ताज़ा खबर
 

Bada Mangal 2019: ज्येष्ठ मास का ‘बड़ा मंगल’ आज, जानिए हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए क्यों है यह खास

Bada Mangal 2019: कहते हैं कि जीर्णोद्धार के समय मंदिर के ऊपर लगाया गया प्रतीक चाँद-तारा का चिह्न आज भी मंदिर के गुंबज पर चमक रहा है।

Author नई दिल्ली | June 11, 2019 11:28 AM
हनुमान जी।

ज्येष्ठ मास का बड़ा मंगलवार समूचे भारत में पूरे धूमधाम से मनाया जाता है। मान्यता है कि यह पर्व केवल हिन्दू धर्म की आस्था का प्रतीक ही नहीं है बल्कि इसमें विभिन्न धर्म के लोग भी खुद को जुड़े हुए पाते हैं। साल 2019 में बड़ा मंगलवार 11 जून, मंगलवार यानि आज मनाया जा रहा है। ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष नवमी को पड़ने वाला यह बड़ा मंगलवार हनुमान जी की आराधना के लिए अत्यंत शुभ और लाभकारी माना जाता है। इसलिए इस अवसर पर भगवान हनुमान के भक्त पूरी निष्ठा से इनकी उपासना करते हैं। तो इसी कड़ी में आगे जानते हैं बड़ा मंगलवार हनुमान जी को प्रसन्न कर उनकी कृपा पाने के लिए क्यों खास है?

बड़ा मंगल के बारे में ऐसी मान्यता है कि इस दिन हनुमान जी आराधना की शुरुआत तकरीबन चार सौ साल पहले मुगल शासक ने की थी। इसके पीछे की कहानी यह है कि एक बार नवाब मोहम्मद अली शाह का बेटा गंभीर रूप से बीमार हो गया था। उनकी बेगम रूबिया ने उसका कई जगह इलाज कराया लेकिन वह ठीक नहीं हुआ। कहते हैं कि बेटे की सलामती की मन्नत मांगने के लिए वो लखनऊ के अलीगंज के पुराने हनुमान मंदिर गईं। पुजारी ने बेटे को मंदिर में ही छोड़ देने ले लिए ही कहा। पुजारी की बात सुनकर बेगम रूबिया अपने बेटे को मंदिर में छोड़कर चली गईं।

रूबिया को उसका बेटा पूरी तरह से स्वस्थ मिला। जिसके बाद रूबिया ने इस पुराने हनुमान मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया। कहते हैं कि जीर्णोद्धार के समय मंदिर के ऊपर लगाया गया प्रतीक चाँद-तारा का चिह्न आज भी मंदिर के गुंबज पर चमक रहा है। इस हनुमान मंदिर के जीर्णोद्धार के साथ ही मुगल ने उस समय ज्येष्ठ माह में पड़ने वाले मंगल को पूरे नगर में गुड़-धनियां (भुने हुए गेहूं में गुड़ मिलाकर) बनवाया और प्रसाद को बंटवाया। तभी से इस बड़े मंगल की परंपरा की शुरुआत हुई जो आज तक हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X