scorecardresearch

Krishna Janmashtami 2022: आज जन्माष्टमी पर बन रहे हैं शुभ संयोग, इन उपायों के जरिए श्री कृष्ण को करें प्रसन्न

पंचांग के अनुसार, जन्माष्टमी को प्रत्येक वर्ष भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि पर मनाया जाता है।

Krishna Janmashtami 2022: आज जन्माष्टमी पर बन रहे हैं शुभ संयोग, इन उपायों के जरिए श्री कृष्ण को करें प्रसन्न
Janmashtami 2022: जन्माष्टमी के अवसर पर किए जाने वाले अचूक उपाय

जन्माष्टमी हिंदुओं के सबसे प्रसिद्ध और प्रमुख त्योहारों में से एक है, जिसे भारत सहित पूरी दुनिया में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार भगवान श्री हरि विष्णु के 8वें अवतार भगवान कृष्ण को समर्पित है। जन्माष्टमी उस दिन के रूप में मनाई जाती है जब श्री कृष्ण का जन्म हुआ था।

सभी के चहेते कन्हैया की कृपा पाने के लिए यह पर्व बेहद खास माना जाता है। आज आपको जन्माष्टमी 2022 के बारे में सारी जानकारी देंगे, साथ ही इस साल जन्माष्टमी पर बनने वाले शुभ संयोगों के बारे में भी बताएंगे। तो चलिए बिना किसी देरी के इस त्योहार के बारे में और जानते हैं।

जन्माष्टमी 2022 की तिथि एवं पूजा मुहूर्त

19 अगस्त 2022, शुक्रवार

जन्माष्टमी मुहूर्त्त: निशीथकाल पूजा मुहूर्त: 24:03:00 से 24:46:42 तक

अवधि: 43 मिनट

जन्माष्टमी पारणा मुहूर्त: 05:52:03 के पश्चात (20 अगस्त)

जन्माष्टमी पर बनेंगे विशेष संयोग

हिंदू पंचांग के अनुसार 2022 की जन्माष्टमी त्योहार के कारण कई मायनों में बेहद खास है क्योंकि इस दिन 2 योग बनते हैं, एक है वृद्धी योग और दूसरा है ध्रुव योग। ये 2 योग भगवान कृष्ण की पूजा के लिए बहुत शुभ माने जाते हैं। जन्माष्टमी के दिन बनने वाले वृद्धी योग में यदि आप कोई कार्य करते हैं तो आपको सफलता मिलेगी।

वृद्धि योग का प्रारंभ: 17 अगस्त 2022 को रात 08.56 बजे से,
वृद्धि योग की समाप्ति: 18 अगस्त 2022 को रात 08.41 बजे।

धुव्र योग का प्रारंभ: 18 अगस्त 2022 को रात 08.41 बजे से,
धुव्र योग की समाप्ति: 19 अगस्त 2022 को रात 08.59 बजे तक।

लग्नधि योग:- इस योग में सूर्य का गोचर अपनी राशि में होता है, जो कि एक बहुत ही अच्छा योग है क्योंकि सूर्य व्यक्तित्व और आत्मा का कारक माना जाता है और सूर्य सरकारी नौकरी और सरकारी कार्यों का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए इस दिन सभी को लाल रोली को जल में डालकर तांबे के पात्र से जल चढ़ाने की सलाह दी जाती है।

जन्माष्टमी के दिन करें ये उपाय, पूरी होगी हर मनोकामना

ऐसा माना जाता है कि जन्माष्टमी की रात को मोह रत्रि माना जाता है क्योंकि भगवान कृष्ण सम्मोहन और आकर्षण के सबसे बड़े देवताओं में से एक हैं। शास्त्रों के अनुसार भगवान कृष्ण को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है और लक्ष्मी जी को उनकी पत्नी माना जाता है, इसलिए ऐसा माना जाता है कि इस दिन कुछ कारगर उपाय करने से मां लक्ष्मी की कृपा भक्तों पर बनीं रहती है और उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं:

  • स्नान के बाद आप भगवान कृष्ण को पीले फूलों से बनी एक माला अर्पित करें, इससे आपको माता लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त करने में मदद मिलेगी।
  • भगवान कृष्ण को पीतांबर धारी भी कहा जाता है और इसलिए जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण को पीले फल, पीले वस्त्र, पीले फूल और पीली मिठाई का भोग लगाएं, ऐसा करने से आपको कभी भी धन और प्रसिद्धि की कमी नहीं होगी।
  • जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण को साबूदाना सफेद मिठाई और खीर का भोग लगाएं। मिठाइयों में चीनी मिलाने की जगह ताल मिश्री का प्रयोग करें और खीर गर्म न होने पर भगवान को अर्पित करें और खीर में तुलसी का पत्ता अवश्य डालें, ऐसा करने से आपको कभी धन की कमी नहीं होगी, और सौभाग्य।
  • प्रेम प्रसंगों में सफल होने के लिए आपको जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण को पीली माला अर्पित करनी चाहिए, खोए की सफेद मिठाई अर्पित करनी चाहिए, ताल मिश्री के साथ शहद का भोग लगाना चाहिए और अपने प्रेम संबंधों में सफल होने के लिए भगवान कृष्ण की पूजा करनी चाहिए।
  • सभी चीजों में से भगवान कृष्ण की सबसे पसंदीदा माखन मिश्री है, इसलिए जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण को चढ़ाने के लिए प्रसाद के रूप में माखन मिश्री का उपयोग करना न भूलें और इस उपाय से माताओं या बहनों के लिए, संतान प्राप्ति के लिए योग जरूर बनते हैं।
  • जन्माष्टमी के दिन सुबह 12:00 बजे श्री कृष्ण का जन्म हुआ और आपको दूध में केसर और तुलसी के पत्ते डालकर भगवान कृष्ण का अभिषेक करना है ताकि माता लक्ष्मी कभी भी आपका घर न छोड़ें और आपके घर पर हमेशा अपनी कृपा बरसाए।
  • जो प्रेमी विवाह करना चाहते हैं, वे भगवान कृष्ण को पानी वाला नारियल और केले अर्पित कर सकते हैं और फिर आप मन ही मन प्रार्थना कर सकते हैं कि आपका अपने प्रेमी/प्रेमिका से विवाह हो जाए, साथ इस मंत्र “ॐ क्लीम कृष्णाय गोविंदाऐ वासुदेवाय गोपीजन वल्लभाये” का जाप करें। इस उपाय से आपको आपका प्यार जरूर मिल सकता है।
  • जन्माष्टमी के दिन यदि आप 27 दिनों तक लगातार भगवान कृष्ण को जटाओं वाला नारियल और 11 बादाम चढ़ाएं और उसमें तुलसी के पत्ते डालें, तो आपके सभी काम आसानी से पूर्ण हो जाएंगे।

पढें Religion (Religion News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट