैसे तो पूरा माह धन लाभ का आनंद और खुशियों भरा रहेगा, परंतु महीने के अंतिम पक्ष में थोड़े खर्च बढ़ सकते है। इस माह राजनीतिक प्रशासन, शासन, वकालत, प्रचार माध्यम शिक्षा और कृषि… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वृश्चिक राशि के लिए यह माह मिश्र फल देने वाला पर कुछ चुनौतियों भरा भी होगा। इस महीने शासनकर्मी उद्विग्न और चिंताग्रस्त रहेंगे, विरोध आदि राजनीतिक अस्थिरताओं के कारण मानसिक तनाव रहेगा। जन सामान्य के विरोध का शासक वर्ग को सामना करना पड़ सकता है। सेना, सीमा सुरक्षा दल, पुलिस दल आदि भी तनाव में… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

जनवरी माह धनु जातकों के लिए बहुत अधिक आनंददायी और सुख संपन्नता भरा सिद्ध हो सकता है। महीने का प्रथम पूर्वार्ध जन साधारण और मध्यमवर्गीय जातकों के लिए बहुत अधिक धनार्जन, शासन, प्रशासन से सहायता या कानूनी समस्याओं से मुक्ति पाने वाला होगा और कुछ मामलों में माह के मध्य में दीर्घ समय से चलने… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

जनवरी माह में मकर राशि के जातक मिले जुले फलों का अनुभव करेंगे। माह के पूर्वार्ध में जो मानसिक तनाव जातक अनुभव करेंगे, वह 15 तारीख के बाद निरस्त होगा उपरांत पूरा महीना शुभ ग्रहों की कृपा से सुख और आनंदपूर्वक बीतेगा। प्रेमी युगल, विवाहित दंपत्ति, इस काल में अविवाहितों को सुयोग्य जीवन साथी की… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

कुंभ जातकों के लिए यह माह अत्यंत चुनौतीपूर्ण और कठिनाइयों भरा रहेगा। इस माह व्यापारी, स्वकर्मी, अधिकारी, राजनेता आदि जातकों को प्रचंड जन-विरोध और असंतोष का सामना करना पड़ सकता है। प्रशासन, सुरक्षादल, सेना, पुलिस और अन्य जातक इस माह परेशान रहेंगे और साथ में गृहस्थी से संबंधित समस्याओं से घिरे रहेंगे। परिवारजन के स्वास्थ्य… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

यह नववर्ष का जनवरी माह मीन जातकों के लिए शुभ फल देने वाला माह सिद्ध होगा। जल थल सेना तथा इन क्षेत्र से संबंधित जातक कुछ तनाव का सामना कर सकते है। राजनीतिक, बड़े उद्योग, प्रशासन, उच्च शिक्षाइन सब के लिए निश्चित रूप से बहुत ही अच्छा समय होगा। पहले से संपन्न जातकों को कई… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वर्ष 2023 मेष जातकों के लिए मिश्र फल लेकर आ रहा है। इस वर्ष मेष जातकों के जीवन के कई नए आयाम उजागर होंगे, उन्हें व्यावसायिक और आर्थिक क्षेत्र में काफी सफलता और धनार्जन होने की संभावना है। विगतवर्ष की कई कठिनाइयां और आपदाओं से इस वर्ष जातक मुक्त हो जाएंगे। राजनीति-प्रशासन से जुड़े मेष… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वृषभ राशि के जातकों के लिए वर्ष 2023 अत्यंत ही शुभ और विकासक सिद्ध होगा। इस वर्ष वृषभ जातकों पर शनि की कृपा से बहुत योगकारक स्थितियां उत्पन्न हो रही हैं। खनिज व्यवसाय के लिए तो यह वर्ष अधिक समृद्धि और विकास को लेकर आ रहा है। इस वर्ष शनि के अतिरिक्त अन्य ग्रहों की… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

वर्ष 2023 मिथुन जातकों के लिए अत्यंत शुभ और यशवर्धक सिद्ध होने के योग है। भावी ग्रह स्थिति और ग्रह योगों के अनुसार जातक सफलता और यश संपादन करेंगे। उन्हें जीवन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में विगत वर्ष की तरह कठिनाइयों से नहीं जूझना पड़ेगा। विद्यार्थी वर्ग इस वर्ष कई सफलताओं को अर्जित कर प्रगति की… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

