ताज़ा खबर
 

कुंडली में हो अगर शनि प्रधान तो क्या कहती है आपकी विवाह रेखा

विवाह रेखा गहरी और लंबी होने पर भी कुंडली में शनि प्रधान लोगों का विवाह के प्रति कोई लगाव नहीं होता है।

प्रतीकात्मक फोटो

एक समय ऐसा आता है जिसमें हर किसी को जीवनभर साथ निभाने के लिए एक साथी की जरूरत होती है। विवाह करना सिर्फ एक सामाजिक जरूरत ही नहीं एक व्यक्ति को अपने-सुख दुःख बांटने के लिए भी किसी साथ की जरूरत होती है और एक जीवनसाथी से बेहतर कोई नहीं हो सकता है। हर कोई एक समय के बाद आपका साथ छोड़ना शुरू कर देता है। हर किसी की कुंडली में विवाह के लिए अलग संयोग होते हैं। उसके विवाह के संयोग बताती है उसकी विवाह रेखा और किसी की विवाह रेखा का अध्ययन करने से पहले ये जानने की जरूरत होती है कि व्यक्ति का हाथ किस ग्रह से प्रभावित है। विवाह रेखा हर किसी की अलग-अलग होती है और उनके प्रभाव भी अलग होते हैं। आज हम आपको बताने जा रहे है कि अलग-अलग विवाह रेखा पर अलग ग्रह के प्रभाव होने से उस व्यक्ति के वैवाहिक जीवन में क्या प्रभाव पड़ते हैं।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 15375 MRP ₹ 16999 -10%
    ₹0 Cashback
  • JIVI Revolution TnT3 8 GB (Gold and Black)
    ₹ 2878 MRP ₹ 5499 -48%
    ₹518 Cashback

विवाह रेखा सबसे छोटी उंगली के नीचे वाले भाग पर आड़ी स्थिति में होती है। छोटी उंगली के नीचे वाले भाग को बुध पर्वत कहा जाता है। विवाह रेखा एक या एक से अधिक भी हो सकती है। आपको बता दें जिन लोगों की कुंडली में बृहस्पति ग्रह प्रभावित होता है वो व्यक्ति विवाह करने को उत्सुक रहता है। हाथों में छोटी अवस्था में ही विवाह रेखा स्पष्ट हो जाती है। लेकिन अगर कुंडली में शनि देव प्रधान हैं तो व्यक्ति विवाह को पसन्द नहीं करेगा। यदि वह समाज में प्रतिष्ठित होगा तो उसके ये दुर्गुण छुपे रहेंगे। रिश्ते आने पर भी वो शादी नहीं करना चाहेगा। ऐसे लोग अपने जीवनसाथी से स्वभाविक प्रेम नहीं करते हैं। विवाह करने के पूर्व इनके किसी अन्य से भी किसी तरह के स्वभाविक प्रेम संबंध नहीं होते हैं। कभी-कभी जब शनि प्रधान लोगों के हस्त में ‘लगाव रेखा’ जीवन के मध्य आयु में पहुंचते-पहुंचते गहरी हो जाती है तो ये लोग विवाह की ओर झुकने लगते हैं।

शनि प्रधान लोगों के हाथ में शुक्र पर्वत भी पुष्ट हो और व्यक्ति के हृदय में भोग-विलास की इच्छा हो जाए तो वो व्यक्ति किसी एक जगह स्थायी संबंध रखना पसंद नहीं करते हैं। इसी तरह जब व्यक्ति की हस्त रेखाओं पर सूर्य प्रधान होगा तो वो व्यक्ति विवाह के लिए अति-उत्सुक होगा, परन्तु उनका वैवाहिक जीवन आनन्दमय नहीं होता है। बुध प्रधान व्यक्ति भी युवा होते ही विवाह करना चाहते हैं, लेकिन उनकी पसंद में बहुत ही ज्यादा नुक्ताचीनी होती है और वो बहुत मीन-मेख निकालते हुए जीवन साथी का चुनाव करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App