ताज़ा खबर
 

तुलसी के पत्तों से करें ये उपाय, दूर हो सकती हैं धन की परेशानियां

तुलसी का पौधा जितना घर के वातावरण को ठीक करता है उसी के साथ उसकी पत्तियां भी धन जैसी समस्याओं से निपटने में हमारी सहायता करती हैं।

Devutthana Ekadashi 2017: वास्तु के अनुसार तुलसी का पौधा देता है धन की परेशानियों से छुटकारा।

प्राचीन काल से तुलसी को घर में रखा जाता है। तुलसी के बहुत महत्वपूर्ण माना जाता रहा है। हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे की पूजा की जाती है। तुलसी के पौधे को हिंदू धर्म में पवित्र और धार्मिक पौधा माना जाता है। कई धार्मिक कथाओं में तुलसी का जिक्र किया गया है। तुलसी के पौधे के बारे में ज्योतिषियों का कहना है कि तुलसी का पौधा घर में बहुत शुभ होता है। तुलसी को भगवान कृष्ण के भोग में रखना जरूरी माना जाता है। हर रोज घर में तुलसी के पौधे के नीचे दीपक रखने से सुख-समृद्धि आती है। लेकिन तुलसी का पौधा कार्तिक माह में लगाया जाए तो इसका विशेष महत्व होता है।

हम कई बार सुनते हैं कई लोग मेहनत करते हैं लेकिन फिर भी उन्हें जीवन में तरक्की नहीं मिलती है। इस तरह की स्थिति जब जीवन में हो तब तुलसी आपकी सभी परेशानियों का रामबाण उपाय है। इसका प्रयोग करते ही इसका असर दिखने लगता है। तुलसी के प्रयोग से पैसे की समस्याएं दूर होती हैं। इसके साथ ही घर में चल रहे झगड़े आदि भी समाप्त हो जाते हैं। इसके लिए गुरुवार के दिन आटा पिसवाते समय गेहूं में 100 ग्राम चने, 11 तुलसी के पत्ते और केसर को मिला लें। इसके बाद ही आटा पिसवाएं। इस उपाय को करने से थोड़े ही समय में परेशानियों का अंत होने लगेगा।

तुलसी के पौधे पर प्रतिदिन सुबह शाम दिपक जलाने से भी व्यक्ति की परेशानियों का समाधान मिलता है और मनोकामनाएं भी पूरी होने लगती हैं। इसके साथ तुलसी के पत्तों के साथ एक तेल से चुपड़ी हुई रोटी कुत्ते को खिलाने से भी परेशानियों से छुटकारा मिलने लगेगा। पीपल की जड़ में दीपक जलाने से धन की कमी जैसी समस्याओं का समाधान होता है। इसके साथ ही रविवार के दिन तुलसी तो जल तो चढ़ा सकते हैं लेकिन उसके नीचे दीपक नहीं जला सकते। भगवान गणेश और मां दुर्गा को कभी भी तुलसी ना चढ़ाएं।

Next Stories
1 Chhath Puja 2017: जानिए किस दिन रखा जाएगा षष्ठी का व्रत और कब है छठ पर्व की मुख्य पूजा
2 Chhath Puja 2017: छठ पर्व पर जानिए नरेंद्र मोदी के विचार, बताया था अपने आप में एक संस्कार
3 भाई दूज 2017 व्रत कथा और पूजा समय: यहां जानिए क्या है कथा और क्यों किया जाता है इस दिन पूजन
ये पढ़ा क्या?
X