ताज़ा खबर
 

हाथ में हैं ऐसी रेखाएं तो कम उम्र में हो सकता है प्रेम

हथेली के अंगूठे के नीचे का हिस्सा और चंद्रमा का हिस्सा उठा हुआ है तो ऐसे लोग हमेशा दोस्तों से घिरे रहते हैं

Author Published on: November 17, 2017 2:53 PM

मनुष्य के हाथ में तीन रेखाएं मुख्यतः रूप से दिखाई देती हैं। मस्तिष्क रेखा, हृदय रेखा और जीवन रेखा। इसी के आधार पर ज्योतिष विद्या के अनुसार व्यक्ति के जीवन में भविष्य में क्या घटित होने उन्ही पर निर्भर करता है। कई बार बच्चों की जिंदगी में क्या चल रहा है वो हम जानना चाहते हैं लेकिन बच्चों के दिमाग की बाते पढ़ पाना संभव ना होने के कारण कई बार माता-पिता और बच्चों में दूरियां बढ़ जाती हैं। इन दूरियों के बढ़ने के कारण कई बार बच्चे गलत रास्तों पर भी चले जाते हैं या किसी गलत संगत में भी पड़ जाते हैं। जिसके कारण उनका भविष्य भी खराब हो सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा माना जाता है कि हमारा हाथ दिमाग का नक्शा होता है। इससे ये भी पता चलता है कि दिमाग की कितनी क्षमता है और ये भी बच्चा या किसी व्यक्ति के जीवन में क्या चल रहा है।

यदि मस्तिषक रेखा अधिक लंबी है और हथेली के अंत तक जाती है तो बच्चा बहुत ही भावनात्मक और कल्पनाशील होता है। यदि इस प्रकार के बच्चों की भावनाओं को समझा ना जाए तो वो विद्रोही हो जाते हैं या डिप्रेशन में चले जाते हैं। ऐसे बच्चों को सफलता मुश्किल से मिलती है। ऐसे बच्चों को हमेशा अटेंशन चाहिए होती है, माता-पिता को चाहिए कि उन्हें प्यार से समझाएं लेकिन इतना भी नहीं कि वो हमेशा ही इस तरह का व्यवाहार करने लगें। ऐसे बच्चों को गले में ठोस चांदी की गोली पहना कर रखें। यदि मस्तिषक रेखा हाथ के बीच में आकर खत्म हो रही हो तो वो बच्चा अधिक क्रोधी होता है और हर काम अपने अनुसार करवाने की इच्छा रखता है। साथ ही इस तरह के बच्चे अपनी बात किसी के सामने नहीं रखते हैं। माता-पिता को उनकी इस बात को समझना चाहिए और उसे एक्सप्रसिव बनाने की कोशिश करनी चाहिए जिससे उसका जीवन में कभी आत्मविश्वास कम नहीं हो।

हथेली के अंगूठे के नीचे का हिस्सा और चंद्रमा का हिस्सा उठा हुआ है तो ऐसे लोग हमेशा दोस्तों से घिरे रहते हैं और वो कम उम्र में रिश्तों यानि प्रेम प्रसंग में पड़ जाते हैं। ये रेखाएं जिनके हाथ में होती हैं वो कम उम्र में ही प्रेम आदि में पड़कर कई बार गलत कदम उठा लेते हैं। ऐसे में माता-पिता को बच्चों के साथ दोस्ती करनी चाहिए और समय-समय पर उनसे उनके जीवन के बारे में पूछते रहना चाहिए। कुछ बच्चे बहुत महत्वकांक्षी होते हैं तो उनके अंगूठे के नीचे से रेखाएं निकलती हैं और इसके साथ रिंग फिंगर के नीचे भी रेखाएं होती हैं। ऐसे बच्चों के सपने बड़े होते हैं और वो जीवन में नाम और बहुत सारा धन कमाने की इच्छा रखते हैं। यदि मस्तिषक रेखा हाथ के बीच से सीधी जा रही है कोई गोलाव नहीं बना रही है तो वो बच्चा बहुत प्रेक्टीकल होता है। वो सिर्फ अपनी सोच ऊपर रखता है, किसी ओर की सुनना उसे पसंद नहीं होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मार्गशीर्ष अमावस्या 2017: कब है अगहन अमावस्या, जानिए क्या है इस अमावस्या का महत्व
2 ब्यूटी प्रोडक्टस से भी नहीं आ रहा चेहरे पर निखार, शुक्र ग्रह हो सकते हैं जिम्मेदार, ये उपाय करेंगे प्रसन्न
3 कर्जों से चाहिए मुक्ति तो करें शंख से भगवान कृष्ण का पूजन
जस्‍ट नाउ
X