कर्क राशि के जातकों के लिए वर्ष 2023 वैसे तो शुभ रहेगा, परंतु वर्ष के शुरुआत में जीवनसाथी के स्वास्थ्य में परेशानी, कार्यो में रुकावट, असामाजिक लोगों के संग से भारी परेशानी, कार्य में हानि की आशंका है। पारिवारिक मामलों के वर्ष के कुछ महीने तनावपूर्ण और मानसिक कष्ट देने वाले हो सकते हैं। अप्रैल… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

सिंह राशि के जातकों के लिए सन 2023 इच्छित मनोकामना को पूर्ण करने वाला, यात्रा, घर परिवार, धर्म अध्यात्म विषयों में शुभकारी सिद्ध होने की पूरी संभावना है। घर परिवार में कई सकारात्मक परिवर्तन होने के योग हैं इस वर्ष आप कई धार्मिक और आध्यात्मिक आयोजनों में सहभागी होकर धर्म क्षेत्र में काफी अच्छा स्थान… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

कन्या राशि के जातकों को सन 2023 में बहुत सतर्क रहकर अपने कार्य करने की आवश्यकता है। इस वर्ष आपके प्रयासों में कमी के कारण आपके कार्यों में कई कठिनाइयां उत्पन्न हो सकती हैं। नौकरीपेशा हैं तो आपकी स्थान परिवर्तन की और उन्नति की राह में कई अड़चनें आने की संभावनाएं प्रबल हैं फिर भी… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक्ति को शुभ समाचार एवं फल की प्राप्ति होती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन, षोडशोपचार पूजा करना विशेष रूप से वैवाहिक जीवन के लिए सुखदायक माना गया है. 16:33 (IST)15 Feb 2021 जानें पौराणिक कथा… पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी। 15:57 (IST)15 Feb 2021 क्या चढ़ावा चढ़ाने की है मान्यता… इस दिन पूजा के दौरान मां सरस्वती को पीले या सफेद पुष्प जरूर अर्पित करने चाहिए। प्रसाद में मिसरी, दही व लावा आदि का प्रयोग करना चाहिए। 15:40 (IST)15 Feb 2021 जान लें पूजा विधि… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 15:21 (IST)15 Feb 2021 नए कार्य के शुरुआत का दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है।

तुला राशि के लिए वर्ष 2023 अनुकूल रहेगा। वर्ष की शुरुआत में ग्रहों के शुभाशुभ योग भौतिक सुख-सुविधाओं के साथ यात्रा के अवसर देंगे। इस वर्ष तुला जातकों को शनि की साडेसाती से मुक्ति मिलेगी और गत सभी समस्याओं से मुक्ति का अनुभव होगा, मानसिक समाधान मिलेगा। नौकरीपेशा लोगों को तरक्की मिलेगी, कुछ जातक अपना… Live Blog Highlights 13:20 (IST)16 Feb 2021 दूर होती हैं शिक्षा संबंधी परेशानियां… बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए. 12:32 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती के मंत्र… या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥ 12:00 (IST)16 Feb 2021 क्यों होती है कामदेव की पूजा… पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक बसंत पंचमी को कामदेव पत्नी रति के साथ धरती पर आकर हर तरफ प्रेम का संचार करते हैं। 11:21 (IST)16 Feb 2021 जल्द शुरू होने वाला है सबसे अच्छा मुहूर्त… 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस दिन 11.30 से 12.30 के बीच अच्छा मुहूर्त है। 10:45 (IST)16 Feb 2021 इस तरह करें देवी की पूजा… इस दिन केवल घरों में ही नहीं, शिक्षण संस्थानों में भी मां सरस्वती की पूजा आयोजित की जाती है। सुबह जल्दी उठकर नहा-धो लें और पूजा घर की साफ-सफाई करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें और उन्हें पुष्प अर्पित करें। उनके मंत्रों का जाप करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करना बेहतर होगा। 10:15 (IST)16 Feb 2021 इतने शुभ संयोगों से खास बन रहा है दिन… इस बार बसंत पंचमी के मौके पर रवि योग और अमृत सिद्धि योग का खास संयोग बन रहा है. पूरे दिन रवि योग रहने के कारण इसका महत्व और बढ़ गया है. सुबह 6 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस मुहुर्त में पूजा करने से अधिक लाभ की प्रप्ती होगी. 09:59 (IST)16 Feb 2021 छोटे बच्चे इस दिन से करते हैं अपनी शिक्षा की शुरुआत ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है. बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है. इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है. 09:36 (IST)16 Feb 2021 बसंत की विशेषताएं… माघ माह की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी कहते हैं और इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत हो जाती है. नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से संवर जाती है. खेतों में सरसों के पीले फूलों की चादर बिछी होती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है 09:11 (IST)16 Feb 2021 कई शुभ संयोग बनेंगे आज वसंत पंचमी पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व पर तिथि, वार और ग्रह-नक्षत्रों से मिलकर 8 शुभ योग बन रहे हैं। इनके अलावा सरस्वती योग भी बन रहा है इसमें देवी शारदा की पूजा करना विशेष शुभ रहेगा।  08:28 (IST)16 Feb 2021 इन नामों से जाना जाता है… कुछ लोग बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहते हैं. साथ ही, सरस्वती पूजा के नाम से भी ये दिन जाना जाता है 07:59 (IST)16 Feb 2021 जानें पूजा का शुभ मुहूर्त… हिंदू पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी 2021, शुक्रवार को सुबह 3 बजकर 36 मिनट से शुरू होगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इससी समय से पंचमी तिथि आरंभ होगी। साथ ही, 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर पंचमी तिथि समाप्त हो जाएगी। 07:33 (IST)16 Feb 2021 नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ है दिन… बसंत पंचमी का दिन बेहद शुभ होता है और इस दिन किसी भी नए कार्य की शुरुआत की जा सकती है। 07:09 (IST)16 Feb 2021 मां सरस्वती को पीला रंग है पसंद… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 05:08 (IST)16 Feb 2021 संयम सत्य स्नेह का वर दे… सहस शील हृदय में भर दे, जीवन त्याग से भर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, माँ सरस्वती आपके जीवन में उल्लास भर दे 03:01 (IST)16 Feb 2021 वसंत पंचमी का त्योहार: वीणा लेकर हाथ में … वीणा लेकर हाथ में, सरस्वती हो आपके साथ में, मिले मां का आशीर्वाद आपको हर दिन, हर वार, हो मुबारक आपको वसंत पंचमी का त्योहार… . 20:51 (IST)15 Feb 2021 बसंत पंचमी के दिन न पहने इस रंग के कपड़े बसन्त पंचमी के दिन माता सरस्वती की पूजा सफ़ेद अथवा पीले रंग के वस्त्र पहनकर करना चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन काले अथवा लाल रंग का वस्त्र पहनकर माता सरस्वती की पूजा करना अशुभ होता है। 19:41 (IST)15 Feb 2021 कब करें बसंत पंचमी के दिन स्नान बसंत पंचमी के दिन सही समय पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन सुबह 3 बजकर 56 मिनट पर पंचमी का शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 3 बजकर 56 मिनट के बाद स्नान करना शुभ फलदायी होगा। 18:46 (IST)15 Feb 2021 दांपत्य जीवन में है अनबन तो बसंत पंचमी के दिन करें ये काम जिन लोगों के दांपत्य जीवन में अनबन चल रहा हो उन्हें सरस्वती पूजा के दिन पीले वस्त्र धारण कर पीले फूलों से मां सरस्वती की पूजा करने पर लाभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पति पत्नी को पान का सेवन जरुर करना चाहिए, इससे दांपत्य जीवन में प्यार का रस घुलता है। 17:57 (IST)15 Feb 2021 ज्ञान और कला की देवी हैं सरस्वती माता सरस्वती को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि उनकी आराधना से ज्ञान में बढ़ोतरी होती है। खासकर विद्यार्थियों को उनकी पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए। 17:29 (IST)15 Feb 2021 पीला रंग होता है मां सरस्वती का प्रिय… मां सरस्वती को भी पीला रंग काफी पसंद है इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा के दौरान मां को भी पीले रंग का वस्त्र ही चढ़ाया जाता है और साधक खुद भी पीले वस्त्र ही पहनते हैं. पीले रंग को उत्साह और उल्लास के साथ ही दिमाग की सक्रियता बढ़ाने वाला रंग भी माना जाता है 16:57 (IST)15 Feb 2021 जानें इस दिन का खास महत्व…. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन, देवी सती और भगवान कामदेव की षोडशोपचार पूजा करने से हर व्यक